NDTV Khabar

नहीं हुआ था रावण का अंतिम संस्कार, इस गुफा में आज भी मौजूद है शव!

एक रिसर्च में श्रीलंका में 50 ऐसे स्थल खोजने का दावा किया गया है जिनका संबंध रामायण से है. इसी रिसर्च में निकलकर आया है कि रावण का शव एक गुफा में रखा गया था.

898 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
नहीं हुआ था रावण का अंतिम संस्कार, इस गुफा में आज भी मौजूद है शव!

श्रीलंका रैगला के जंगलों के बीच मौजूद एक पहाड़.

खास बातें

  1. श्रीलंका का इंटरनेशनल रामायण रिसर्च सेंटर ने खोजीं 50 जगह.
  2. रिसर्च में निकलकर आया है कि रावण का शव एक गुफा में रखा गया था.
  3. शव को रावण के भाई विभिषण को सौंपा गया था.
नई दिल्ली: श्रीलंका में आज भी रामायण से जुड़े कई ऐतिहासिक स्थल मौजूद हैं, जो बीते हुए रामायण काल के इतिहास की गवाही देते हैं. पूरे देश में रामलीला का दौर शुरू हो चुका है. मान्यता है कि नवरात्र के दसवें दिन भगवान राम ने रावण का वध किया था, इसलिए इस विजयदशमी मनाई जाती है. इसके ठीक 20 दिन बाद भगवान राम अयोध्या लौटे थे तब दीवाली मनाई गई थी. बता दें कि एक रिसर्च में श्रीलंका में 50 ऐसे स्थल खोजने का दावा किया गया है जिनका संबंध रामायण से है.

पढ़ें- भारत की 5 जगह जहां राम नहीं, रावण की पूजा होती है

इसी में निकलकर आया है कि रावण का शव एक गुफा में रखा गया था. जो श्रीलंका रैगला के जंगलों के बीच मौजूद है. श्रीलंका का इंटरनेशनल रामायण रिसर्च सेंटर और वहां के पर्यटन मंत्रालय ने मिलकर ये खोज की थी. आइए जानते हैं इस गुफा के बारे में...

पढ़ें- ये हैं रावण के वो 7 सपने जो रह गए अधूरे

इस बात को तो सभी जानते हैं कि जब भगवान श्रीराम और लंकाधिपति रावण के बीच युद्ध हुआ था, तब राम के हाथों रावण का वध हुआ था और यह भी जानते हैं कि रावण के अंतिम संस्कार के लिए उसके शव को रावण के भाई विभिषण को सौंपा गया था.

पढ़ें- ऑफिस में प्रमोशन चाहते हैं तो याद रखें रावण की 3 बातें, सफल होना तय है

विभिषण को लंकाधिपति रावण का शव सौंपे जाने के बाद रावण का अंतिम संस्कार हुआ भी था या नहीं इस बात को शायद कोई नहीं जानता है. दावा है कि यहां रावण की गुफा है, जहां उसने तपस्या की थी. उसी गुफा में आज भी रावण का शव सुरक्षित रखा हुआ है. रैगला के इलाके में रावण की यह गुफा 8 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित है. 
 
ashok vatika

रावण ने यहां रखा था सीता को

अशोक वाटिका वो जगह है जहां रावण ने माता सीता को रखा था. आज इस जगह को सेता एलीया के नाम से जाना जाता है, जो की नूवरा एलिया नामक जगह के पास स्थित है. यहां आज सीता का मंदिर है और पास ही एक झरना भी है. इस झरने के आसपास की चट्टानों पर हनुमान जी के पैरों के निशान भी मिलते हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement