NDTV Khabar

उदयपुर ने तोड़ा दुबई का वर्ल्‍ड रिकॉर्ड, दान में मिले 3 लाख कपड़े

उदयपुर में इस अभियान के तहत 12 से भी ज्‍यादा देशों से लोगों ने दान में सहयोग किया. इनमें ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, ओमान, श्रीलंका और यूएई जैसे देश शामिल थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उदयपुर ने तोड़ा दुबई का वर्ल्‍ड रिकॉर्ड, दान में मिले 3 लाख कपड़े

दानदाताओं ने तीन लाख से भी अधिक कपड़ों का दान क‍िया

खास बातें

  1. उदयपुर में वस्‍त्र दान के तहत 3 लाख से ज्‍यादा कपड़े दान क‍िए गए
  2. इस तरह उदयपुर ने दुबई का वर्ल्‍ड र‍िकॉर्ड तोड़ द‍िया
  3. भारत और देश के बाहर कुल 80 ड्रॉप पॉइंट्स बनाए गए थे
नई द‍िल्‍ली : उदयपुर रविवार को एक अद्भुत अभियान का साक्षी बना. वस्त्रदान अभियान के तहत दुनियाभर के 76,000 दानदाताओं ने जरूरतमंदों के लिए तीन लाख से भी अधिक कपड़ों का दान कर विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया. इसके पहले यह वर्ल्‍ड रिकॉर्ड दुबई के नाम था, जहां 2016 में स्थानीय लोगों ने 295,122 कपड़ों का दान किया था. इस अभियान का आयोजन लक्ष्यराजसिंह मेवाड़ द्वारा किया गया. अभियान के तहत 12 से भी ज्‍यादा देशों से लोगों ने दान में सहयोग किया. इनमें ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, ओमान, श्रीलंका और यूएई जैसे देश शामिल थे. अभियान के लिए भारत और देश के बाहर कुल 80 ड्रॉप पॉइंट्स बनाए गए थे, जहां लोग वस्त्रदान कर सकते थे.

छत्तीसगढ़ में जरूरतमंदों के लिए वरदान बन रही ये 'दीवार'

इस उपलब्धि के बारे में लक्ष्यराजसिंह मेवाड़ ने कहा, 'रोटी, कपड़ा और मकान मनुष्य की तीन सबसे अधिक आवश्यक जरूरतों में माने जाते हैं. दान देने संबंधी मुहिम, जिनमें शासकीय योजनाएं भी शामिल हैं, ज्यादातर भोजन और मकान की उपलब्धता पर केंद्रित होती हैं. लेकिन हम भूल जाते हैं कि कपड़े भी कितने महत्वपूर्ण हैं. इस संदर्भ में इस रिकॉर्ड को तोड़ना हमारे लिए केवल एक शुरुआत है, इसका अगला कदम भारतभर के जरूरतमंद तबकों में लाखों लोगों को ये कपड़े बांटने हैं.'

अभियान की शुरुआत लक्ष्यराजसिंह मेवाड़ ने 15 जनवरी, 2018 को की थी और यह दुनियाभर के 1700 वॉलेंटियर्स की मदद से तीन महीने तक चला. अभियान का समापन रविवार सुबह शिखरबाड़ी होटल, उदयपुर में कपड़ों की गिनती के साथ हुआ.

क्‍यों दी जाती है दक्ष‍िणा? क्यों इसके बिना यज्ञ में फल नहीं मिलता?

सफलता से गौरवान्वित लक्ष्यराजसिंह ने कहा, 'इस नेक काज के लिए हमें दुनियाभर के लोगों की बहुत शानदार प्रतिक्रिया प्राप्त हुईं. विश्व रिकॉर्ड तोड़ने की इस सफलता से उदयपुर के नाम को दुनिया के नक्शे पर केवल 'झीलों के शहर' के रूप में ही नहीं, बल्कि 'बड़े दिल वालों का शहर' के तौर पर भी स्थापित करने में मदद मिलेगी.'

इस अभियान में योगदान देने वालों में प्रमुख तौर पर गुजरात से खोड़ल धाम ट्रस्ट, मशहूर संगीतकार जोड़ी सलीम-सुलेमान, ख्यात क्रिकेटर इरफान तथा युसूफ पठान एवं गैर सरकारी संगठन गूंज तथा क्लॉथ्स बॉक्स फाउंडेशन जैसे नाम शामिल हैं.

फल्गु नदी के तट पर पिंडदान को क्यों माना जाता है खास

टिप्पणियां
तीन महीने तक चले इस अभियान में दानदाताओं के रूप में देशभर के 120 से भी अधिक स्कूलों और 10 कॉलेजों के विद्यार्थी भी शामिल हुए. अभियान के साथ-साथ कार्यरत सोशल मीडिया की पहुंच ने छह लाख से अधिक ऑनलाइन समर्थकों को भी इस अच्छे काम से जोड़ा.

Video: योग गुरु रामदेव ने कहा, 'दान देने वालों में बेईमान नहीं'Input: IANS


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement