NDTV Khabar

केरल के पद्मनाभ स्वामी मंदिर में शुरू हुआ ‘मुराजपम’, मकर संक्राति के दिन होगा समापन

सदियों पुरानी इस परंपरा का समापन 15 जनवरी को मकर संक्राति के दिन होगा और उस दिन मंदिर परिसर में तेल के एक लाख दीये जलाए जाएंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
केरल के पद्मनाभ स्वामी मंदिर में शुरू हुआ ‘मुराजपम’, मकर संक्राति के दिन होगा समापन

केरल के पद्मनाभ स्वामी मंदिर में 56 दिन लंबा ‘मुराजपम’

तिरुवनंतपुरम:

केरल के प्रसिद्ध पद्मनाभ स्वामी मंदिर में सदियों पुरानी रीति ‘मुराजपम' की शुरुआत हुई है जो 56 दिन तक चलेगी. यह पूजा छह साल में एक बार होती है.

गुरुवार से शुरु हुई इस पूजा के दौरान योगशेमा और ब्राह्मण सभा के प्रतिनिधियों के अलावा श्रृंगेरी, पेजावर और कांचीपुरम के 200 से ज्यादा विद्वान ऋगवेद, यजुर्वेद और सामवेद की ऋचाओं का पाठ करेंगे.

सदियों पुरानी इस परंपरा का समापन 15 जनवरी को मकर संक्राति के दिन होगा और उस दिन मंदिर परिसर में तेल के एक लाख दीये जलाए जाएंगे.

मंदिर प्रबंधन सूत्रों ने बताया कि इस रिवाज की शुरुआत 18वीं सदी में त्रावणकोर के राजा मार्तंड वर्मा ने की थी.

गुरुवार रात को पूजा की शुरुआत पर मंदिर और पद्मनाभतीर्थ तालाब रोशनी से नहा उठे थे और पंडितो ने वहां ‘जलजाप' किया.

आस्था से जुड़ी और खबरें...


Utpanna Ekadashi 2019: आज है उत्‍पन्ना एकादशी, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विध‍ि, व्रत कथा और महत्‍व

सौहार्द और सहिष्णुता की मिसाल हैं गोंडा के वजीरगंज के ये मंदिर-मस्जिद

टिप्पणियां

गणेश पूजा में क्यों नहीं चढ़ाई जाती तुलसी?

Kartarpur Corridor और Gurdwara Darbar Sahib की शानदार तस्वीरें, देखिए यहां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement