Holi 2020: बरसाना की लट्ठमार होली इस बार होगी बेहद खास, श्रद्धालुओं को मिलेंगी ये सुविधाएं

बरसाना की लट्ठमार होली को राजकीय मेले का दर्जा दिया गया है और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसका शुभारम्भ करेंगे.

Holi 2020: बरसाना की लट्ठमार होली इस बार होगी बेहद खास, श्रद्धालुओं को मिलेंगी ये सुविधाएं

Holi 2020: बरसाना की लट्ठमार होली बहुत प्रसिद्ध है

मथुरा:

Holi: मथुरा में ढाल और लाठियों से खेली जानी वाली बरसाना की अद्भुत लट्ठमार होली (Lathmar Holi) एक बार फिर पर्यटन का विशेष आकर्षण बनने जा रही है. बरसाना की लट्ठमार होली (Holi) को राजकीय मेले का दर्जा दिए जाने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार आगामी चार मार्च को इसके आयोजन के लिए व्यापक तैयारियां कर रही है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बरसाना की लट्ठमार होली का शुभारम्भ करेंगे. वे यहां नन्दगांव से आने वाली ध्वजा का पूजन कर लट्ठमार होली का औपचारिक उद्घाटन करेंगे.

यह भी पढ़ें: वृंदावन की होली होगी खास, चढ़ावे के फूलों से बने गुलाल का होगा इस्तेमाल

राज्य सरकार के कैबिनेट मंत्री एवं छाता क्षेत्र (जिसमें बरसाना कस्बा भी आता है) के विधायक चौधरी लक्ष्मी नारायण ने मंगलवार को बताया, "मुख्यतः संस्कृति एवं पर्यटन विभाग के सौजन्य से आयोजित किए जाने वाले इस मेले की सफलता के लिए राज्य के सभी विभाग एवं जिले का हर कार्यालय अपना पूरा योगदान दे रहा है. बरसाना और नन्दगांव की लट्ठमार होली सहित ब्रज के सभी होली कार्यक्रमों की तैयारियां युद्धस्तर पर की जा रही हैं."

उन्होंने बताया, "चार मार्च को लट्ठमार होली के आयोजन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मथुरा आ रहे हैं. चाक-चौबंद सुरक्षा व्यवस्था की जा रही है. पूरे मेला परिसर पर सीसीटीवी से नजर रखी जाएगी. पूरा इलाका ड्रोन कैमरों की मदद से पुलिस की निगरानी में रहेगा."

विधायक चौधरी लक्ष्मी नारायण ने बताया, "सोमवार को बरसाना के रंगीली महल में होली की तैयारियों को लेकर आयोजित बैठक में सभी विभागों की प्रगति की समीक्षा कर ताकीद की गई है कि शेष कार्य इसी सप्ताह पूरे हो जाने चाहिए."

जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने बताया, "मेले में 10 अलग-अलग स्थानों पर विशाल एलईडी डिस्प्ले लगाकर पर्यटकों एवं श्रद्धालुओं की भीड़ का दबाव बढ़ने नहीं दिया जाएगा."

उन्होंने बताया, "बरसाना में प्रवेश के हर मार्ग पर स्वागत द्वार बनाए जा रहे हैं. कुंड, सरोवर, पोखर, तालाब, गोवर्धन ड्रेन सहित सभी सार्वजनिक स्थलों की सजावट की जा रही है. पर्याप्त संख्या में जन-सुविधाएं, पेयजल, पुलिस सहायता केंद्र, खोया-पाया सेंटर और स्वास्थ्य सुविधाएं स्थापित की जा रही हैं."

मथुरा-वृन्दावन विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं ब्रजतीर्थ विकास परिषद के सीईओ नागेंद्र प्रताप ने बताया, "दो सौ मीटर ऊंचे ब्रह्मांचल पर्वत की चोटी पर स्थित राधारानी मंदिर के दर्शन के लिए रोप-वे का निर्माण किया जा रहा है जो अगले साल तक पूरा हो जाने की उम्मीद है."

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर ने बताया, "मेले में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं. पुलिस के अलावा बड़ी संख्या में सादे कपड़ों में सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया जाएगा. मेले के दिनों में बड़े वाहन और दुपहिया वाहन बरसाना में प्रवेश नहीं कर सकेंगे. पुलिस, प्रशासन, अन्य जरूरी सेवाओं के वाहनों के लिए ऐसी यातायात व्यवस्था की जा रही है जिससे आम पर्यटकों को असुविधा न हो."

पर्यटन विभाग के निदेशक एनजी रविकुमार ने बताया, "बरसाना की लट्ठमार होली और ब्रज के अन्य होली कार्यक्रमों का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है. विभाग की वेबसाइट पर मथुरा के सभी होली आयोजनों की तिथिवार सूची प्रदर्शित की गई है. तमाम सार्वजनिक स्थलों सहित हवाई अड्डों पर भी होर्डिंग लगाए जा रहे हैं, जिनमें सभी आयोजनों की जानकारी देते हुए पर्यटकों को आमंत्रित किया जाएगा."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

जिला पर्यटन अधिकारी धर्मेंद्र कुमार शर्मा ने बताया, "27 फरवरी को महावन के रमणरेती स्थित कार्षणि उदासीन आश्रम में रंगों की वर्षा, 3 मार्च को अष्टमी के दिन बरसाना में लड्डू होली, 4 मार्च को बरसाना में लट्ठमार होली, 5 मार्च को दशमी के दिन नन्दगांव व रावल गांव में लट्ठमार होली, 6 मार्च को श्रीकृष्ण जन्मभूमि एवं ठाकुर बांके बिहारी मंदिर में क्रमशः सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं होली, 7 मार्च को गोकुल में छड़ीमार होली का आयोजन होगा."

उन्होंने बताया, "9 मार्च को गांव फालैन में जलती हुई होली से पंडा का निकलना, इसी दिन दोपहर में द्वारिकाधीश मंदिर से होली के डोला का नगर भ्रमण तथा सायंकाल होलिका दहन होगा. 10 मार्च को द्वारिकाधीश मंदिर में टेसू फूल के रंग तथा अबीर गुलाल की होली, 10 मार्च को ही संपूर्ण मथुरा जनपद क्षेत्र में अबीर, गुलाल की होली, 11 मार्च को दाऊजी का हुरंगा और मुखराई गांव में चरकुला नृत्य का आयोजन होगा. गांवों में हुरंगा आयोजन जारी रहेंगे."