माघ मेले में भीख मांगने की नहीं होगी इजाजत, रोक लगाने के लिए विशेष दस्ते का गठन

पुलिस ने पहले ही 1,200 से अधिक लोगों के परिचय पत्र का सत्यापन किया है, लेकिन भिखारी अज्ञात जगहों से अक्सर पहुंच जाते हैं और मेला क्षेत्र में भक्तों से भीख लेने के लिए जमा हो जाते हैं.

माघ मेले में भीख मांगने की नहीं होगी इजाजत, रोक लगाने के लिए विशेष दस्ते का गठन

माघ मेला में भीख मांगने की नहीं होगी इजाजत

प्रयागराज:

Magh Mela 2020: वार्षिक माघ मेला (Magh Mela) शुरू होने में सिर्फ पांच दिन शेष रह गए हैं, ऐसे में अधिकारी तीर्थयात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. पहली बार पुलिस ने मेला क्षेत्र में भीख मांगने पर रोक लगाने के लिए एक विशेष दस्ते का गठन किया है.

पुलिस ने पहले ही 1,200 से अधिक लोगों के परिचय पत्र का सत्यापन किया है, लेकिन भिखारी अज्ञात जगहों से अक्सर पहुंच जाते हैं और मेला क्षेत्र में भक्तों से भीख लेने के लिए जमा हो जाते हैं.

एसपी (माघ मेला) पूजा यादव ने कहा, "पहली बार तीर्थयात्रियों को परेशानी से बचाने के लिए एंटी बेगिंग दस्ते का गठन किया गया है. सभी पुलिस थानों और चौकियों पर पर्याप्त बलों की तैनाती की गई है."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

खुफिया सूचनाओं के अनुसार, असामाजिक तत्व भिखारियों के वेष में मेला क्षेत्र में प्रवेश कर सकते हैं क्योंकि क्षेत्र व विभिन्न धार्मिक शिविरों में निर्बाध आवागमन की इजाजत होगी, जो 43 दिन चलने वाले मेले के लिए बनाए गए हैं.

एसपी ने कहा, "हमारे पास ठोस योजना है. तीन विशेष टीमों को परिचय पत्र के सत्यापन का काम सौंपा गया है. हमारे श्रद्धालुओं के लिए दो स्तरीय सुरक्षा योजना है. इसके अलावा सभी घाटों पर गहरे जल क्षेत्र को लेकर बैरिकेडिंग व जाल की भी व्यवस्था की गई है."