Solar Eclipse 2018: जानिए सूर्य ग्रहण के बारे में क्‍या कहता है विज्ञान

साल 2018 का दूसरा सूर्य ग्रहण शुक्रवार 13 जुलाई को लगने वाला है.

Solar Eclipse 2018: जानिए सूर्य ग्रहण के बारे में क्‍या कहता है विज्ञान

Solar Eclipse: साल 2018 का दूसरा सूर्य ग्रहण शुक्रवार 13 जुलाई को लगने वाला है.

खास बातें

  • साल 2018 का दूसरा सूर्य ग्रहण शुक्रवार 13 जुलाई को लगने वाला है.
  • सूर्य ग्रहण की अवधि 2 घंटे 25 मिनट तक है.
  • सूर्यग्रहण 7 बजकर 18 मिनट पर शुरू होगा और बजकर 13 मिनट तक रहेगा.
नई दिल्ली:

Solar Eclipse: साल 2018 का दूसरा सूर्य ग्रहण शुक्रवार 13 जुलाई को लगने वाला है. ये सूर्य ग्रहण सुबह 7 बजे से शुरू होकर 9 बजकर 44 मिनट में खत्‍म होगा. वहीं, ग्रहणकाल का सूतक लगभग 12 घंटे पहले लगेगा.  इससे पहले 15 फरवरी को साल 2018 का पहला सूर्य ग्रहण लगा था. सूर्य ग्रहण के बाद 27 जुलाई को सदी का सबसे लंबा चंद्र ग्रहण लगेगा. इसके बाद अगले महीने यानी कि अगस्‍त में साल का तीसरा सूर्य ग्रहण भी लगने वाला है. 

क्या है सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse 2018):
पृथ्वी अपनी धुरी पर निरंतर घुमते रहने के साथ-साथ सौरमंडल में सूर्य का चक्कर भी लगाती है. जब सूर्य व पृथ्वी के बीच में चन्द्रमा आ जाता है तो वह सूरज की कुछ या सारी रोशनी रोक लेता है. जिससे धरती पर साया फैल जाता है. इसी घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है.

Surya Grahan 2018: साल का दूसरा सूर्य ग्रहण कल, करें ये 3 काम

सूर्य ग्रहण (Surya Grahan 2018) को लेकर क्या है मान्यता
सूर्य ग्रहण को लेकर हमारे देश में कई प्रकार की मान्यताएं हैं. मान्यता के अनुसार, ग्रहणकाल में किसी भी देवी-देवता का मूर्ति को छूना नहीं चाहिए. देवी-देवताओं की मूर्ति के अलावा ग्रहण में किसी पौधे की पत्तियों को नहीं छूना चाहिए.

एक मान्यता के अनुसार ग्रहण काल में सब्जी काटना, सूई धागा से काम करने से जन्म लेने वाले शिशु में शारीरिक दोष होनेकी संभावना ज्यादा रहती है. कहा जाता है कि  सूर्य ग्रहण के समय में सूरज को खुली आंखों से नहीं देखना चाहिए.

Newsbeep

Surya Grahan 2018: सूर्यग्रहण के वक्त भूलकर भी ना करें ये काम, ऐसे करें दीदार

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


विज्ञान की नजर से सूर्य ग्रहण (Surya Grahan 2018)
विज्ञान के अनुसार, सूर्य ग्रहण के दौरान खतरनाक सोलर रेडिएशन निकलता है. यह सोलर रेडिएशन आंखों के नाजुक टिशू को नुकसान पहुंचा सकता है. इससे आपकी आंखें खराब भी हो सकती हैं.  इसे रेटिनल सनबर्न के नाम से जाना जाता है.