भारत में इन पेड़ और पौधों का है आध्यात्मिक महत्व, इनसे जुड़ी है लोगों की आस्था

हिंदू संस्कृति में विभिन्न पौधों और पेड़ों को पवित्र और शुभ माना जाता है और हम उन पेड़ों की पूजा करते हैं. लोग बुराई और नकारात्मक चीजों को अपने घर से दूर रखने के लिए घरों के बाहर या पास में इन पेड़ों को लगाते भी हैं.

भारत में इन पेड़ और पौधों का है आध्यात्मिक महत्व, इनसे जुड़ी है लोगों की आस्था

भारत में इन पेड़ और पौधों का है आध्यात्मिक महत्व, इनसे जुड़ी है लोगों की आस्था

नई दिल्ली:

हिंदू संस्कृति में विभिन्न पौधों और पेड़ों को पवित्र और शुभ माना जाता है और हम उन पेड़ों की पूजा करते हैं. लोग बुराई और नकारात्मक चीजों को अपने घर से दूर रखने के लिए घरों के बाहर या पास में इन पेड़ों को लगाते भी हैं. इस वजह से इन पेड़ों का बहुत बड़ा धार्मिक महत्व है. अगर आप हिंदू धर्म की पवित्र पुस्तकों पढ़ेंगे, तो आपको पता चलेगा कि ऐसे कई पेड़ हैं, जिन्हें दिव्य वृक्ष कहा गया है. इस आधुनिक युग में भी लोगों को अभी भी उन पेड़ों पर विश्वास है. तो आइए जानते हैं उन पेड़ों- पौधों के बारे में जिनका हमारे देश में आध्यात्मिक महत्व है और कैसे इन पेड़ों से लोगों को लाभ मिल सकता है...

पीपल का पेड़(Peepal Tree)

पीपल के पेड़ को हिंदू परंपरा के अनुसार सबसे पवित्र और दिव्य पेड़ों में से एक माना जाता है. इस पेड़ को भगवान हनुमान और भगवान शनि के मंदिर के आसपास पाया जाता है. माना जाता है कि शनिवार के दिन इस पेड़ की पूजा करने से सौभाग्य की प्राप्ति हो सकती है. मान्यता है कि विशेष रूप से शनिवार को  देवी लक्ष्मी इस पेड़ पर निवास करती हैं. बौद्ध धर्म में भी लोग पीपल के पेड़ की पूजा करते हैं और इसे बोधि वृक्ष के रूप में संदर्भित करते हैं, क्योंकि भगवान बुद्ध ने इस वृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त किया था. इसके अलावा  जिनके पास 'शनि दोष' है, वे लोग पीपल के पेड़ के पास तिल के तेल का दीया जलाते हैं.

tulsi plant and vastu

तुलसी का पेड़(Tulsi Plant)

लगभग हर घर में पवित्र तुलसी का पौधा होता है. इसका उपयोग हर धार्मिक कार्य में किया जाता है. इसे नकारात्मक ऊर्जा को दूर रखने में सक्षम कहा जाता है. लोग सभी अवसरों पर तुलसी की पूजा करते हैं. घर के आंगन में तुलसी का पौधा उगाना एक अच्छा शगुन माना जाता है. भक्तों का मानना ​​है कि तुलसी के पौधे से बनी माला मन की शांति प्राप्त करने में मदद कर सकती है. इतना ही नहीं, तुलसी के पौधे के कुछ औषधीय लाभ भी हैं, जैसे कि इसकी पत्तियों को खाली पेट चबाने से पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद मिल सकती है. यह विभिन्न चोटों और त्वचा संबंधी रोगों को भी ठीक कर सकता है.

मास्टर प्लान में बद्रीनाथ का पौराणिक, आध्यात्मिक महत्व बना रहे : PM मोदी

बरगद का पेड़(Banyan Tree)

हिंदू धर्म में बरगद के पेड़ के महत्व के बारे में बताने वाले कई शास्त्र और धार्मिक विश्वास हैं. भक्तों का मानना ​​है कि यह त्रिमूर्ति यानी भगवान विष्णु, भगवान ब्रह्मा और भगवान शिव का प्रतीक है. यह दीर्घायु और शक्ति का भी प्रतीक है. इस पेड़ की पूजा करने से लोगों को लंबे और स्वस्थ जीवन का आशीर्वाद मिल सकता है. कई मौकों पर बरगद के पेड़ की पूजा की जाती है. महिलाएं अपने पति और बच्चों के लंबे और स्वस्थ जीवन के लिए इस पेड़ की पूजा करती हैं.

केले का पेड़(Banana Tree)

ज्ञान के अनुसार, केला एक पेड़ नहीं है, लेकिन लोग इसके आकार के कारण इसे एक पेड़ के रूप में संदर्भित करते हैं. यह हिंदू संस्कृति में सबसे उपयोगी और शुभ वृक्ष माना जाता है. इस वृक्ष का प्रत्येक भाग अन्य प्रयोजनों के लिए उपयोग किया जाता है. यह भगवान विष्णु का भी प्रतीक है और अक्सर इसकी पूजा की जाती है. स्वागत द्वार बनाने और सजाने के लिए भी लोग इसके पत्तों का इस्तेमाल करते हैं. पत्तियों का उपयोग भगवान के लिए चढ़ाए गए पत्तल के रूप में किया जाता है. साथ ही  लोग कई मौकों पर इसे खाने की पत्तल के रूप में इस्तेमाल करते हैं. महिलाएं बृहस्पतिवार के व्रत के दिन केले के पेड़ की पूजा करती हैं.

कमल(Lotus)

कमल को देवी लक्ष्मी, सरस्वती और भगवान ब्रह्मा सहित कई देवताओं का पसंदीदा फूल माना जाता है. यह पवित्रता, सुंदरता, तपस्या और दिव्यता का प्रतीक है. कमल के फूल को भगवान की अभिव्यक्ति के रूप में भी देखा जाता है. फूल लक्ष्मी, भाग्य, धन, समृद्धि और सुंदरता की देवी का भी प्रतीक है. ऐसी मान्यता है कि कमल का फूल अर्पित करने से भक्तों को सौभाग्य और आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त हो सकता है.

बंगाल में मनाया गया महालया का पर्व, अधिमास के कारण एक महीने बाद होगी दुर्गा पूजा

बेल का पेड़(Bael Tree)

बेल का पेड़ काफी शुभ होता है और इसकी पत्तियों का उपयोग भगवान शिव की पूजा के लिए किया जाता है. इस वृक्ष के त्रिफूल के पत्तों का उपयोग विभिन्न अवसरों पर भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है. किंवदंती है कि, तीन पत्तियां भगवान शिव की तीन आंखों का प्रतीक हैं. यह भी माना जाता है कि पत्ते तीन मुख्य हिंदू देवताओं अर्थात् भगवान ब्रह्मा, विष्णु और शिव और उनकी शक्ति अर्थात् सृष्टि, संरक्षण और विनाश का प्रतीक हैं. इसके अतिरिक्त बेल के पेड़ में कुछ औषधीय गुण भी होते हैं और इसके फल को काफी स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है.

शमी का पेड़ (Shami tree)

शमी वृक्ष भी हिंदू संस्कृति के अनुसार शुभ वृक्षों में से एक है. ऐसा कहा जाता है कि यह पेड़ मनुष्यों को उनके कर्मों के अनुसार पुरस्कार देता है. भक्त हमेशा भगवान शनि को नाराज करने वाली चीजों से बचने की कोशिश करते हैं. इसके लिए वे अपने घरों के सामने या अपने आंगन में शमी का वृक्ष भी लगाते हैं. ऐसा कहा जाता है कि शमी वृक्ष की पूजा सुबह, विशेष रूप से शनिवार को करने से लोगों को सौभाग्य की प्राप्ति होती है. साथ ही, इस तरह से भगवान शनि प्रसन्न होंगे और उन्हें बुराइयों से बचाएंगे.

चंदन का पेड़(Sandalwood tree)

हिंदू संस्कृति के हमारे पवित्र ग्रंथों में चंदन के पेड़ के महत्व का उल्लेख किया गया है. पूजा के दौरान, चंदन की लकड़ी से बना पेस्ट और तेल का अर्क अक्सर भगवान को चढ़ाया जाता है. शुद्धता सुनिश्चित करने के लिए, लोग शुभ अवसरों पर चंदन का उपयोग करते हैं. चंदन के पेस्ट के साथ बेल के पत्ते चढ़ाने से भगवान शिव और देवी पार्वती को प्रसन्न करने में मदद मिलती है. ऐसा माना जाता है कि चंदन के पेड़ की खुश्बू बहुत दूर तक जाती है.

वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने शुरु की "पूजा प्रसाद" होम डिलीवरी सेवा

bamboo

बांस का पेड़(Bamboo)

बांस भी एक पेड़ नहीं है, लेकिन इस देश में काफी शुभ माना जाता है. अक्सर पूजा और अन्य अवसरों के दौरान लोग देवताओं को खुश करने और घर की बुराइयों को दूर करने के लिए बांस की छड़ें और उससे बनी टोकरियों का उपयोग करते हैं. यहां तक ​​कि भगवान कृष्ण की बांसुरी (बांसुरी) भी बांस से बनी है और इसलिए भक्त इसे काफी शुभ मानते हैं.

अशोक का पेड़(Ashoka Tree)


रों के आसपास अक्सर अशोक के पेड़ आसानी से दिख जाते हैं. इस वृक्ष के नाम का अर्थ है, जिसका कोई दुःख नहीं है. पेड़ काफी सीधा है, सदाबहार है, बहुत लंबा नहीं है और हरे पत्ते हैं. वृक्ष उर्वरता, समृद्धि, खुशी और प्रेम का प्रतीक है. भक्तों का मानना ​​है कि यह वृक्ष प्रेम के देवता भगवान कामदेव को समर्पित है. इस पेड़ के फूल चमकीले पीले होते हैं, इनमें एक अनोखी खुशबू होती है और विभिन्न अवसरों के दौरान सजावट के लिए उपयोग किया जाता है. ऐसा माना जाता है कि इन पेड़ों के आंगन या घर के सामने होने से उस घर में रहने वाले परिवार के सदस्यों के बीच सद्भाव, शांति और खुशी आ सकती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पेड़ और पौधे मानव अस्तित्व के लिए काफी आवश्यक हैं, क्योंकि वे हवा को शुद्ध करते हैं और बारिश का भी प्रमुख कारण हैं. धार्मिक रूप से पेड़ विभिन्न देवी-देवताओं की अभिव्यक्ति से कम नहीं हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इन पेड़ों की पूजा वास्तव में लोगों को विभिन्न समस्याओं से सुरक्षित रहने में मदद कर सकती है.