NDTV Khabar

... जानिए क्यों शनिवार के दिन पीपल के पेड़ पर चढ़ाया जाता है कच्चा दूध

कर्मों का फल देने वाले शनिदेव भी हमारे ग्रहों की दशा को हिला सकते हैं. इसी वजह से उनके पूजा-पाठ पर विशेष ध्यान रखा जाता है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
... जानिए क्यों शनिवार के दिन पीपल के पेड़ पर चढ़ाया जाता है कच्चा दूध

क्यों चढ़ाया जाता है पीपल के पेड़ पर दूध?

खास बातें

  1. शनिवार को की जाती है पीपल के पड़ की पूजा
  2. सूर्योदय से पहले की गई पूजा का मिलता है लाभ
  3. दूध चढ़ाने के बाद पेड़ की सात बार की जाती है परिक्रमा
नई दिल्ली: ग्रहों की खराब दशा अच्छे-अच्छे को अर्श से फर्श पर ला देती है. इनसे ना सिर्फ आपके घर में कलेश बढ़ता है बल्कि खराब ग्रह जीवन से सारी खुशियां समाप्त कर देते हैं. इसीलिए कई लोग अपने इन ग्रहों को शांत रखने के लिए तमाम उपाय करते हैं. पूजा-पाठ दान पूण्य सब करते हैं. इसमें से एक है शनिदेव की पूजा. कर्मों का फल देने वाले शनिदेव भी हमारे ग्रहों की दशा को हिला सकते हैं. इसी वजह से उनके पूजा-पाठ पर विशेष ध्यान रखा जाता है. 

शनिदेव की मूर्ति पर तेल चढ़ाने की वजह जानकर दंग रह जाएंगे आप...

इसी वजह से शनिवार के दिन पीपल के पेड़ और कच्चे दूध का बड़ा महत्व होता है. ऐसी मान्यता है कि हर शनिवार पीपल के पेड़ पर कच्चा दूध चढ़ाने से सभी ग्रह शांत हो जाते हैं, खासकर राहु-केतु, शनि और पितृ दोष. इसी वजह से खास मंत्रों के साथ शनिवार को लोग पीपल के पेड़ की पूजा करते हैं.

शनिवार के दिन भूलकर भी न खरीदें ये सामान, वरना...​

इस तरह की जाती है पूजा:
 
peepal

1. सबसे पहले पीपल के पेड़ पर कच्चा दूध चढ़ाएं.
2. दूध चढ़ाने के बाद पेड़ की सात बार परिक्रमा करें.
3. परिक्रमा करने के बाद सूर्य देव और भगवान शिव की पूजा करें. 
4. पेड़ पर चढ़ाए हुए दूध या साथ ले गए लोटे से पानी को दोनों नेत्रों पर लगाएं. 
5. नेत्रों पर लगाने के बाद 'पितृ देवाय नम:' मंत्र का जाप करें.
6. ये पूजा सूर्योदय से पहले हो तो अधिक लाभ मिलता है.  

टिप्पणियां
इनके अलावा भी शनिदव की कृपा के लिए उनके मंदिर में हर शनिवार सरसों के तेल का दीपक जला सकते हैं.  

देखें वीडियो - हाजी अली दरगाह में महिलाओं की एंट्री की लड़ाई
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement