Muharram 2019: मुहर्रम पर अपनों को शेयर करें ये Messages

Muharram 2019: मुहर्रम (Muharram) इस्‍लामी महीना है और इससे इस्‍लाम धर्म के नए साल की शुरुआत होती है. इस बार मुहर्रम का महीना 01 सितंबर से 28 सितंबर तक है. लेकिन 10वें मुहर्रम को हजरत इमाम हुसैन की याद में मुस्लिम मातम मनाते हैं. 

Muharram 2019: मुहर्रम पर अपनों को शेयर करें ये Messages

Muharram पर अपनों को शेयर करें ये Messages

Muharram 2019: मुहर्रम (Muharram) इस्‍लामी महीना है और इससे इस्‍लाम धर्म के नए साल की शुरुआत होती है. इस बार मुहर्रम का महीना 01 सितंबर से 28 सितंबर तक है. लेकिन 10वें मुहर्रम को हजरत इमाम हुसैन की याद में मुस्लिम मातम मनाते हैं. मान्‍यता है कि 10वें मोहर्रम के दिन ही इस्‍लाम की रक्षा के लिए हजरत इमाम हुसैन ने अपने प्राण त्‍याग दिए थे. वैसे तो मुहर्रम इस्‍लामी कैलेंडर का महीना है लेकिन आमतौर पर लोग 10वें मोहर्रम को सबसे ज्‍यादा तरजीह देते हैं. इस बार 10वां मोहर्रम 10 सितंबर को है. इस दिन को रोज-ए-आशुरा (Roz-e-Ashura) कहते हैं. यहां पर हम आपको मुहर्रम से जुड़ी हुई शायरी और विचार बता रहे हैं जिन्हें आप अपने करीबियों या फिर दोस्त को भी भेज सकते हैं.

Muharram 2019: आखिर मुहर्रम के दिन क्‍यों मनाया जाता है मातम?

Muharram 2019 Shayari, Images And Quotes

क्‍या हक अदा करेगा ज़माना हुसैन का 
अब तक ज़मीन पर कर्ज़ है सजदा हुसैन का 
झोली फैलाकर मांग लो मुमीनो 
हर दुआ कबूल करेगा दिल हुसैन का

0lgesul

सलाम या हुसैन
अपनी तकदीर जगाते हैं मातम से 
खून की राह बिछाते हैं तेरे मातम से 
अपने इज़हार-ए-अकीदत का सलीका ये है
हम नया साल मनाते हैं तेरे मातम से  

ibulp6qg

जन्‍नत की आरज़ू में 
कहां जा रहे हैं लोग 
जन्‍नत तो करबला में 
खरीदी हुसैन ने 
दुनिया-ओ-आखरात में 
जो रहना हो चैन से 
जीना अली से सीखो 
मरना हुसैन से  

jr3n2p8g

नज़र गम है नज़रों को बड़ी तकलीफ होती है
बगैर उनके नज़रों को बड़ी तकलीफ होती है 
नबी कहते थे अकसर के अकसर ज़‍िक्र-ए-हैदर से
मेरे कुछ जान निसारों को बड़ी तकलीफ होती है

vstcin18

सजदा से करबला को बंदगी मिल गई 
सबर से उम्‍मत को ज़‍िंदगी मिल गई
एक चमन फातिमा का गुज़रा 
मगर सारे इस्‍लाम को ज़‍िंदगी मिल गई.  

esvl8mgg

कत्‍ल-ए-हुसैन असल में मार्ग-ए-यजीद है
इस्‍लाम ज़‍िंदा होता है हर करबला के बाद  

c3ogv95o

जब भी कभी ज़मीर का सौदा हो
कायम रहो दोस्‍तों हुसैन के इंकार की तरह  

fo31cafg

सिर गैर के आगे न झुकाने वाला 
और नेजे पर भी कुरान सुनाने वाला 
इस्‍लाम से क्‍या पूछते हो कौन हुसैन? 
हुसैन है इस्‍लाम को बनाने वाला   

0djnq6k

न हिला पाया वो रब की मेहर को 
भले जीत गया वो कायर जंग 
पर जो मौला के दर पर शहीद हुआ 
वही था असली और सच्‍चा पैगम्‍बर  

glmkeif8

क्‍या जलवा कर्बला में दिखाया हुसैन ने
सजदे में जाकर सिर कटाया हुसैन ने 
नेजे पर सिर था और जबान पर आयतें 
कुरान इस तरह सुनाया हुसैन ने  

7ics99jg
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com