NDTV Khabar

कृष्ण रासलीला स्थली वृन्दावन के ‘निधिवन’ में ऐसा क्या है, जहां रात में ठहरना मना है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कृष्ण रासलीला स्थली वृन्दावन के ‘निधिवन’ में ऐसा क्या है, जहां रात में ठहरना मना है

जो अक्सर वृन्दावन जाते  हैं, उन्हें यहां के निधिवन के बारे में जरूर पता होता है, कि यह वही वन है, जहां भगवान श्री कृष्ण ने द्वापरयुग में राधा और गोपियों के संग रास रचाया था.
 
निधिवन, वृंदावन में यमुना नदी के चीरघाट के पास ही स्थित है. इस वन का जिक्र पुराणों में भी मिलता है. यहां श्री राधारानी की अष्टसखियों में प्रधान ललिता सखी ने भी अवतार लिया था.
 
रात में इस निधिवन में रुकना या जाना मना है. इसके लिए बाकायदा यहां बैरिकेड कर दी जाती है. लेकिन क्यों?
 
इस क्यों का जवाब मथुरा-वृन्दावन के बड़े-बुजुर्ग देते हैं. लोगों की मानें तो आज भी भगवान श्री कृष्ण यहां गोपियों संग रासलीला रचाते हैं, जो मनुष्यों को देखना निषिद्ध है यानी मना है.
 
लोग बताते हैं कि जो भी इस रासलीला की महज एक झलक भी देख लेता है, वह विक्षिप्त यानी पागल हो जाता है. यही कारण है संध्या होने के बाद निधिवन में जाना पूरी तरह से निषेध किया गया है.
 
और तो और, लोग बताते हैं कि रात के समय निधिवन के आस-पास पशु-पक्षी भी नहीं रहते हैं. निधिवन की एक और खासियत यहां के पेड़ हैं, जो अद्भुत हैं. यहां पेड़ की शाखाएं ऊपर की ओर न बढ़कर नीचे की ओर बढ़ती हैं.
 
निधिवन में ही श्री राधाजी एक मंदिर है. जो चोर राधारानी मंदिर के नाम से पूजित है. यहां एक पवित्र कुंड भी है, जो विशाखा कुंड के नाम से जाना जाता है.

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement