NDTV Khabar

Holi 2019: इस दरगाह में हिंदू-मुस्लिम एक साथ खेलते हैं होली, जुलूस निकालकर ऐसे मनाते हैं जश्न

Holi 2019: हाजी बाबा (Haji Baba) कहे जाने वाले सूफी वारिस अली शाह की दरगाह के गेट के पास हर साल हिंदू और मुसलमान मिलकर होली के उल्लास में डूब जाते हैं और यह परंपरा देवा की होली (Dewa ki Holi) को बाकी स्थानों से अलग करती है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Holi 2019: इस दरगाह में हिंदू-मुस्लिम एक साथ खेलते हैं होली, जुलूस निकालकर ऐसे मनाते हैं जश्न

इस दरगाह में हिंदु-मुस्लिम एक साथ खेलते हैं होली

बाराबंकी:

Holi 2019: 'जो रब है, वही राम' का संदेश देने वाले सूफी संत हाजी वारिस अली शाह (Haji Waris Ali Shah) की देवा स्थित दरगाह के परिसर में हर साल हिंदुओं और मुसलमानों द्वारा खेली जाने वाली होली (Holi) उनके इस पैगाम की तस्दीक करती है. बड़े अदब से हाजी बाबा (Haji Baba) कहे जाने वाले सूफी वारिस अली शाह की दरगाह के गेट के पास हर साल हिंदू और मुसलमान मिलकर होली के उल्लास में डूब जाते हैं और यह परंपरा देवा की होली (Dewa ki Holi) को बाकी स्थानों से अलग करती है.

Holi 2019: आज मुबारक, कल मुबारक, आपको होली का हर रंग मुबारक, Happy Holi के शानदार Messages

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के देवा कस्बे में स्थित हाजी वारिस अली शाह की दरगाह (Haji Waris Ali Shah Dargah) पर रोजाना हजारों की तादाद में जायरीन आकर दुआ मांगते हैं. इनमें बड़ी संख्या में गैर मुस्लिम श्रद्धालु भी शामिल होते हैं. यह दरगाह पूरे देश में सांप्रदायिक भाईचारे और सद्भाव के प्रतीक के तौर पर जानी जाती है.


भाईचारे की अटूट परंपरा को पिछले करीब 4 दशक से संभाल रहे शहजादे आलम वारसी ने बताया कि हाजी बाबा का यह आस्ताना देश की शायद ऐसी पहली दरगाह है जहां होली के दिन हिंदू और मुसलमान एक साथ गुलाल उड़ाकर होली का जश्न मनाते हैं. इस दौरान हिंदुस्तान की गंगा जमुनी तहजीब की शानदार झलक नजर आती है. 

20 मार्च को है होलिका दहन, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, व्रत कथा और महत्व

वारसी ने बताया कि दरगाह के बाहर बने कौमी एकता गेट पर होली के दिन चाचर का जुलूस (Cachar ka Juloos) निकाला जाता है जिसमें दोनों समुदायों के लोग हिस्सा ले लेते हैं. इस तरह वे हाजी बाबा के 'जो रब है वही राम' के संदेश को उसके मूल रूप में परिभाषित करते हैं.

स्थानीय निवासी राम अवतार ने बताया कि हाजी बाबा की दरगाह पर होली खेलने का रिवाज वह बचपन से देख रहे हैं. यहां आकर इसे देखकर यह महसूस होता है कि हमारी गंगा जमुनी तहजीब कितनी मजबूत है और मुल्क तथा क़ौम की तरक्की के लिए ऐसी परंपराओं को हमेशा बनाए रखना होगा. हालांकि यह परंपरा कब से शुरू हुई इस बारे में कोई पुख्ता जानकारी उपलब्ध नहीं है.

Holi 2019: कैसे हुई लट्ठमार होली खेलने की शुरुआत, मथुरा में किन्हें कहते हैं 'होरियारे'?

मगर हाजी बाबा के मानने वालों में बहुत बड़ी संख्या गैर मुस्लिमों की है और खुद हाजी बाबा सभी धर्मों का बराबर सम्मान करते थे, लिहाजा यह माना जाता है कि उनके मुरीदों ने उनकी इस सोच को और आगे बढ़ाते हुए दरगाह के गेट के पास हर साल गुलाल से होली खेलने की परंपरा है.

टिप्पणियां

VIDEO: बनारस के घाट पर होली का रंग



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement