NDTV Khabar

Pitru Paksha shradh 2018: श्राद्ध के दिन क्या करें और क्या नहीं, जानिए यहां

Pratipada Sraddha 2018: गणेश विसर्जन और अनंत चतुर्दशी के बाद शुरू होते हैं श्राद्ध (Sraddha). हर साल श्राद्ध भाद्रपद शुक्लपक्ष पूर्णिमा से शुरू होकर अश्विन कृष्णपक्ष अमावस्या तक चलते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Pitru Paksha shradh 2018: श्राद्ध के दिन क्या करें और क्या नहीं, जानिए यहां

श्राद्ध के दिन क्या करें और क्या नहीं, जानिए यहां

नई दिल्ली: Pratipada Sraddha 2018: गणेश विसर्जन और अनंत चतुर्दशी के बाद शुरू होते हैं श्राद्ध (Sraddha). हर साल श्राद्ध भाद्रपद शुक्लपक्ष पूर्णिमा से शुरू होकर अश्विन कृष्णपक्ष अमावस्या तक चलते हैं. इसी दौरान पितरों को पिंडदान कराया जाता है. कई लोग अपने घरों में ही पूजा-पाठ और खाना बनाकर पितरों को भोजन कराते हैं तो कुछ विष्णु का नगर यानी गया में जाकर अपने पूर्वजों का पिंडदान करते हैं. बता दें, हिंदू धर्म में पितृ ऋृण से मुक्ति के लिए श्राद्ध (Shraddha)  मनाया जाता है. क्योंकि हिंदू शास्त्रों में पिता के ऋृण को सबसे बड़ा और अहम माना गया है. पितृ ऋृण के अलावा हिन्दू धर्म में देव ऋृण और ऋषि ऋृण भी होते हैं, लेकिन पितृ ऋृण ही सबसे बड़ा ऋण है. इस ऋृण को चुकाने में कोई गलती ना हो इसीलिए यहां श्राद्ध (Shradh) के दिन क्या करें और क्या नहीं, के बारे में बताया जा रहा है. 

Anant Chaturdashi: विष्‍णु के अनंत स्‍वरूप की उपासना का दिन है अनंत चतुर्दशी, जानिए पूजा विधि और व्रत कथा

टिप्पणियां
श्राद्ध के दिन क्या करें और क्या नहीं
1. श्राद्ध हमेशा दोपहर के बाद ही करें जब सूर्य की छाया आगे नहीं पीछे हो. कभी भी ना सुबह और ना ही अंधेरे में श्राद्ध करें. 
2. श्राद्ध पूरे 16 दिन के होते हैं. इस दौरान ब्राह्मणों को भोजन कराकर दान दें, ऐसा करना शुभ माना जाता है. 
3. ब्राह्मणों को लोहे के आसन पर बिठाकर पूजा ना करें और ना ही उन्हें केले के पत्ते पर भोजन कराएं. 
4. पिंडदान करते वक्त जनेऊ हमेशा दाएं कंधे पर रखें. 
5. पिंडदान करते वक्त तुलसी जरूर रखें. 
6. कभी भी स्टील के पात्र से पिंडदान ना करें, बल्कि कांसे या तांबे या फिर चांदी की पत्तल इस्तेमाल करें. 
7. पिंडदान हमेशा दक्षिण दिशा की तरफ मुंह करके ही करें. 
8. पिता का श्राद्ध बेटा ही करे या फिर बहू करे. पोते या पोतियों से पिंडदान ना कराएं.
9. श्राद्ध करने वाला व्यक्ति श्राद्ध के 16 दिनों में मन को शांत रखें.
10. श्राद्ध हमेशा अपने घर या फिर सार्वजनिक भूमि पर ही करे. किसी और के घर पर श्राद्ध ना करें.  

Ganesh Visarjan: जानिए अनंत चतुर्दशी के दिन गणेश विसर्जन का शुभ मुहूर्त, पूजा विध‍ि और महत्‍व


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement