NDTV Khabar

Surya Grahan 2018: सूर्यग्रहण के बाद जरूर करें ये 6 काम

Surya Grahan 2018: 13 जुलाई को सुबह 7 बजे शुरू हुआ सूर्यग्रहण (Solar Eclipse). यह साल का दूसरा सूर्यग्रहण था जो लगभग 2 घंटे 44 मिनट तक रहा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Surya Grahan 2018: सूर्यग्रहण के बाद जरूर करें ये 6 काम

सूर्यग्रहण के बाद जरूर करें ये 6 काम

खास बातें

  1. 13 जुलाई को हुआ साल का दूसरा सूर्यग्रहण
  2. 2 घंटे 44 मिनट तक रहा सूर्यग्रहण
  3. ग्रहणकाल का सूतक लगभग 12 घंटे पहले लगा
नई दिल्ली : Surya Grahan 2018: 13 जुलाई को सुबह 7 बजे शुरू हुआ सूर्यग्रहण (Solar Eclipse). यह साल का दूसरा सूर्यग्रहण था जो लगभग 2 घंटे 44 मिनट तक रहा. यह ग्रहण सुबह 7 बजे से शुरू होकर 9 बजकर 44 मिनट तक रहा. वहीं, ग्रहणकाल का सूतक लगभग 12 घंटे पहले लगा. ग्रहण के दौरान लोग ग्रहण के दुषप्रभाव से बचने के लिए कई तरीकों को आज़माते हैं. जैसे सूर्य ग्रहण लगने से पहले दूध-दही जैसी चीजों में तुलसी के पत्ते डाल देना, ग्रहण से पहले ही सारा खाना खाकर खत्म करना, सोना नहीं, सब्जियों या फलों को ना काटना और घर में बंद रहना. 

Surya Grahan 2018: सूर्यग्रहण के वक्त भूलकर भी ना करें ये काम, ऐसे करें दीदार

लेकिन क्या आप जानते सूर्यग्रहण के बाद भी लोग ऐसे ही कुछ कामों को करते हैं. क्योंकि लोगों का मानना है कि ग्रहण के बुरे प्रभाव से खुद को और अपने घर को बचाने के लिए कुछ उपाय किये जाना जरूरी है. यहां आप भी जानें कि आखिर वो कौन-से ऐसे काम हैं जिन्हें लोग ग्रहण के बाद किया करते हैं. 

इस महीने लगेगा सदी का सबसे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण

1. लोगों की मान्यता है कि ग्रहण के तुरंत बाद किसी भी काम को करने से पहले नहाना चाहिए. 
2. सिर्फ खुद को ही नहीं बल्कि घर में मंदिर में मौजूद सभी भगवानों की मूर्तियों को भी नहलाना या फिर गंगाजल छिड़कना चाहिए. 
3. मूर्तियों और खुद को नहलाने के बाद पूरे घर में धूप-बत्ती कर शुद्धीकरण किया जाना चाहिए.
4. घर में या बाहर मौजूद तुलसी के पौधे को भी गंगाजल डालकर स्वच्छ करना चाहिए. 
5. कुछ लोग तो अपने घरों को भी पानी से धो डालते हैं. 
6. मान्यता है कि ग्रहण के बाद मन की शुद्धी के लिए दान-पुण्य भी करना चाहिए.

टिप्पणियां
Solar Eclipse 2018: 13 जुलाई को साल का दूसरा सूर्य ग्रहण, जानिए क्‍या करें और क्‍या नहीं?

साथ ही जानें क्या होता है सूर्यग्रहण?
पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमने के साथ-साथ अपने सौरमंडल के सूर्य के चारों ओर भी चक्कर लगाती है. दूसरी ओर, चंद्रमा दरअसल पृथ्वी का उपग्रह है और उसके चक्कर लगता है, इसलिए, जब भी चंद्रमा चक्कर काटते-काटते सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है, तब पृथ्वी पर सूर्य आंशिक या पूर्ण रूप से दिखना बंद हो जाता है. इसी घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement