कुंभ मेले को हिट बनाने के लिए व‍िदेशों में रोड शो कर रही है यूपी सरकार

कुंभ में अप्रवासी भारतीयों और विदेशी सैलानियों को आकर्षित करने के लिए लंदन के ऑक्सफोर्ड स्ट्रीट, पार्क लेन समेत कई प्रमुख स्थानों पर रोड शो किए.

कुंभ मेले को हिट बनाने के लिए व‍िदेशों में रोड शो कर रही है यूपी सरकार

कुंभ मेले के प्रचार के ल‍िए सरकार की ओर से 100 से अधिक देशों में रोड शो किया जाएगा.

खास बातें

  • यूपी सरकार कुंभ मेले को सफल बनाने में जुट गई है
  • इसके लिए व‍िदेशों में रोड शो क‍िए जा रहे हैं
  • सरकार का मकसद अप्रवासी भारतीयों को आकर्ष‍ित करना है
इलाहाबाद:

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अब इलाहाबाद में होने वाले कुंभ मेले की ब्रांडिंग करने की कवायद शुरू कर दी है. इससे पहले सरकार द्वारा इन्वेस्टर्स समिट को सफल बनाने के लिए देश में कई जगहों पर रोड शो का आयोजन हुआ था, ठीक उसी तर्ज पर अब सरकार ने कुंभ मेले की ब्रांडिंग के लिए विदेशों में बसे अप्रवासी भारतीयों को आकर्षित करने की मुहिम शुरू कर दी है. 

इलाहाबाद में कुंभ से पहले 300 करोड़ रुपये में बनेगा कलश रूपी संग्रहालय

इसके लिए सरकार की ओर से 100 से अधिक देशों में रोड शो किया जाएगा. अधिकारियों के मुताबिक, इसकी शुरुआत लंदन से हो चुकी है. कुंभ को सांस्कृतिक धरोहर घोषित किए जाने के बाद अब सरकार इसके वैश्विक स्तर पर प्रचार-प्रसार में जुट गई है. मेले की ब्रांडिंग के लिए लगभग 100 देशों में रोड शो होंगे.

कुंभ मेला सलाहकार समिति के सदस्य राकेश शुक्ला की मानें तो समिति ने  कुंभ में अप्रवासी भारतीयों और व‍िदेशी सैलानियों को आकर्षित करने के लिए लंदन के ऑक्सफोर्ड स्ट्रीट, पार्क लेन समेत कई प्रमुख स्थानों पर रोड शो किए.

उत्तर प्रदेश के सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के बाद अब दिखाना होगा कुंभ मेले का 'लोगो'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग ने 100 से अधिक देशों के राष्ट्राध्यक्षों को निमंत्रण भेजा है. शुक्ला ने बताया कि उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग कुंभ मेले को ऐतिहासिक बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता. 

विदेशी सैलानियों की सहूलियत के लिए ब्रेड व ब्रेकफास्ट योजना की शुरुआत की गई है. इसके अलावा 50 हेक्टेयर में टेंट सिटी बसाने की तैयारी चल रही है. इसमें 5000 स्विस कॉटेज व 20 हजार विदेशी सैलानियों के लिए डॉर्मिटरी का निर्माण होगा. विदेशी सैलानियों की सुविधा के लिए 20 भाषाओं में मार्गदर्शक बोर्ड लगाए जाएंगे.