NDTV Khabar

क्‍यों दी जाती है दक्ष‍िणा? क्यों इसके बिना यज्ञ में फल नहीं मिलता?

श्रीकृष्ण द्वारा सुशीला को पसंद करने की बात राधा को पसंद नही थी. इसीलिए सुशीला को गोलोक से बाहर निकालवा दिया. इस बात से सुशीला को बहुत दुख हुआ और वो कठिन तप करने लगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्‍यों दी जाती है दक्ष‍िणा? क्यों इसके बिना यज्ञ में फल नहीं मिलता?

क्यों दी जाती है दक्षिणा?

खास बातें

  1. भगवान कृष्ण को सुशीला नामक गोपी बहुत पसंद थी
  2. राधा को ये बात नहीं थी
  3. सुशीला को गोलोक से बाहर निकालवा दिया
नई दिल्ली:

दान-पुण्य करते वक्त ब्राह्मणों को दक्षिणा दी जाती है. आजकल इस दक्षिणा से मतलब महंगे सामान या रुपयों से है. लेकिन प्राचीन काल में शिक्षा पूरी होने के बाद विद्यार्थी अपने गुरुओं को दक्षिणा दिया करते थे. यह कुछ भी हुआ करती थी जैसे एकलव्य ने अपने गुरु ‘द्रोण’ को दक्षिणा में अपना अंगूठा काटकर दे दिया था. ऐसे ही बाकि छात्र भी अपनी-अपनी योग्यता के हिसाब से अपने गुरु को कुछ ना कुछ दान में अवश्य दिया करते थे. ये दक्षिणा देने की प्रथा कहां से शुरु हई? इसके पीछे क्या कारण है? इन सलावों के जवाब आपको इस कथा में मिल जाएंगे. 

ये भी पढ़ें - क्यों और कितनी बार करनी चाहिए मंदिर में परिक्रमा? जानिए

यह प्राचीन कथा श्री कृष्ण और लक्ष्मी जी से जुड़ी हुई है. गोलोक में भगवान कृष्ण को सुशीला नामक गोपी बहुत पसंद थी. वह उसकी विद्या, रुप और गुणों से प्रभावित थे. सुशीला राधाजी की ही सखी थीं. श्रीकृष्ण द्वारा सुशीला को पसंद करने की बात राधा को पसंद नही थी. इसीलिए उन्होंने सुशीला को गोलोक से बाहर निकालवा दिया. इस बात से सुशीला को बहुत दुख हुआ और वो कठिन तप करने लगी. इस तप से वो विष्णुप्रिया महालक्ष्मी के शरीर में प्रवेश कर गईं. 


ये भी पढ़ें - तो इस वजह से शनिदेव की मूर्ति पर चढ़ाया जाता है तेल...

इसके बाद से विष्णु जी द्वारा देवताओं को यज्ञ का फल मिलना रुक गया. इस विषय में सभी देवता ब्रह्माजी के पास गए. तब ब्रह्माजी जी ने भगवान विष्णु जी का ध्यान किया. विष्णु जी ने सभी देवताओं की बात मानकर इसका एक हल निकाला. उन्होंने अपनी प्रिय महालक्ष्मी के अंश से एक 'मर्त्यलक्ष्मी' को बनाया जिसे नाम दिया दक्षिणा और इसे ब्रह्माजी को सौंप दिया. 

ब्रह्माजी ने दक्षिणा का विवाह यज्ञपुरुष के साथ कर दिया. बाद में इन दोनों का पुत्र हुआ जिसे नाम दिया 'फल'. इस प्रकार भगवान यज्ञ अपनी पत्नी दक्षिणा और पुत्र फल से सम्पन्न होने पर सभी को कर्मों का फल देने लगे. इससे देवताओं को भी यज्ञ का फल मिलने लगा. इसी वजह से शास्त्रों में दक्षिणा के बिना यज्ञ पूरा नहीं होता और कोई फल नहीं मिलता. इसीलिए ऐसा माना गया कि यज्ञ करने वाले को तभी फल मिलेगा जब वो दक्षिणा देगा. दक्षिणा को शुभा, शुद्धिदा, शुद्धिरूपा व सुशीला-इन नामों से भी जाना जाता है. 

टिप्पणियां

देखें वीडियो - श्रीकृष्ण हैं भगवान विष्णु के पूर्ण अवतार​



NDTV.in पर हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) विधानसभा के चुनाव परिणाम (Assembly Elections Results). इलेक्‍शन रिजल्‍ट्स (Elections Results) से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरेंं (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement