NDTV Khabar

शनि जयंती पर विशेष- न्याय के देवता से जुड़ी मान्यताएं

इस मौके पर उनकी पूजा करना बेहद शुभ और लाभकारी माना जाता है. शनि को सरलता से प्रसन्न नहीं किया जा सकता. लेकिन मान्यता है कि आज के दिन उनकी पूजा अर्चना करन से वे प्रसन्न होते हैं

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शनि जयंती पर विशेष- न्याय के देवता से जुड़ी मान्यताएं
टिप्पणियां
शनि न्याय के देवता हैं. मान्यता है कि वे मनुष्य को उनके कर्मों के हिसाब से फल देते हैं. भले ही लोगों में उनको लेकर भय होता है, लेकिन शनि न सिर्फ बुरे फल देने वाले हैं, बल्कि वे अच्छे फल भी देते हैं. मान्यता है कि शनि मनुष्य के कर्मों के अनुसार न्याय करते हैं और वे राजा को रंक तो रंक को राजा बना सकते हैं. आज शनि जयंती है. इस मौके पर उनकी पूजा करना बेहद शुभ और लाभकारी माना जाता है. शनि को सरलता से प्रसन्न नहीं किया जा सकता. लेकिन मान्यता है कि आज के दिन उनकी पूजा अर्चना करन से वे प्रसन्न होते हैं... 

मान्यताएं
  • शनि सूर्य पुत्र हैं. लेकिन शनि और सूर्य परस्पर शत्रु माने जाते हैं. मान्यता है कि सूर्य और शनि की युति प्रतियुति जीवन में  संघर्ष बढ़ा देती है.

  • आज के दिन शनि की पूजा करना शुभ माना जाता है, लेकिन साथ ही यह मान्यता भी है कि आज सूर्य की पूजा नहीं करनी चाहिए. 

  • शनि जयंती पर बुजुर्गों और जरुरतमंदों की सेवा और सहायता करना शुभ माना जाता है. 

  • मान्यता है कि शनि जयंती पर सूर्य उदय से पहले शरीर पर सरसों का तेल लगाकर नहाना चाहिए. 

  • इस दिन काले रंग की लोहे की चौंकी पर काला वस्त्र बिछा कर शनि के पूजन का प्रावधान भी है. 

  • कहते हैं कि इस दिन कुष्ठरोगियों की सहायता करने और अंधों को खाने-पीने की वस्तुएं दान करने से पुण्य मिलता है. 

  • मान्यता है कि शनि देव को काला रंग बहुत पसंद है. 

  • शनि जयंती पर सरसों के तेल का दीपक जलाया जाता है. इस दिन नीले या काले फूलों से शनि पूजन करने की भी मान्यता है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement