NDTV Khabar
होम | फैक्‍ट फाइल

फैक्‍ट फाइल

  • केंद्र सरकार के प्रस्ताव पर आज किसान करेंगे महामंथन, 22 जनवरी को 11वें दौर की वार्ता- पांच बड़ी बातें
    तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) पर गतिरोध को दूर करने के लिए बुधवार को हुई 10वें दौर की बैठक में केंद्र सरकार ने थोड़ी नरमी दिखाई और सभी नए कृषि कानूनों को डेढ़ वर्षों तक के लिए निलंबित रखने का प्रस्ताव दिया. सरकार ने किसान संगठनों और सरकार के प्रतिनिधियों की एक संयुक्त समिति गठित करने का भी प्रस्ताव दिया है लेकिन किसान नेताओं ने इसे तत्काल स्वीकार नहीं किया और कहा कि वे आपसी चर्चा के बाद सरकार के समक्ष अपनी राय रखेंगे.  किसान आज (गुरुवार) सरकार के प्रस्ताव पर चर्चा करेंगे. 11वें दौर की वार्ता अब 22 जनवरी को होगी. 10वें दौर की वार्ता में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, रेल, वाणिज्य और खाद्य मंत्री पीयूष गोयल तथा केंद्रीय वाणिज्य राज्य मंत्री सोमप्रकाश समेत लगभग 40 किसान संगठनों के प्रतिनिधि विज्ञान भवन में शामिल हुए थे.
  • किसान आंदोलन : कमेटी के सदस्यों को लेकर सुप्रीम कोर्ट में हुई जमकर बहस, प्वाइंटर्स में पढ़ें पूरा मामला
    किसानों की 26 जनवरी को होने वाली ट्रैक्टर रैली को लेकर दिल्ली पुलिस की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के बीच एक किसान यूनियन ने कोर्ट में बहस कर कमेटी के सदस्यों के बारे में पक्ष रहना चाहा तो काफी लंबी बहस हुई.आप भी पढ़ें-
  • किसानों और सरकार के बीच आज 10वें दौर की वार्ता, ट्रैक्टर रैली पर सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई- 10 बड़ी बातें
    तीनों नए कृषि कानूनों की वापसी की मांग पर दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसानों के आंदोलन का आज 56वां दिन है. आज ही किसान संगठनों के प्रतिनिधियों और केंद्र सरकार के प्रतिनिधियों के बीच दसवें दौर की बातचीत होनी है. पहले यह बैठक मंगलवार (19 जनवरी) को होनी थी लेकिन केंद्रीय कृषि सचिव ने इसे अपरिहार्य कारणों से स्थगित करते हुए किसान नेताओं को बुधवार (20 जनवरी) को बैठक के लिए आमंत्रित किया था. किसान गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) पर दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालने पर अड़े हैं. सुप्रीम कोर्ट में आज इस पर भी सुनवाई होनी है.
  • भारत: पहले दिन करीब 2 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन, CoWIN में खामियों से महाराष्ट्र में थमा वैक्सीनेशन; 10 बड़ी बातें
    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) द्वारा कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ शुरू किए गए दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान (Vaccination Drive) के तहत शनिवार को भारत में अग्रिम पंक्ति के लगभग दो लाख स्वास्थ्यकर्मियों और सफाईकर्मियों को टीके की पहली खुराक दी गई. इसके साथ ही दुनियाभर में 10 महीनों में लाखों जिंदगियों और रोजगार को लील लेने वाली इस महामारी के भारत में खात्मे की उम्मीद जगी है. करीब एक करोड़ लोगों के संक्रमित होने और 1,52,093 लोगों की मौत के बाद देश ने ‘कोविशील्ड’ और ‘कोवैक्सीन’ टीके के साथ महामारी को मात देने के लिए पहला कदम उठाया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि भारत में टीकाकरण के पहले दिन 3,352 केंद्रों पर 1,91,181 स्वास्थ्यकर्मियों और सफाईकर्मियों को टीके की पहली खुराक दी गई. वहीं, महाराष्ट्र सरकार ने को-विन (Co-win) ऐप में तकनीकी खामियों की वजह से टीकाकरण अभियान को दो दिन के लिए रोक दिया.
  • COVID-19 Vaccine: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शनिवार को दुनिया के सबसे बड़े कोरोनावायरस टीकाकरण कार्यक्रम (Coronavirus Vaccine Drive) की शुरुआत की. प्रधानमंत्री मोदी ने वैक्सीन के निर्माण कार्य में जुटे लोगों की तारीफ करते हुए कहा कि आज वो वैज्ञानिक, वैक्सीन से जुड़े तमाम लोग प्रशंसा के हकदार हैं, जो महीने से वैक्सीन बनाने में जुटे थे. उन्होंने ना दिन देखा और ना रात. आमतौर पर एक वैक्सीन बनाने में सालों लग जाते हैं, लेकिन इतने कम समय में दो-दो मेड इन इंडिया वैक्सीन तैयार हुई हैं.प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में जनता को सलाह दी है कि वैक्सीन की एक डोज लगने के बाद दूसरी डोज लेना बहुत जरूरी है.
  • कोरोना का काउंटडाउन : आज से शुरू होगा दुनिया का सबसे बड़ा कोविड-19 टीकाकरण अभियान, 10 बड़ी बातें
    भारत में आज (16 जनवरी, शनिवार) से कोरोनावायरस (Coronavirus) के खिलाफ दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण (Vaccinations) अभियान शुरू होने जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सुबह 10:30 बजे देश में पहले चरण के COVID-19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत करेंगे. लगभग सभी राज्यों में वैक्सीन पहुंचाई जा चुकी है. DCGI की ओर से आपातकालीन इस्तेमाल के लिए सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड (Covishield) और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन (Covaxin) को मंजूरी दी गई है. पहले फेज़ में हेल्थ वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन दी जाएगी. पूरे देश में एक साथ टीकाकरण अभियान की शुरुआत होगी और सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में इसके लिए कुल 3,006 टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं.
  • किसान आंदोलन के 50 दिन : आज भी सरकार से बातचीत रहेगी बेनतीजा या निकलेगा समाधान? 10 अहम बातें
    कृषि कानूनों के खिलाफ शुरू हुए किसानों के आंदोलन को 50 दिन हो चुके हैं. सरकार और किसान संगठनों के बीच आठ चरणों में बातचीत हो चुकी है, लेकिन मुद्दे का कोई हल नहीं निकल सका है. इस हफ्ते सुप्रीम कोर्ट ने कानूनों पर चर्चा के लिए एक समिति का गठन कर दिया है, जिसका किसान संगठन विरोध कर रहे हैं. ऐसे में शुक्रवार यानी आज एक बार फिर सरकार और किसानों के बीच बातचीत होनी है. नवें चरण की बातचीत के बावजूद भी इस बात पर अनिश्चितता बनी हुई है कि इस मुद्दे पर कोई हल निकलेगा क्योंकि किसान नेताओं ने फिर इस बात पर जोर दिया है कि वो इन कानूनों को वापस लिए जाने की मांग से पीछे नहीं हटेंगे. 
  • कोरोना के खिलाफ टीकाकरण की तैयारियां पूरीं, दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान से जुड़ी 10 खास बातें
    Covid-19 Vaccination: अभियान के पहले चरण में हेल्‍थ और फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण किया जाएगा. सबसे पहले टीका उन लोगों को दिया जाएगा जो दिन-रात लोगों की सेवा में लगे हुए हैं जैसे कि हेल्थ केयर वर्कर. उसके बाद सफाई कर्मी, पुलिस आदि जैसे जो फ्रंटलाइन वर्कर हैं उनको पहले चरण में टीका (Covid-19 Vaccine) लगाया जा रहा है. देश में करीब तीन करोड़ हेल्थ केयर वर्कर और फ्रंटलाइन वर्कर हैं. टीकाकारण अभियान के पहले दिन 16 जनवरी को करीब तीन लाख स्वास्थ्य कर्मियों को 2,934 केंद्रों पर टीके लगाए जाएंगे.
  • किसान आंदोलन का 50वां दिन, लोहड़ी पर कृषि कानूनों की प्रतियां जलाईं, 9वें दौर की वार्ता पर सस्पेंस- 10 अहम बातें
    तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों के विरोध-प्रदर्शन का आज 50वां दिन है. इस बीच किसानों ने लोहड़ी नहीं मनाई. दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने बुधवार को लोहड़ी के मौके पर प्रदर्शन स्थलों पर नए कृषि कानूनों की प्रतियां जलाईं.. वसंत की शुरुआत में पंजाब, हरियाणा समेत उत्तर भारत के कई राज्यों में लोहड़ी का त्योहार मनाया जाता है. इस दिन लोग लकड़ियां इकट्ठा करके जलाते हैं और सुख एवं समृद्धि की कामना करते हैं लेकिन इस बार पंजाब-हरियाणा के कई हिस्सों में लोहड़ी नहीं मनाई गई. 15 जनवरी को किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच नौवें दौर की वार्ता प्रस्तावित है. सुप्रीम कोर्ट द्वारा कमेटी गठन करने और उसके विरोध के बीच इस वार्ता पर सस्पेंस बना हुआ है.
  • यह किसी पक्ष की जीत नहीं, सिर्फ निष्पक्षता की जीत : 'कृषि कानून' पर SC के 5 अहम कमेंट्स 
    किसान आंदोलन और कृषि कानूनों को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिकाओं पर मंगलवार को सुनवाई हुई. सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा कदम उठाते हुए तीनों कृषि कानूनों (Farm Laws) को लागू करने पर अगले आदेश तक रोक लगी दी है. साथ ही समिति का भी गठन किया है. CJI एस ए बोबडे, जस्टिस ए एस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमण्यम की बेंच ने सुनवाई की. सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे ने कहा कि हम समस्या का समाधान चाहते हैं और इसके लिए कमेटी का गठन जरूरी है. हम अपने लिए कमेटी बना रहे हैं.
  • 'छोटी-सी चिंगारी से भड़क सकती है हिंसा' : 'कृषि कानून-किसान आंदोलन' पर SC के ये 5 कड़े कमेंट्स
    नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों और सरकार के बीच गतिरोध को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट ने तीखी प्रतिक्रिया जताई है. कृषि कानूनों के विरोध में देश के अन्नदाता 45 दिनों से ज्यादा समय से दिल्ली की सीमा पर डटे हुए हैं. गतिरोध को खत्म करने के लिए आठ दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन कृषि कानूनों के मुद्दे पर कोई नतीजा नहीं निकल सका है. दिल्ली की सीमा पर धरने पर बैठे किसानों ने गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी और देश के अन्य हिस्सों में किसान परेड निकाल कर आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी है. नवंबर अंत में शुरू हुए प्रदर्शन के बाद अब तक कई किसानों की जान जा चुकी है. प्रदर्शनकारी किसान कृषि कानूनों को रद्द करने से कम पर मानने को तैयार नहीं हैं.
  • महाराष्ट्र के बाद दिल्ली में बर्ड फ्लू की पुष्टि, अब तक 9 राज्यों में फैला संक्रमण, संसदीय कमेटी की बैठक आज; 10 बड़ी बातें
    देश में बर्ड फ्लू (Bird Flu) का खतरा फैलता जा रहा है. अब महाराष्ट्र और दिल्ली में भी बर्ड फ्लू (Bird Flu in Maharashtra) की पुष्टि हुई है. महाराष्ट्र में दो दिन में 800 मुर्गियों की मौत हो गई. जिसके बाद से राज्य सरकार सभी जरूरी एहतियात बरत रही है. दिल्ली के एनिमल हसबैंडरी विभाग के मुताबिक, भोपाल भेजे गए 8 सैंपल पॉजिटिव पाए गए हैं. महाराष्ट्र और दिल्ली समेत अब तक 9 राज्यों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है. केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, गुजरात और उत्तर प्रदेश में बर्ड फ्लू फैलने की पुष्टि हो चुकी है. फ्लू के फैलते खतरे पर संसदीय कमेटी ने आज (सोमवार) बैठक बुलाई है.
  • देश के 7 राज्यों में बर्ड फ्लू की दस्तक, बीमारी को काबू करने के लिए केंद्र ने कसी कमर: 10 बड़ी बातें
    कोरोना महामारी के खतरे के बीच भारत में परिंदों की तेजी से होती मौतों ने दहशत फैला दी है. देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू (Bird Flu) के मामलों की पुष्टि हुई और कई राज्यों में जंगली पक्षियों, कौवे और मुर्गियों की मौत के कारणों का पता लगाया जा रहा है. बर्ड फ्लू को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने स्थानीय अधिकारियों के साथ समन्वय तेज कर दिया है. पशुपालन और डेयरी विभाग ने संभावित हॉटस्पॉट की निगरानी बढ़ाने और निरंतर संचार बनाए रखने के लिए कहा है. जिन राज्यों में अब तक बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है उनमें उत्तर प्रदेश, केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और गुजरात शामिल हैं.
  • World Hindi Diwas 2021: 'विश्व हिंदी दिवस' आज, जानिए इससे जुड़ी 10 खास बातें
    आज (रविवार) 10 जनवरी है. दुनियाभर में हिंदी के चाहने वालों के लिए 10 जनवरी का दिन बेहद खास होता है क्योंकि इस दिन 'विश्व हिंदी दिवस' (World Hindi Day 2021) मनाया जाता है. इस दिन को मनाए जाने का मकसद दुनियाभर में हिंदी का प्रचार-प्रसार करना है. साथ ही हिंदी को अंतरराष्ट्रीय भाषा के रूप में स्थापित करना भी इसका एक मकसद है. विश्व में जिन देशों में भारत के दूतावास हैं, वहां खासतौर पर इस दिन को मनाया जाता है. इतना ही नहीं, देशभर के सभी सरकारी कार्यालयों और विश्वविद्यालयों में आज के दिन विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. विश्व हिंदी दिवस के इतिहास (World Hindi Diwas History) की बात की जाए तो साल 2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने 10 जनवरी को 'विश्व हिंदी दिवस' के तौर पर मनाए जाने की घोषणा की थी. तभी से इस दिन 'विश्व हिंदी दिवस' मनाया जाने लगा. हिंदी दिवस (Hindi Day) और विश्व हिंदी दिवस (World Hindi Day) के बीच फर्क है, हिंदी दिवस 14 सितंबर को मनाया जाता है. वहीं, 10 जनवरी को 'विश्व हिंदी दिवस' मनाया जाता है.
  • महाराष्ट्र अस्पताल अग्निकांड में 10 बच्चों की मौत : CM ने दिए जांच के आदेश, PM ने बताया 'दिल दहलाने वाला'; 10 बातें
    महाराष्ट्र के भंडारा जिला अस्पताल में शुक्रवार देर रात विशेष नवजात देखरेख इकाई में आग लगने से 10 नवजात बच्चों की मौत हो गई. डॉक्टरों ने यह जानकारी दी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने महाराष्ट्र अस्पताल अग्निकांड पर दु:ख व्यक्त किया.​ एक डॉक्टर ने बताया कि नवजात बच्चों की उम्र एक महीने से तीन महीने के बीच थी. जिला सिविल सर्जन प्रमोद खंडाते ने बताया कि भंडारा जिला अस्पताल में शुक्रवार देर रात एक बजकर 30 मिनट के आसपास आग लग गई. इकाई में 17 बच्चे थे, जिनमें से सात को बचा लिया गया.
  • किसान आंदोलन : किसानों की सरकार के साथ 8वें चरण की बातचीत आज, कृषि मंत्री बोले- 'हल निकलने की उम्मीद'
    कृषि आंदोलन के खिलाफ चल रहा किसान आंदोलन शुक्रवार को अपने 44वें दिन में प्रवेश कर चुका है. शुक्रवार को फिर किसानों और सरकार के बीच इन कानूनों पर बातचीत होगी. इसके पहले किसान नेता सात बार सरकार से मिल चुके हैं. चूंकि किसानों की सीधी मांग इन कानूनों को वापस लेने की है, ऐसे में मामले पर अभी तक कोई हल नहीं निकल सका है क्योंकि सरकार ये कानून वापस लेने को राजी नहीं है. उसने संशोधनों का प्रस्ताव रखा है लेकिन किसान संगठनों ने साफ कर दिया है कि वो इन कानूनों को पूरी तरह खत्म किए जाने की मांग पर अड़े हैं. 
  • कोविड टीकाकरण से पहले आज देशभर में दूसरा ड्राई रन : 10 अहम बातें
    उत्तर प्रदेश और हरियाणा को छोड़कर देश के सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के सभी जिलों में आज (8 जनवरी) कोविड-19 टीकाकरण का पूर्वाभ्यास (ड्राई रन) किया जा रहा है, ताकि टीकाकरण और उसके रख-रखाव व भंडारण के तहत होने वाली खामियों को उजागर किया जा सके और समय रहते उसे दूर किया जा सके. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि प्रत्येक जिला दो जनवरी को हुए पूर्वाभ्यास की तरह ही तीन तरह के सत्र स्थलों की पहचान करेगा जिनमें एक सार्वजनिक जनस्वास्थ्य प्रतिष्ठान  (जिला अस्पताल/मेडिकल कॉलेज), निजी स्वास्थ्य प्रतिष्ठान और ग्रामीण या नगरीय पहुंच स्थल शामिल होंगे.
  • किसान आंदोलन : आज ट्रैक्टर लेकर दिल्ली को घेरेंगे 40 किसान संगठन, जानें रैली से जुड़ी बड़ी बातें
    कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के आंदोलन को गुरुवार को 43 दिन हो गए हैं. सरकार से आठ चरणों में बातचीत के बावजूद अभी तक कोई हल नहीं निकल सका है. ऐसे में गुरुवार को लगभग 40 किसान संगठन दिल्ली के आसपास के इलाकों में एक बड़ी ट्रैक्टर रैली निकाल रहे हैं. हालांकि, 26 जनवरी को इससे भी बड़ा मार्च निकाला जाना है. किसान गुरुवार की सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे. उन्होंने अपना रूट भी तय किया है, जिसके चलते कई रास्तों पर ट्रैफिक डायवर्जन हुआ है.
  • देश में बर्ड फ्लू का खतरा बढ़ा, 4 राज्यों में वायरस की पुष्टि, संक्रमण रोकने की कोशिशें शुरू
    Bird Flu Alert : पिछले 10 दिनों में भारत के कई राज्यों में लाखों पक्षी मृत मिले हैं. कम से कम चार राज्यों- हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, केरल और राजस्थान ने बर्ड फ्लू की पुष्टि कर दी है, जिसके बाद इसके संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कई अन्य राज्य भी अलर्ट हो गए हैं. केरल में पिछले कुछ दिनों में 12,000 बत्तखों की मौत हुई है, जिसके बाद कर्नाटक और तमिलनाडु सावधानी बरत रहे हैं. वहीं हिमाचल में भी हजारों पक्षी मृत मिले थे, जिसके बाद जम्मू-कश्मीर और हरियाणा ने अपने-अपने राज्य में सैंपलों की जांच करनी शुरू कर दी है. बता दें कि बर्ड फ्लू या एवियन फ्लू वायरस घरेलू पोल्ट्री और दूसरे पक्षियों और जानवरों की नस्लों को संक्रमित कर सकता है.
  • SMS, आधार और डिजीलॉकर...कोविड-19 टीकाकरण से जुड़ी 10 खास बातें...
    Covid-19 Vaccination: आधार प्रमाणीकरण (Aadhaar authentication) और करीब 12 भाषाओं में वैक्‍सीन लेने की पुष्टि के SMS, ये वे खास फीचर्स हैं तो जो लाखों लोगों को कोविड-19 का वैक्‍सीन देने के लिए भारत की ओर से विकसित किए जा रहे CoWIN APP में होंगे. कोरोना महामारी के बीच कोविन एप और इसका ecosystem को विस्‍तृत स्‍तर पर चलने वाले कोरोना वैक्‍सीन अभियान का मैनेज और व्‍यवस्थित करने के लिए इस्‍तेमाल किया जाएगा.
12345»

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com