शिवरात्रि से पहले काशी महाकाल एक्‍सप्रेस की सेवा शुरू, तीन ज्योतिर्लिंगों को आपस में जोड़ेगी ट्रेन

Kashi Mahakal Express: महाकाल के पहले यात्रियों को आईआरसीटीसी की ओर से आकर्षक उपहार भी दिए जाएंगे.

शिवरात्रि से पहले काशी महाकाल एक्‍सप्रेस की सेवा शुरू, तीन ज्योतिर्लिंगों को आपस में जोड़ेगी ट्रेन

काशी महाकाल एक्‍सप्रेस वाराणसी से इंदौर के बीच चलेगी

नई दिल्ली:

काशी महाकाल एक्सप्रेस (Kashi Mahakal Express) का आधिकारिक सफर गुरुवार यानी आज से शुरू हो रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 फरवरी को चंदौली के पड़ाव से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था. ये ट्रेन वाराणसी से इंदौर के बीच चलेगी, जो तीन ज्योतिर्लिंगों (श्री ओम्कारेश्वर, श्री महाकालेश्वर और काशी विश्वनाथ) को आपस में जोड़ेगी. 

यह भी पढ़ें: जानिए शिवरात्रि का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, व्रत कथा और महत्‍व 
 

rhoo14vg

आईआरसीटीसी (IRCT) काशी महाकाल एक्सप्रेस का शुभारंभ महाशिवरात्रि (Mahashivratri) के एक दिन पहले यानी 20 फरवरी से शुरू हो रहा है. देश की तीसरी कॉरपोरेट ट्रेन कैंट रेलवे स्टेशन से दोपहर 2.45 बजे इंदौर के लिए रवाना होगी और दूसरे दिन सुबह 9.40 बजे इंदौर पहुंच जाएगी. महाकाल के पहले यात्रियों को आईआरसीटीसी की ओर से आकर्षक उपहार भी दिए जाएंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रविवार को वाराणसी से काशी महाकाल एक्सप्रेस को रवाना किए जाने के बाद इसे लेकर राजनीति भी शुरू हो गई थी.

दरअसल, इस ट्रेन में एक सीट भगवान शिव के लिए आरक्षित की गई थी और उस सीट पर भगवान शिव की पूजा की गई थी. इसे लेकर एआईएमआईएम के प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा. बाद में आईआरसीटीसी ने सफाई दी कि कोई भी सीट भगवान शिव के लिए रिजर्व नहीं की गई है, सिर्फ ट्रेन की शुरुआत से पहले रेलवे के कुछ कर्मचारियों ने पूजा अर्चना की थी.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)