NDTV Khabar
होम | फैक्‍ट फाइल

फैक्‍ट फाइल

  • अंतराष्ट्रीय योग दिवस पर बोले पीएम मोदी- योग ने दुनिया को 'इलनेस' से 'वेलनेस' का रास्ता दिखाया, 10 बड़ी बातें
    अंतरराष्ट्रीय योग दिवस: अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर करीब 55 हजार लोगों के साथ योगा करने से पहले देहरादून में पीएम मोदी ने पूरे देशवासियों को योग दिवस की शुभकामनाएं दी. इस मौके पर उन्होंने योग दिवस के महत्व, इतिहास और उसके वर्तमान पर अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि योग इंसान, समाज, परिवार और देश को जोड़ कर रखता है. साथ ही उन्होंने कहा कि योग से इंसान का मन शांत रहता है. उन्होंने कहा कि योग ने दुनिया में भारत को एक अलग पहचान दिलाई है. देवभूमि उत्तराखंड के बारे में उन्होंने कहा कि यहां का मौसम योग और आयुर्वेद के लिए हमें प्रेरित करता है. तो चलिए एक झलक डालते हैं पीएम मोदी के भाषण की दस बड़ी बातों पर....
  • बाबा रामदेव के 6000 करोड़ के फूड पार्क को मिली मंजूरी, यूपी कैबिनेट के 8 फैसले
    उत्तर-प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में योगगुरु स्वामी रामदेव के फूड पार्क को जमीन देने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई. आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में प्रस्तावित पतंजलि फूड पार्क को राज्य से बाहर ले जाये जाने की धमकी के बाद सरकार हरकत में आई थी. मुख्यमंत्री ने इस मामले में खुद हस्तक्षेप करते हुए जल्द ही इसे कैबिनेट में पास करवाने का आश्वासन दिया था. यूपी सरकार ने पतंजलि आयुर्वेद कंपनी को यमुना एक्सप्रेस-वे पर 425 एकड़ से अधिक जमीन फूड और हर्बल पार्क की स्थापना के लिए दी थी. पतंजलि की ओर से यमुना एक्सप्रेस-वे प्राधिकरण को फूड पार्क के लिए भूमि हस्तांतरित करने का आग्रह किया गया था. कंपनी को जमीन का आवंटन चूंकि कैबिनेट के फैसले से हुआ था, इसलिए उसके किसी हिस्से का अलग हस्तांतरण भी कैबिनेट से ही हो सकता था. आचार्य बालकृष्ण ने चेतावनी दी थी प्रदेश सरकार की उदासीनता के कारण पतंजलि इस परियोजना को अन्यत्र ले जाएगी. हालांकि अब कैबिनेट की मंजूरी के बाद 6000 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होने वाले इस मेगा फूड पार्क के जरिए दस हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा.
  • इन 5 वजहों से जम्‍मू-कश्‍मीर में नहीं टिक सका BJP-PDP का गठबंधन
    जम्मू-कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी गठबंधन पर सवाल हमेशा उठते रहे. इसके बावजूद ये गठबंधन तीन साल से ज़्यादा समय तक चल गया. इन दोनों दलों ने कई मुश्किल मुकाम पार किए, लेकिन अब ऐसा क्या हो गया कि बीजेपी ने महबूबा को बताए बिना उससे नाता तोड़ लिया? बीजेपी नेताओं की मौजूदगी में महबूबा मुफ़्ती का शपथ ग्रहण समारोह जम्मू-कश्मीर की राजनीति में एक नया मोड़ था. सरकार में शामिल बीजेपी ने इस गठजोड़ के सहारे अपने राजनीतिक विस्तार का नक्शा वहां तक पहुंचा दिया जहां इसकी कल्पना नहीं थी. लेकिन तीन साल बाद सरकार में शामिल बीजेपी को महबूबा से ढेर सारी शिकायतें रहीं. दरअसल, जम्मू-कश्मीर में अमन को लेकर बीजेपी और पीडीपी की राय शुरू से बंटी रही. वहीं कांग्रेस अब कह रही है कि इस गठबंधन ने राज्य को बर्बाद कर दिया है. लेकिन 2018 में ये रिश्ता तोड़ने के पीछे की राजनीति और भी है. जिस गठबंधन से बीजेपी ने 2014 में अपने दायरे का विस्तार किया, 2018 में वही उसे बोझ लगने लगा.
  • बीजेपी ने महबूबा मुफ्ती पर फोड़ा ठीकरा राम माधव ने कही ये 10 बड़ी बातें
    बीजेपी ने अचानक जम्मू-कश्मीर में महबूबा सरकार से समर्थन वापस ले लिया है. आज ही बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने राज्य के सभी बीजेपी नेताओं और बीजेपी कोटे से बने मंत्रियों को आपात बैठक में बुलाया था और पीडीपी को बिना भनक लगे समर्थन वापसी का ऐलान कर दिया. बीजेपी ने कहा कि राज्य में मौजूदा हालात में सरकार चलाना मुश्किल हो गया था. केंद्र सरकार की ओर से पूरी मदद की गई लेकिन लेकिन महबूबा मुफ्ती पूरी तरह से नाकाम साबित हो गईं.
  • जम्मू-कश्मीर में महबूबा मुफ्ती सरकार से अलग हुई बीजेपी, बताए ये 5 कारण 
    भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने जम्मू-कश्मीर में पीडीपी के साथ गठबंधन तोड़ दिया है और महबूबा मुफ्ती की सरकार से अलग हो गई है. दोनों दलों में पिछले कुछ दिनों से टकराव की स्थिति बनी हुई थी और केंद्र सरकार द्वारा दो दिन पहले घाटी में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन फिर से शुरू करने की घोषणा के बाद यह टकराव बढ़ता दिखाई दे रहा था. पीडीपी सीजफायर के पक्ष में थी और सरकार द्वारा इसे आगे न बढ़ाने पर अपनी नाराजगी भी जताई थी. इसी बीच आज बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने महबूबा मुफ्ती सरकार में शामिल बीजेपी कोटे के सभी मंत्रियों और राज्य के सभी बड़े नेताओं को दिल्ली में आपात बैठक के लिये बुलाया था. बैठक के बाद पार्टी ने महबूबा मुफ्ती सरकार से अलग होने की घोषणा कर दी. पार्टी ने इसके लिए खुद महबूबा मुफ्ती को भी जिम्मेदार ठहराया है. प्रेस कांफ्रेंस में भाजपा नेता और जम्मू-कश्मीर के प्रभारी राम माधव ने कहा कि हमारा मकसद राज्य का विकास करना था. केंद्र सरकार ने इसमें हरसंभव मदद भी की, लेकिन महबूबा मुफ्ती राज्य में हालात को संभालने में नाकाम साबित हुईं. 
  • नीति आयोग की बैठक में बोले पीएम मोदी- 2022 तक न्यू इंडिया का सपना देश का संकल्प, 10 बातें
    नीति आयोग की चौथी बैठक की अध्यक्षता कर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था के सामने अब चुनौती वृद्धि दर को दहाई अंक तक पहुंचाने की है, जिसके लिए ‘कई और महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे. ’ पीएम मोदी आज यहां राष्ट्रपति भवन के सांस्कृतिक केंद्र में नीति आयोग की संचालन परिषद की चौथी बैठक के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि बीते वित्त वर्ष 2017-18 की चौथी तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था ने मजबूत 7.7 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है और ‘अब चुनौती इस वृद्धि दर को दहाई अंक में ले जाने की है.’
  • 'शांति' और 'संवाद' की हिमायत करने वाले शुजात बुखारी आखिर क्यों थे निशाने पर, 10 बड़ी बातें
    वरिष्ठ पत्रकार और अंग्रेजी दैनिक 'राइजिंग कश्मीर' के प्रधान संपादक शुजात बुखारी की गुरुवार को उनके कार्यालय के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई. पुलिस ने यह जानकारी दी. राज्य पुलिस प्रमुख एस.पी. वैद्य ने कहा, "करीब 7:15 मिनट पर बुखारी प्रेस एन्क्लेव स्थित अपने कार्यालय से बाहर आए थे और जब वह अपनी कार में थे, आतंकवादियों ने उन पर हमला कर दिया. उन्होंने कहा, "तीन मोटरसाइकिल सवार आतंकवादी आए और बुखारी व उनके सुरक्षाकर्मियों पर गोली चला दी. बुखारी और एक सुरक्षाकर्मी की मौत हो गई और एक अन्य गार्ड गंभीर रूप से घायल हो गया." इस घटना पर केंद्र सरकार, जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी शोक व्यक्त किया है.
  • दावत-ए-इफ्तार : एक साल में कैसे बदल गये किरदार, 10 बड़ी बातें
    बिहार में पाक माह रमजान के मौके पर राजनीतिक दलों द्वारा 'दावत-ए-इफ्तार' की परंपरा पुरानी है, लेकिन इस वर्ष राजनीतिक दलों द्वारा आयोजित दावतों में सियासी चेहरे बदले नजर आए, जो भविष्य की राजनीति की बदलती तस्वीर के संकेत भी दे गए. कई नेता इसे भले ही राजनीति से दीगर बात बता रहे हों, लेकिन इतना तय माना जा रहा है कि आने वाले एक साल में बिहार की राजनीति में राजनीति दलों में सियासी चेहरे बदले नजर आएंगे. एक ओर जहां एनडीए नेताओं की इफ्तार पार्टी में भी मतभेद नजर आ रहे हैं तो दूसरी ओर आरजेडी की इफ्तार में भी कई नये समीकरण के देखने को मिल रहे हैं.
  • झारखंड के गोड्डा में कैसे हुई मवेशी चोरी के नाम पर दो लोगों की हत्या, 10 बातें
    झारखंड का गोड्डा में मवेशियों के चोरी के आरोप में दो लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई. लेकिन ये घटना कहां, कैसे हुई, इसके बारे में अभी भी संशय बना हुआ है. हालांकि, मृतक मुस्लिम समुदाय के बताए जा रहे हैं. घटना मंगलवार रात की है. तो चलिए जानते हैं इस घटना से जुड़ी दस बड़ी बातों को...
  • सबसे पहले अटल जी को देखने गया, समारोहों में आडवाणी जी की रक्षा करता हूं, राहुल गांधी के भाषण की 10 बातें
    मुंबई में आयोजित कांग्रेस के कार्यकर्ता सम्मेलन में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर से बीजेपी और नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. राहुल ने कहा, 'बीजेपी को हमने कर्नाटक में हराया, गुजरात में वे मुश्किल से जीत पाये. बीजेपी इस बार राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में पूरी तरह साफ हो जाएगी. कांग्रेस और दूसरी पार्टियां मिलकर लोकसभा चुनाव में बीजेपी को मिलकर हरा देंगी'. राहुल ने स्थानीय कार्यकर्ताओं की ओर मुखातिब होते हुये कहा कि मुंबई की तरह कांग्रेस भी समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर काम करती है. कांग्रेस भी सबको साथ लेकर भारत का निर्माण करती है. उन्होंने इस कार्यक्रम में मराठी भाषा से भाषण की शुरुआत की.
  • नरेंद्र मोदी और अण्णा हजारे का अनशन तुड़वाने में अहम भूमिका निभाने वाले भय्यूजी महाराज के बारे में 10 बड़ी बातें
    आध्यात्मिक गुरु भय्यू जी महाराज ने गोली मारकर आत्महत्या कर ली है. इंदौर के बॉम्बे अस्पताल में उनकी मौत की पुष्टि की है. उनके खुदकुशी के पीछे पारिवारिक कारण बताये जा रहे हैं. भैय्यूजी महाराज उस समय चर्चा में आये थे जब अण्णा आंदोलन के समय उन्होंने सरकार के साथ बातचीत में बड़ी भूमिका निभाई थी. उस आंदोलन के समय शरद यादव ने भय्यू जी महाराज की आलोचना भी की थी. भय्यू जी महाराज के भक्तों में कई नामी-गिरामी की हस्तियां शामिल थीं. वह पहले फैशन डिजाइनर थे बाद में अध्यात्म की ओर मुड़ गये. 
  • Trump-Kim summit: अमेरिका और उत्तर कोरिया में क्यों थी इतनी दूरी, 5 कारण
    आखिरकार अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन सिंगापुर में मिले. विशेषज्ञों की नजर में यह दो ध्रुवों के मिलने जैसा है, क्योंकि दोनों देशों के बीच लंबे समय से तनातनी चली आ रही थी. कभी किम कहते कि अमेरिका उनकी मिसाइल की जद में है तो कभी ट्रंप ने कहा कि उनके पास उत्तर कोरिया से बड़ा और शक्तिशाली बम है. इन्हीं परिस्थितयों के बीच पिछले दिनों उत्तर कोरिया के रुख में नरमी आई और उसने अपने परमाणु परीक्षण ठिकानों को नष्ट करने की शुरुआत की. इस शुरुआत के साथ ही ट्रंप-किम के बीच मुलाकात की सूरत परवान चढ़ी थी. आज किम से मुलाकात के बाद जहां ट्रंप ने कहा कि बैठक शानदार रही और काफी प्रगति हुई. किम और ट्रंप ने कई समझौते पर हस्ताक्षर भी किये. किम जोंग उन ने कहा कि यहां पहुंचना आसान नहीं था. बाधाओं को दूर कर हमारी मुलाक़ात हो रही है. आइये आपको बताते हैं कि आखिर अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच इतनी कड़वाहट क्यों थी? 
  • इन 5 कारणों से चीन केे 'वन बेल्ट, वन रोड' प्रोजेक्‍ट का भारत कर रहा है विरोध
    शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गेनाइजेशन सम्मेलन के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने इशारों ही इशारों में चीन को नसीहत दे डाली. वन बेल्ट, वन रोड प्रोजेक्ट को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि कोई भी प्रोजेक्ट सदस्य देशों की अखंडता और संप्रभुता की क़ीमत पर नहीं होना चाहिए. वन बेल्ट, वन रोड प्रोजेक्ट को लेकर भारत को गहरी आपत्ति है क्योंकि ये पाकिस्तान के कब्ज़े वाले कश्मीर से गुज़रता है जो भारत का अभिन्न हिस्सा है, लेकिन पाकिस्तान की तरफदारी करने वाला चीन भारत की चिंता पर ग़ौर करेगा, ऐसा लगता नहीं. वन बेल्ट-वन रोड चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग का सपना है, जिसका मकसद बताया गया है, एशियाई देशों के साथ चीन का संपर्क और सहयोग बेहतर करना और अफ्रीका व यूरोप को भी एशियाई देशों के साथ क़रीबी से जोड़ना. भारत का चीन के इस प्रोजेक्‍ट का विरोध करने के ये हैं पांच कारण....
  • सिंगापुर में डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच ऐतिहासिक शिखर सम्मेलन कल, 5 बड़ी बातें 
    अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के बीच मंगलवार को सिंगापुर में ऐतिहासिक शिखर सम्मेलन होने जा रहा है. दोनों नेता इस सम्मेलन के लिए सिंगापुर पहुंच गये हैं. यह पहला मौका है जब किसी अमेरिकी राष्ट्रपति और उत्तर कोरियाई नेता के बीच मुलाकात होगी. उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु हथियारों के परीक्षण और पिछले दिनों परीक्षण स्थलों को नष्ट करने के बीच पूरी दुनिया की निगाहें इस सम्मेलन पर टिकी हुई हैं. कहा जा रहा है कि बातचीत के एजेंडे में प्योंगयांग के परमाणु निरस्त्रीकरण का मुद्दा जोर-शोर से उठने की संभावना है. आपको बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप ने पहले किम जोंग उन से मुलाकात के लिए मना कर दिया था. हालांकि तमाम कवायदों के बाद मुलाकात परवान चढ़ पाई और सम्मेलन की तिथियां तय हुईं. उत्तर कोरिया के वरिष्ठ अधिकारी किम योंग चोल ने अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो से मुलाकात की और सम्मेलन पर सहमति बनाने में बड़ा रोल निभाया. 
  • PM मोदी ने शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन में दिया SECURE का कॉन्सेप्ट, 5 बड़ी बातें
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए SECURE का नया कॉन्सेप्ट दिया. उन्होंने चीनी राष्ट्रपति शी चिनफ़िंग से भी मुलाक़ात की. 6 सप्ताह के अंदर शी चिनफ़िंग से यह उनकी दूसरी मुलाकात थी. मुलाकात के दौरान दोनों देशों के बीच दो समझौते भी हुए. पीएम ने शंघाई सहयोग संगठन देशों के बीच पर्यटन बढ़ाने की जरूरतों पर भी जोर दिया. वहीं अफगानिस्तान में शांति के मजबूत प्रयास करने के लिए अफगानी राष्ट्रपति अशरफ गनी की प्रशंसा भी की. आपको बता दें कि एससीओ में भारत और पाकिस्तान को पूर्णकालिक सदस्यता मिलने के बाद यह पहला मौका है जब कोई भारतीय प्रधानमंत्री इस शिखर सम्मेलन में भाग ले रहा है.
  • महाराष्ट्र में मॉनसून ने दी दस्तक, मुंबई में अभी भी भारी बारिश की चेतावनी,  10 बड़ी बातें
    महाराष्ट्र में मॉनसून के दस्तक देते ही मुंबई में बारिश का कहर जारी है. मुंबई में शनिवार की बारिश की वजह से उत्पन्न घटनाओं में दो लोगों की मौत हो गयी. मुंबई में बीते दो दिनों से लगातार बारिश हो रही है, जिससे शहर में चारों ओर जल जमाव की स्थिति बनी हुई है. मुसलाधार बारिश की वजह से रेल एवं हवाई यातायात में भी बाधा पहुंच रही है. मुंबई में मौसम विभाग ने अलर्ट भी जारी किया है, वहीं बीएमसी ने अपने सीनियर अधिकारियों की वीकेंड छुट्टी भी रद्द कर दी है. वहीं, कई दिनों से भीषण गर्मी झेल रही राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली एवं इसके आस पास के इलाकों में आंधी-पानी से यहां के लोगों को गर्मी से थोड़ी राहत मिली. पंजाब , हरियाणा और उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में बारिश की रिपोर्ट है. काफी समय से इन राज्यों में भीषण गर्मी का दौर जारी है. सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि आंधी-तूफान एवं आकाशीय बिजली गिरने से प्रदेश में कम से कम 26 लोगों की मौत हो गई. उन्होंने बताया कि बीती रात राज्य के 11 जिलों में आंधी और बिजली गिरने से 26 लोगों की मौत हो गयी.
  • 6 हफ्ते में PM मोदी का दूसरा चीन दौरा, SCO सम्मेलन में लेंगे हिस्सा, 10 बड़ी बातें 
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को शंघाई सहयोग संगठन (SCO) शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए चीन के किंगदाओ पहुंच गये. वह सम्मेलन से इतर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ द्विपक्षीय वार्ता भी करेंगे. एससीओ का पूर्ण सदस्य बनने के बाद भारत पहली बार एससीओ शिखर सम्मेलन में भाग ले रहा है. भारत जून 2017 में पाकिस्तान के साथ इस संगठन का पूर्ण सदस्य बना था . एससीओ एक यूरेशियाई अंतर सरकारी संगठन है, जिसके गठन का ऐलान 2001 में शंघाई में कजाकिस्तान, चीन, किर्गिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान ने किया था. मोदी के रवाना होने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर कहा, 'एससीओ राजनीतिक, आर्थिक, सुरक्षा और सांस्कृतिक सहयोग पर केंद्रित है और भारत को मध्य एशियाई देशों के साथ जुड़ने में सक्षम बनाता है'.
  • बॉर्डर पर 14 हजार नये बंकर बनाए जाएंगे, रोहिंग्‍या शरणार्थियों को वापस भेजा जाएगा : गृहमंत्री राजनाथ सिंह
    गृहमंत्री राजनाथ सिंह 9 महीने के बाद जम्‍मू के पत्रकारों से मिले और कहा कि यह मेरे लिए काफी सुखद रहा. उन्‍होंने कहा कि 'दो दिन की मेरी यात्रा काफी यादगार रही. कश्‍मीर में बच्‍चों से मिले और एलओसी पर भी गए. काफी लोगों से मिला और उनकी पीड़ा भी सुनी.' उन्‍होंने कहा कि यात्रा से दो-तीन दिन पहले ही कुछ फैसले लिए हैं जिसका वहां के लोगों ने स्‍वागत किया है. राजनाथ सिंह ने पीएम मोदी के खिलाफ नक्‍सलियों की धमकी और रोहिंग्‍या शरणार्थियों पर भी अपनी बात कही. राजनाथ सिंह ने कहा कि कुल 9 नये बटालियन बनाए जाएंगे जिसमें 2 महिला बटालियन भी होगी. उन्‍होंने कहा कि सीमा पर रहने वाले जो भी भारतीय हैं उनको हम अपना स्‍ट्रैटेजिक एसेट्स मानते हैं. हम उनके हौसले को सलाम करते हैं. उन्‍होंने कहा कि गोलाबारी के दौरान पहले यह था कि केवल 3 पशुओं की मौत पर प्रति पशु 30 हजार रुपये मुआवजा मिलता था अब वह 50 हजार रुपये प्रति पशु मुआवजा दिया जाएगा और इसकी कोई सीमा नहीं होगी. चाहे जितने भी पशुओं की मौत होगी सभी का मुआवजा दिया जाएगा. गृहमंत्री ने कहा कि 14 हजार नये बंकर बनाए जाएंगे.
  • एनडीए में ऊपर से तो सब सही, लेकिन अंदर ही अंदर उबाल, 15 बड़ी बातें
    लोकसभा चुनाव से पहले एनडीए में खींचतान चरम पर पहुंचती दिख रही है. महाराष्ट्र में शिवसेना के तेवर धीले नहीं हो रहे हैं तो आंध्र प्रदेश में चंद्रबाबू नायडू ने किनारा कर लिया है. अब बिहार में आपस में ही सिर फुटौवल शुरू हो गई है. बिहार में एनडीए का नेता कौन होगा इस पर तो बहस चल रही रही है . लोकसभा चुनाव में अभी करीब एक साल बाकी है लेकिन बिहार में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में नेतृत्व के 'चेहरे' और 'सीटों' को लेकर अभी से टकराव शुरू हो गया है.
  • प्रणब मुखर्जी ने दी नसीहत, नहीं चलेगी हिंदू राष्ट्र की अवधारणा, 10 बड़ी बातें
    पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के नागपुर में संघ के मुख्यालय में जाने और वहां पर संघ के प्रशिक्षित कार्यकर्ताओं को भाषण देने के फैसले पर हर जगह चर्चा हो रही है. गुरुवार की शाम को उन्होंने जो भाषण दिया उसका हर कोई अपने-अपने हिसाब से मायने निकाल रहा है. इससे पहले पूरी कांग्रेस असहज नजर आ रही थी. यहां तक कि उनकी बेटी और कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने कहा कि उनका (डॉ.मुखर्जी) भाषण किसी को याद नहीं रहेगा हां, उनकी तस्वीर का इस्तेमाल जरूर किया जाएगा. लेकिन कुशल राजनेता मुखर्जी बिना किसी दबाव में आए संघ के कार्यक्रम में गए और अपने 'उच्चस्तरीय' भाषण के जरिये संघ को उसी के मच पर कई नसीहतें दें डालीं. प्रणब मुखर्जी अपना भाषण अंग्रेजी में दे रहे थे, मगर बीच-बीच में वह अपनी मातृभाषा बांग्ला के मुहावरों का इस्तेमाल भी कर रहे थे. इससे पहले डॉ. नुखर्जी ने संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार को भारत माता का सच्चा सपूत भी कहा. यह बात उन्होंने विजिटर डायरी में लिखी है.
12345»

Advertisement