NDTV Khabar

शिव जी की इस मुश्किल परीक्षा को पार कर विष्णु को मिला था सुदर्शन चक्र

खास बात यह कि जिस दिन यह चक्र भगवान विष्णु को मिला उस दिन को बैकुंठ चतुर्दशी के पर्व के तौर पर मनाया जाता है. क्या है इस चक्र की पूरी कहानी जानिए यहां.

123 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
शिव जी की इस मुश्किल परीक्षा को पार कर विष्णु को मिला था सुदर्शन चक्र

सुदर्शन चक्र की कहानी

खास बातें

  1. संसार में सबसे शक्तिशाली अस्त्र
  2. भगवान शिव ने ली परीक्षा
  3. विष्णु जी को कमलनयन भी कहा जाता है.
नई दिल्ली: भगवान शिव और विष्णु से जुड़ी कई कहानियां पढ़ने को मिलती हैं उन्हीं में से एक है सुदर्शन च्रक की कहानी. संसार में सबसे शक्तिशाली इस चक्र को भगवान शिव ने ही विष्णु जी को दिया था. खास बात यह कि जिस दिन यह चक्र भगवान विष्णु को मिला उस दिन को बैकुंठ चतुर्दशी के पर्व के तौर पर मनाया जाता है. क्या है इस चक्र की पूरी कहानी जानिए यहां.

पढ़े ये भी - ...तो इसीलिए आज भी अधूरी है पुरी के जगन्‍नाथ की मूर्ति

एक पौराणिक कथा के अनुसार एक बार भगवान विष्णु शिवजी का पूजन करने के लिए काशी गए. वहां के मणिकार्णिका घाट पर स्नान कर विष्णु जी ने एक हजार स्वर्ण कमल फूलों से भगवान शिव की पूजा का संकल्प लिया. इस बीच शिवजी ने भी भगवान विष्णु की भक्ति की परीक्षा लेने के लिए एक कमल का फूल कम कर दिया. विष्णु जी ने भी एक फूल की कमी देख अपनी आंख को शिव जी को चढ़ाने का संकल्प लिया. क्योंकि भगवान विष्णु जी की आंखों को कमल के समान सुंदर माना जाता है इसीलिए उन्हें कमलनयन और पुण्डरीकाक्ष भी कहा जाता है. 

पढ़े ये भी - क्‍यों दी जाती है दक्ष‍िणा? क्यों इसके बिना यज्ञ में फल नहीं मिलता?

विष्णु जी जैसे ही अपनी आंख भगवान को चढ़ाने के लिए तैयार हुए, वैसे ही वहां स्वंय शिवजी प्रकट हुए और बोले कि इस पूरे संसार में तुम्हारे समान मेरा कोई दूसरा भक्त नहीं है. उस दिन कार्तिक शुक्ल चतुर्दशी थी लेकिन खुद भगवान शिव ने कहा कि अब से इस दिन को पूरा संसार बैंकुठ चतुर्दशी के रुप में मनाएगा. साथ ही कहा कि जो इस व्रत के दिन पहले आपका और बाद में मेरा पूजन करेगा उसे बैकुंठ लोक की प्राप्ति होगी. भगवान शिव ने विष्णु जी से प्रसन्न होकर सुदर्शन चक्र भी प्रदान किया और कहा कि तीनों लोकों में इसकी बराबरी करने वाला कोई अस्त्र नहीं होगा. यह अकेला चक्र राक्षसों का विनाश करने में सक्षम होगा. 

देखें वीडियो - स्‍वर्ण मंदिर में सफाई का मुख्‍य सार सेवा और आस्‍था से जुड़ा​




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement