मोबाइल ऐप के जरिए अब श्रद्धालु कर सकेंगे वैष्णो देवी के लाइव ‘दर्शन’

जम्मू और कश्मीर (Jammu & Kashmir) के रियासी जिले के त्रिकुटा पहाड़ियों में माता वैष्णो देवी मंदिर (Mata Vaishno Devi Mandir) के भक्त जल्द ही गुफा मंदिर के लाइव "दर्शन" कर सकेंगे.

मोबाइल ऐप के जरिए अब श्रद्धालु कर सकेंगे वैष्णो देवी के लाइव ‘दर्शन’

मोबाइल ऐप के जरिए अब श्रद्धालु कर सकेंगे वैष्णो देवी के लाइव ‘दर्शन’

जम्मू:

जम्मू और कश्मीर (Jammu & Kashmir) के रियासी जिले के त्रिकुटा पहाड़ियों में माता वैष्णो देवी मंदिर (Mata Vaishno Devi Mandir) के भक्त जल्द ही गुफा मंदिर के लाइव "दर्शन" कर सकेंगे. नवरात्रि के पहले दिन 17 अक्टूबर को लॉन्च किए जाने वाले ऐप में लाइव "हवन" करने की भी सुविधा होगी. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "हालांकि, कोरोनोवायरस महामारी ने धार्मिक स्थलों पर बड़े पैमाने पर श्रद्धालों के इकट्ठा होने पर रोक लगा दी है. बोर्ड के कहा, हम नए तरीकों को तैयार कर रहे हैं, ताकि जो श्रद्धालु 12 किमी की दूरी तय नहीं कर सकते और वो घर बैठे लाइव दर्शन कर सकें और आशीर्वाद ले सकें."

यह भी पढ़ें- वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने शुरु की "पूजा प्रसाद" होम डिलीवरी सेवा

उन्होंने कहा, कि सोमवार को लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा द्वारा औपचारिक तौर पर शुरू की गई माता वैष्णो देवी पूजा प्रसाद की होम डिलीवरी भी इसी कड़ी में जारी रहेगी. भक्त बोर्ड की वेबसाइट के माध्यम से पूजा प्रसाद को बुक कर सकते हैं, जिसे बोर्ड द्वारा देश भर के भक्तों को स्पीड पोस्ट के माध्यम से भेजा जाएगा, जिसके लिए बोर्ड ने डाक विभाग के साथ एक समझौता भी किया है. बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, रमेश कुमार ने कहा, वर्तमान मे  "आरती" एक धार्मिक टीवी चैनल पर लाइव-स्ट्रीम की जा रही है. हालांकि, मोबाइल ऐप दुनिया भर के उपासकों को ईश्वरत्व और आनंद के व्यक्तिगत अनुभव रखने का अवसर प्रदान करेगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें- करीब 5 महीने बाद खुले वैष्णोदेवी मंदिर के द्वार, दर्शन करने पहुंचे श्रद्धालु

कुमार ने कहा, कि लाइव "दर्शन" और "हवन" के लिए नया ऐप "एंड्रॉइड 'और' 'आईओएस' 'ऑपरेटिंग सिस्टम दोनों पर काम करेगा. 1986 में श्राइन बोर्ड की स्थापना के बाद से पवित्र तीर्थस्थल पर तीर्थयात्रियों की यात्रा में लगातार वृद्धि हुई है, हालांकि, कोविड 19 (COVID-19) महामारी के कारण, इस वर्ष इसमें बड़ी गिरावट देखी गई. यात्रा 16 अगस्त को शुरू की गई थी, जिसमें सुरक्षा प्रक्रियाओं के साथ प्रति दिन 5,000 तीर्थयात्रियों की व्यवस्था थी. बता दें कि श्राइन बोर्ड के कर्मचारियों को व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण किट प्रदान किए गए हैं और संक्रमण को रोकने के लिए मानक संचालन प्रक्रियाओं को भी रखा गया है.