NDTV Khabar

Navratri 2018: मन में शांति लाता है मां दुर्गा का दूसरा रूप, जानिए ब्रह्मचारिणी के बारे में सबकुछ

Navratri 2018 Day 2: ब्रह्मचारिणी या तपश्चारिणी (Brahmacharini) माता का यही रूप कठोर परिश्रम की सीख देता है, कि किसी भी चीज़ को पाने के लिए तप करना चाहिए. बिना कठिन तप के कुछ भी प्राप्त नहीं हो सकता.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Navratri 2018: मन में शांति लाता है मां दुर्गा का दूसरा रूप, जानिए ब्रह्मचारिणी के बारे में सबकुछ

मां दुर्गा का दूसरा रूप है ब्रह्मचारिणी

नई दिल्ली: Navratri 2018: नवरात्रि के दूसरे दिन मां दुर्गा (Maa Durga) के रूप ब्रह्मचारिणी (Brahmacharini) की पूजा की जाती है. मान्यता के अनुसार इन्हें तप की देवी कहा जाता है. क्योंकि इन्होंने भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की थी. वह सालों तक भूखे प्यासे रहकर शिव को प्राप्त करने के लिए इच्छा पर अडिग रहीं. इसीलिए इन्हें तपश्चारिणी के नाम से भी जाना जाता है. ब्रह्मचारिणी या तपश्चारिणी माता का यही रूप कठोर परिश्रम की सीख देता है, कि किसी भी चीज़ को पाने के लिए तप करना चाहिए. बिना कठिन तप के कुछ भी प्राप्त नहीं हो सकता.

Navratri 2018: नवरात्रि पर मां के भक्तों को भेजें ये शानदार मैसेजेस, ऐसे कहें Happy Navratri

जानिए ब्रह्मचारिणी माता की कहानी
माता ब्रह्मचारिणी पर्वतराज हिमालय की पुत्री हैं. देवर्षि नारद जी के कहने पर उन्होंने भगवान शंकर की पत्नी बनने के लिए तपस्या की. इन्हें ब्रह्मा जी ने मन चाहा वरदान भी दिया. इसी तपस्या की वजह से इनका नाम ब्रह्मचारिणी पड़ा. इसके अलावा मान्यता है कि माता के इस रूप की पूजा करने से मन स्थिर रहता है और इच्छाएं पूरी होती हैं. 

Navratri 2018: शारदीय नवरात्रि हुए शुरू, जानिए पूरे 9 दिनों मां दुर्गा के किन रूपों की होगी पूजा

माता ब्रह्मचारिणी को ऐसे पहचानें
मां दुर्गा के दूसरे रूप ब्रह्मचारिणी माता के एक हाथ में जप की माला और दूसरे में कमंडल रहता है. वह किसी वाहन पर सवार नहीं होती बल्कि पैदल धरती पर खड़ी रहती हैं. सिर पर मूकुट के अलावा इनका श्रृंगार कमल के फूलों से होता है. हाथों के कंगन, गले का हार, कानों के कुंडल और बाजूबंद सभी कुछ कमल के फूलों का होता है.

टिप्पणियां
Navratri 2018: नवरात्रि व्रत के दौरान इन 10 बातों का रखें ध्यान, जानिए नवरात्र उपवास के सभी नियम

ऐसे करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा
जय अंबे ब्रह्माचारिणी माता 
जय चतुरानन प्रिय सुख दाता 
ब्रह्मा जी के मन भाती हो 
ज्ञान सभी को सिखलाती हो
ब्रह्मा मंत्र है जाप तुम्हारा 
जिसको जपे सकल संसारा 
जय गायत्री वेद की माता
जो मन निस दिन तुम्हें ध्याता 
कमी कोई रहने न पाए
कोई भी दुख सहने न पाए
उसकी विरति रहे ठिकाने 
जो ​तेरी महिमा को जाने
रुद्राक्ष की माला ले कर
जपे जो मंत्र श्रद्धा दे कर 
आलस छोड़ करे गुणगाना 
मां तुम उसको सुख पहुंचाना
ब्रह्माचारिणी तेरो नाम
पूर्ण करो सब मेरे काम
भक्त तेरे चरणों का पुजारी 
रखना लाज मेरी महतारी
 

नवरात्रि से जुड़ी बाकी खबरें

नवरात्रि के दौरान हर घर में बजती हैं मां दुर्गा की ये 7 आरतियां, YouTube पर भी देख चुकें हैं करोड़ों लोग
Navratri 2018: नवरात्रि पर मां के भक्तों को भेजें ये शानदार मैसेजेस, ऐसे कहें Happy Navratri
Navaratri 2018: कलश स्‍थापना क्‍यों और कैसे की जाती है, जानिए सामग्री और शुभ मुहूर्त भी
Navratri 2018: शारदीय नवरात्रि हुए शुरू, जानिए पूरे 9 दिनों मां दुर्गा के किन रूपों की होगी पूजा
Navratri 2018: नवरात्रि शुरू, जानिए शुभ मुहूर्त, कलश स्‍थापना की विधि, व्रत विधान और दुर्गा पूजा का महत्‍व
Navratri 2018: नवरात्रि के पहले दिन ऐसे करें मां शैल पुत्री की पूजा, जानिए मंत्र, कवच और स्तोत्र पाठ
Happy Navratri 2018: नवरात्रि के इन 9 दिनों में ऐसा होना चाहिए आपका Facebook और Whatsapp Status
नवरात्र 2018: जहां तवायफ के कोठे की मिट्टी से तैयार होती हैं दुर्गा मां की मूर्तियां
Navratri 2018: नवरात्रि व्रत के दौरान इन 10 बातों का रखें ध्यान, जानिए नवरात्र उपवास के सभी नियम
Navratri 2018: नवरात्रि में मां दुर्गा को खिलाएं उनका मनपसंद खाना, नौ दिनों में चढ़ाएं नौ तरह का भोग
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement