NDTV Khabar

Vastu Tips : शयन कक्ष की ख‌िड़क‌ियों में क्र‌िस्टल के प्रयोग से मिलती सकारात्मक उर्जा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Vastu Tips : शयन कक्ष की ख‌िड़क‌ियों में क्र‌िस्टल के प्रयोग से मिलती सकारात्मक उर्जा

भारतीय वास्तुशास्त्र में घर और संस्थान की प्राकृतिक सकारात्मक ऊर्जा के संवर्धन के महत्त्व और इसे बढ़ाने के उपायों पर सबसे अधिक जोर दिया गया है. लेकिन हम जाने-अनजाने में ऐसी कई भूल कर जाते हैं, जिनसे नकारात्मक ऊर्जा हावी हो जाती है. इसका परिणाम परेशानी, चिंता, कलह, धननाश, स्वास्थ्य समस्या, रोग आदि के रूप में सामने आता है. लेकिन अधिकांश लोग इसे नियति मानकर झेलने को बाध्य कर लेते है, वहीं कुछ लोग अनेकानेक उपाय अपनाकर इससे जूझने की सफल कोशिश करते हैं. भारतीय वास्तुशास्त्र के अनुसार वित्तीय परेशान‌ियों का कारण अक्सर घर में ही मौजूद होता है, ज‌िसकी अक्सर हो जाती है। यदि इन बातों का ध्यान रखा जाए तो घर में मौजूद वास्तुदोष को दूर कर वित्तीय परेशान‌ियों को समाप्त किया जा सकता है.

 
शयन कक्ष की ख‌िड़क‌ियों में क्र‌िस्टल का प्रयोग
भारतीय वास्तुशास्त्र क्र‌िस्टल से टकराकर जो रोशनी घर में आती है, वह सकारात्मक उर्जा लाती है व स्वस्‍थ और उर्जावान बनाती है। इससे उर्जा का इस्तेमाल सही द‌िशा में करके लाभ प्राप्त कर पाते हैं। इसके लिए शयन कक्ष की ख‌िड़क‌ियों में क्र‌िस्टल लगवाने का सुझाव वास्तुशास्त्र की पुस्तकों में मिलता है.  
दर्पण का प्रयोग
दर्पण यानी आइना के बारे में कहा जाता है कि ये सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रकार की ऊर्जा को फैलाते हैं और अवशोषित भी करते हैं. वास्तुशास्त्र की पुस्तकों में सुझाव दिया गया है कि एक दर्पण इस प्रकार लगाया जाना चाहिए क‌ि उसका प्रत‌िब‌िंब त‌िजोरी और धन रखने के स्थान पर हो। वास्तुशास्त्र के अनुसार, यह अपव्यय और खर्च को कम करने में सहायक माना जाता है। जाहिर इससे संच‌ित धन बढ़ने में मदद मिलेगी.

आस्था सेक्शन से जुड़े अन्य खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.
 
टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement