NDTV Khabar

Happy New Year 2018: जानिए क्यों 1 जनवरी को ही मनाते हैं नया साल

भारत के किसी भी धर्म में 1 जनवरी को नया साल मनाने की प्रथा नहीं है, उसके बावजूद हम सभी 1 जनवरी को नया साल मनाते हैं...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Happy New Year 2018: जानिए क्यों 1 जनवरी को ही मनाते हैं नया साल

Happy New Year 2018: जानिए क्यों 1 जनवरी को मनाते हैं नया साल

खास बातें

  1. 15 अक्टूबर 1582 को लागू हुआ कैलेंडर
  2. क्रिसमस के लिए बनाया गया नया कैलेंडर
  3. पोप ग्रिगोरी ने बनाया नया कैलेंडर
नई दिल्ली:

भारत के लगभग सभी धर्मों में नया साल अलग-अलग दिन सेलिब्रेट किया जाता है. पंजाब में नया साल बैशाखी के दिन मनाया जाता है. पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश में भी बैशाखी के आस-पास ही नया साल मनाया जाता है. महाराष्ट्र में मार्च-अप्रैल के महीने आने वाली गुड़ी पड़वा के दिन नया साल मनाया जाता है. गुजराती में नया साल दीपावली के दूसरे दिन मनाया जाता है. वहीं, इस्लामिक कैलेंडर में भी नया साल मुहर्रम के नाम से जाना जाता है.

न्यू ईयर 2018 को घर पर एंजॉय करने के 5 सुपर कूल तरीके, पैसे और वक्त दोनों की बचत

हर धर्म में अलग-अलग दिन और महीनों में नया साल मनाने की प्रथा है. लेकिन इनके बावजूद हम सभी 1 जनवरी को क्यों नया साल मनाते हैं? यहां आपको इसी सवाल का जवाब मिल जाएगा. 


New Year 2018: नए साल में इन 10 'शेर' को दोस्तों के साथ करें शेयर, बनाएं 1 तारीख को यादगार
 

new year

1 जनवरी से शुरू होने वाले कैलेंडर को ग्रिगोरियन कैलेंडर के नाम से जाना जाता है, जिसकी शुरूआत 15 अक्टूबर 1582 में हुई. इस कैलेंडर की शुरूआत ईसाईयों ने क्रिसमस की तारीख निश्चित करने के लिए की. क्योंकि ग्रिगोरियन कैलेंडर से पहले 10 महीनों वाला रूस का जूलियन कैलेंडर प्रचलन में था. लेकिन इस कैलेंडर में कई गलतियां होने की वजह से हर साल क्रिसमस की तारीख कभी भी एक दिन में नहीं आया करती थी.  

New Year Celebration को हसीन बनाने के लिए 5 ठिकाने, जेब भी रहेगी खुश

क्रिसमस ईसाईयों के बीच बहुत खास होता है. इसी दिन प्रभु यीशु का जन्म हुआ था. यीशु ने लोगों के हितों के लिए अपनी जान दी और इनके इस त्याग को हर साल क्रिसमस के तौर पर मनाया जाता है.  

Happy New Year 2018: इस नए साल दोस्तों को SMS, Facebook और WhatsApp पर भेजें ये 10 स्पेशल मैसेज

इसी वजह से अमेरिका के नेपल्स के फिजीशियन एलॉयसिस लिलिअस ने एक नया कैलेंडर प्रस्तावित किया. रूस के जूलियन कैंलेंडर में कई सुधार हुए और इसे 24 फरवरी को राजकीय आदेश से औपचारिक तौर पर अपना लिया गया. यह राजकीय आदेश पोप ग्रिगोरी ने दिया था, इसीलिए उन्हीं के नाम पर इस कैलेंडर का नाम ग्रिगोरियन रखा गय 15 अक्टूबर 1582 को लागू कर दिया गया. 

टिप्पणियां

आज यही ग्रिगोरियन कैलेंडर पूरी दुनिया में मशहूर है और इसी में मौजूद पहले दिन यानि 1 जनवरी को नया साल मनाया जाता है.

देखें वीडियो - नए साल का लोगों ने किया शानदार स्वागत
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement