NDTV Khabar
होम | फैक्‍ट फाइल

फैक्‍ट फाइल

  • ''पहली बार सरदार सरोवर बांध को पूरा भरा हुआ देखा, एक समय था जब...'', पढ़ें पीएम मोदी की 10 खास बातें
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने जन्मदिन के अवसर पर गृहराज्य गुजरात के केवड़िया में जनसभा को संबोधित किया. पीएम मोदी ने कहा कि वह सरदार सरोवर परियोजना को सफल बनाने के लिए काम करने वाले लाखों लोगों का आभार व्यक्त करते हैं. पीएम मोदी ने नर्मदा जिले में स्थित सरदार सरोवर बांध का जायजा लिया, जिसका जलस्तर 138.68 मीटर हो गया है. दो साल पहले बने इस बांध का जलस्तर क्षमता के अनुसार पहली बार सबसे ऊंचा हुआ है. प्रधानमंत्री के आगमन के मौके पर समूचे बांध को बिजली के रंग-बिरंगे बल्बों से सजाया गया है. इसके अलावा भाजपा भी समूचे सप्ताह 'सेवा सपथ' का आयोजन किया, जिसमें पार्टी प्रमुख अमित शाह सहित प्रत्येक भाजपा सदस्य भाग लिया.
  • कश्मीर में गुलाम नबी आजाद किससे मिलने जा रहे हैं, फारुख अब्दुल्ला को फिर लिया गया हिरासत में, जम्मू-कश्मीर से जुड़ी आज की 15 बड़ी बातें
    सुप्रीम कोर्ट से जम्मू-कश्मीर जाने की इजाजत मिलने के बाद कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि उनकी याचिका में यह कहीं लिखा है कि वह परिवार या किसी नेता से मिलने जा रहा हूं. गुलाम नबी आजाद ने कहा कि घाटी में बीजेपी के नेता को छोड़कर सभी को हिरासत में रखा गया है. जाहिर सी बात है वो आवाज नहीं उठाएंगे. उन्‍होंने कहा कि मैं घाटी के लोगों से मिलूंगा और कोर्ट को बताउंगा कि वो कैसे रह रहे हैं ताकि कोर्ट सरकार को बताए कि उनके खाने पीने का सही इंतजाम हो सके. गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैंने अपने परिवार वालों से मिलने की बात कही है क्‍योंकि मेरे भाई, बहन, भतीजे सभी वहां रहते हैं. मैं उनको लेकर चिंतित हूं. मैं वहां के दूसरे लोगों को लेकर भी चिंतित हूं. जो लोग वहां शिकारे पर काम करते हैं उनकी रोजी रोटी रोज की आमदनी पर निर्भर करती है. जब 100 रुपये उनके घर में आते हैं तब जाकर उनके घर में चूल्‍हा जलता है. गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैं यह देखना चाहता हूं कि वो कैसे रह रहे हैं. उनकी रोजी रोटी कैसे चल रही है. गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को लेकर आज कई खबरें आई हैं. श्रीनगर से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक आज जम्मू-कश्मीर को लेकर गहमागहमी का दिन रहा है.
  • अधूरे प्रोजेक्ट पूरे करने के लिए 10000 करोड़ रुपये की सरकारी मदद आम्रपाली, जेपी और युनिटेक को नहीं मिलेगी, 10 बड़ी बातें
    वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने फिर एक प्रेस कान्फ्रेंस कर अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए कुछ नए ऐलान किए हैं. इस बार ऐलान हाउसिंग और एक्सपोर्ट सेक्टर से जुड़े हैं. देश भर में अटके हुए अफ़ॉर्डेबल और मिडिल क्लास हाउसिंग प्रोजेक्ट्स जो NPA या दिवालिया अदालत में नहीं हैं उनके लिए सरकार ने दस हज़ार करोड़ रूपए के फंड का एलान किया है. एक महीने में तीसरी बार वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कांफ्रेंस की है. जिसमें अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए कई अहम ऐलान किए जा चुके हैं. इस बार बार निर्यात और हाउसिंग क्षेत्र में राहत देने के लिए सरकार ने ऐलान किए हैं.
  • दिल्ली में फिर लौटा ऑड-ईवन (Odd-Even) का नियम, पढ़ें प्रदूषण कम करने के लिए सीएम केजरीवाल का 7 प्वाइंट फॉर्मूला
    दिल्ली में धुंध के दौरान प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए 7 प्वाइंट में प्लान पेश किया है. इसके तहत 4 नवंबर के 15 नवंबर तक एक बार फिर दिल्ली में ऑड-ईवन ( (Odd-Even)  का नियम लागू किया जाएगा. सीएम केजरीवाल ने कहा कि ऑड-ईवन नियम से दिल्ली में 10 से 13 फीसदी तक प्रदूषण कम हुआ था. इसके साथ ही उन्होंने दिवाली में पटाखे न जलाने की भी अपील की है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि ऑड-ईवन के दौरान ओला-उबर पर भी लगाम रखी जाएगी ताकि वह किराए न बढ़ाएं. इसके साथ ही जब उनसे पूछा गया है कि नए मोटर विहिकल एक्ट के तहत जो भारी जुर्माना किराया वसूला जा रहा है क्या उसको दिल्ली में कम किया जाएगा, इस पर सीएम केजरीवाल ने कहा कि नज़र रखे हुए हैं. इससे ट्रैफिक में सुधार है अगर किसी खास बिंदु से दिक्कत होगी तो उसको कम ज़रूर करेंगे.
  • भारत ने UNHRC में कहा - जम्मू-कश्मीर में धीरे-धीरे सबकुछ सामान्य हो रहा है, पढ़ें 10 बड़ी बातें
    भारत ने पाकिस्तान के दुर्भावनापूर्ण अभियान को दृढ़ता से खारिज करते हुए मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में कहा कि जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करना भारतीय संसद का एक संप्रभु निर्णय है और देश अपने आंतरिक मामले में कोई हस्तक्षेप स्वीकार नहीं कर सकता. इस दौरान भारत ने पाकिस्तान द्वारा जलाए जा रहे राज्य प्रायोजित आतंकवाद की भी कड़े शब्दों में निंदा की. विदेश मंत्रालय के पूर्वी मामलों की सचिव विजय ठाकुर सिंह ने  UNHRC के 42वें सत्र में भारत के खिलाफ पाकिस्तान के आरोपों को खारिज किया और कहा कि जो अन्य देशों में अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों के बारे में बोलते हैं, वे खुद अपने देश में उनके मानवाधिकारों को कुचल रहे हैं और जब वास्तव में वे खुद षड्यंत्रकारी होते हैं तो वे स्वयं को पीड़ित बताने लगते हैं. उन्होंने पाकिस्तान की ओर स्पष्ट संकेत करते हुए कहा कि मानवाधिकारों के बहाने दुर्भावनापूर्ण राजनीतिक एजेंडे के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) का दुरुपयोग करने वालों की निन्दा किए जाने की आवश्यकता है. UNHRC प्रमुख मिशेल बैश्लेट द्वारा सोमवार को की गई टिप्पणी पर सिंह ने कहा कि भारत द्वारा हाल में जम्मू कश्मीर में उठाए गए विधायी कदम देश के संविधान के आधारभूत ढांचे के अनुरूप हैं. भारत ने UNHRC से कहा कि जम्मू-कश्मीर में धीरे-धीरे सबकुछ सामान्य हो रहा है.
  • भारत-नेपाल के बीच दक्षिण एशिया की पहली क्रॉस-बॉर्डर पाइपलाइन की शुरुआत, जानिए 5 बड़ी बातें
    पीएम मोदी ने अपने नेपाली समकक्ष केपी शर्मा ओली के साथ रिमोट के जरिए मोतिहारी-अमालेखगंज पेट्रोलियम पाइपलाइन का उद्घाटन किया. पीएम मोदी नई दिल्ली में अपने कार्यालय में और उनके नेपाली समकक्ष केपी शर्मा ओली काठमांडु में मौजूद थे. इस परियोजना का प्रस्ताव साल 1996 में पेश हुआ था. लेकिन 2014 में मोदी सरकार आने के बाद इस परियोजना पर तेजी से काम शुरू हुआ और 2015 में दोनों देशों ने इस पर समझौते के लिए हस्ताक्षर किये. जुलाई में दोनों देशों ने सफलतापूर्वक ऑयल पाइपलाइन के जरिए ट्रांसफर का परीक्षण भी कर लिया था. इस परियोजना के बारे में पीएम मोदी ने कहा, 'मई 2019 में नेपाल के पीएम की भारत यात्रा के दौरान, हम प्रोजेक्ट के जल्द उद्घाटन पर सहमत हुए थे. मुझे खुशी है कि हमारी संयुक्त कोशिशों से हमारे द्विपक्षीय प्रोजेक्ट प्रगति कर रहे हैं और आज हम मोतीहारी-अमलेखगंज पाइप लाइन के संयुक्त उद्घाटन में भाग ले रहे हैं.'
  • 30 कंपनियों से रिजेक्ट होने वाले जैक मा ऐसे बने चीन के सबसे अमीर आदमी
    अलीबाबा ग्रुप के फाउंडर जैक मा (Jack Ma) चेयरमैन पद से रिटायर हो जाएंगे. वह 10 सितंबर को अपने जन्मदिन के मौके पर चेयरमैन पद को छोड़ेंगे. जैक मा कंपनी की बागडोर डैनियल झांग को सौंप देंगे. उम्मीद है कि जैक मा (Jack Ma) सलाहकार की भूमिका में बने रह सकते हैं. चेयरमैन पद से हटने के बाद जैक मा शिक्षा के क्षेत्र में काम करेंगे. जैक मा (Jack Ma) की संपत्ति 34.6 अरब डॉलर है. अलीबाबा को इस ऊंचाई तक पहुंचाने वाले जैक मा ने अपनी करियर की शुरुआत एक अंग्रेजी टीचर के तौर पर की थी. इससे पहले उन्हें केएफसी समेत 30 नौकरियों के लिए रिजेक्ट किया जा चुका था. हैरानी की बात तो ये है कि कंप्यूटिंग की कोई खास जानकारी न होते हुए भी उन्होंने ऑनलाइन बिजनेस की शुरुआत की. उन्होंने दो दशक पहले अपने अपार्टमेंट में ही अलीबाबा की नींव रखी. साल 2014 में अलीबाबा ने दुनिया की सबसे बड़ी सार्वजनिक हिस्सेदारी के जरिए 25 अरब डॉलर जुटाए थे.
  • हर जंग जीतने के लिए नहीं, सिर्फ इसलिए लड़ी जाती है, ताकि दुनिया को बताया जा सके, कोई है, जो लड़ रहा है : रवीश कुमार
    हिंदी पत्रकारिता के लिए गौरव का दिन है. आज फिलीपीन्स की राजधानी मनीला में एनडीटीवी इंडिया के रवीश कुमार को रेमॉन मैगसेसे सम्मान प्रदान किया गया है. उनको सम्मान देने वालों ने माना है कि रवीश कुमार उन लोगों की आवाज़ बनते हैं जिनकी आवाज़ कोई और नहीं सुनता. पिछले दो दशकों में एनडीटीवी में अलग-अलग भूमिकाओं में और अलग-अलग कार्यक्रमों के ज़रिए रवीश कुमार ने पत्रकारिता के नए मानक बनाए हैं. एक दौर में रवीश की रिपोर्ट देश की सबसे मार्मिक टीवी पत्रकारिता का हिस्सा बनता रहा. बाद में प्राइम टाइम की उनकी बहसें अपने जन सरोकारों के लिए जानी गईं. और जब सत्ता ने उनके कार्यक्रम का बहिष्कार कर दिया तो रवीश ने जैसे प्राइम टाइम को ही नहीं, टीवी पत्रकारिता को ही नई परिभाषा दे डाली. सरकारी नौकरियों और इम्तिहानों के बहुत मामूली समझे जाने वाले मुद्दों को, शिक्षा और विश्वविद्यालयों के उपेक्षित परिसरों को उन्होंने प्राइम टाइम में लिया और लाखों-लाख छात्रों और नौजवानों की नई उम्मीद बन बैठे. जिस दौर में पूरी की पूरी टीवी पत्रकारिता तमाशे में बदल गई है- राष्ट्रवादी उन्माद के सामूहिक कोरस का नाम हो गई है, उस दौर में रवीश की शांत-संयत आवाज़ हिंदी पत्रकारिता को उनकी गरिमा लौटाती रही है. मनीला में रेमॉन मैगसेसे सम्मान से पहले अपने व्याख्यान में उन्होंने कहा कि अब लोकतंत्र को नागरिक पत्रकार की बचाएंगे और वे ख़ुद ऐसे ही नागरिक पत्रकार की भूमिका में हैं.
  • मिशन चंद्रयान 2 की पूरी कहानी, कहां से शुरू और कहां पर खत्म, पढे़ं पूरी टाइमलाइन
    चंद्रमा की सतह को छूने से चंद मिनट पहले लैंडर ‘विक्रम’ का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटने के बाद इसरो के एक अधिकारी ने शनिवार को बताया कि चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर चंद्रमा की कक्षा में सुरक्षित है. अधिकारी ने ‘पीटीआई’ से कहा, ‘‘ऑर्बिटर चंद्रमा की कक्षा में पूरी तरह ठीक एवं सुरक्षित है और सामान्य तरीके से काम कर रहा है.’’ 2379 किलोग्राम ऑर्बिटर के मिशन का जीवन काल एक साल है. उल्लेखनीय है कि 3,840 किलोग्राम वजनी चंद्रयान-2 को 22 जुलाई को जीएसएलवी एमके-3 एम1 रॉकेट से प्रक्षेपित किया गया था. चंद्रयान-2 ने धरती की कक्षा छोड़कर चंद्रमा की तरफ अपनी यात्रा 14 अगस्त को इसरो द्वारा ‘ट्रांस लूनर इन्सर्शन’ नाम की प्रक्रिया को अंजाम दिये जाने के बाद शुरू की थी. यह प्रक्रिया अंतरिक्ष यान को ‘लूनर ट्रांसफर ट्रेजेक्ट्री’ में पहुंचाने के लिये अपनाई गई. अंतरिक्ष यान 20 अगस्त को चंद्रमा की कक्षा में पहुंच गया था. चंद्रयान-2 के ‘ऑर्बिटर’ में चंद्रमा की सतह का मानचित्रण करने और पृथ्वी के इकलौते उपग्रह के बाह्य परिमंडल का अध्ययन करने के लिए आठ वैज्ञानिक उपकरण हैं. इसरो ने दो सितंबर को ऑर्बिटर से लैंडर को अलग करने में सफलता पाई थी, लेकिन शनिवार तड़के विक्रम का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया था. इसरो ने कहा है कि वह आंकड़ों का विश्लेषण कर रहा है.
  • मिशन चंद्रयान : पीएम मोदी की इन 10 बातों को साफ संकेत, चांद पर लहराकर रहेगा तिरंगा
    मिशन चंद्रयान के अंतिम क्षण में आई दिक्कतों के बाद आज सुबह 8 बजे पीएम मोदी ने इसरो के वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए कहा कि इस मिशन के साथ जुड़ा हुआ हर व्यक्ति एक अलग ही अवस्था में था. बहुत से सवाल थे, बड़ी सफलता के साथ आगे बढ़ते हैं. अचानक सबकुछ नजर आना बंद हो गया, मैंने भी उस पल को आपके साथ जिया है. पीएम मोदी ने कहा कि चांद को छूने का जब्जा और बढ़ा है. असफलताओं से जूझना हमारी परंपरा और संस्कृति है. पीएम मोदी ने कहा मुझे और पूरे देश को इसरो के वैज्ञानिकों पर गर्व है. मैं और देश आपके साथ है. पीएम मोदी ने कहा कि आप वह लोग हैं जो मां भारती का सिर ऊंचा रखने के लिए पूरा जीवन खपा देते हैं. पीएम मोदी ने कहा कि ज्ञान का सबसे बड़ा शिक्षक विज्ञान है और विज्ञान असफलता नहीं होती है. पीएम मोदी ने कहा कि चंद्रयान के सफर का आखिरी पड़ाव भले ही आशा के अनुरूप नहीं रही है लेकिन उसकी यात्रा शानदार रही है. पीएम मोदी की बातों से साफ संकेत है कि चांद पर तिरंगा लहराने की कोशिशों को अधूरा नहीं छोड़ा जाएगा. उन्होंने कहा कि हमारा ऑर्बिटर चंद्रमा के शानदार चक्कर लगा रहा है. गौरतलब है कि भारत के चंद्रयान-2 मिशन को शनिवार तड़के उस समय झटका लगा, जब लैंडर विक्रम से चंद्रमा के सतह से महज दो किलोमीटर पहले इसरो का संपर्क टूट गया। इसरो ने एक आधिकारिक बयान में कहा कि विक्रम लैंडर उतर रहा था और लक्ष्य से 2.1 किलोमीटर पहले तक उसका काम सामान्य थाय उसके बाद लैंडर का संपर्क जमीन पर स्थित केंद्र से टूट गया. आंकड़ों का विश्लेषण किया जा रहा है.
  • Chandrayaan 2: क्या विक्रम लैंडर चंद्रमा पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया? जानिए लैंडिंग के दौरान क्‍या-क्‍या हुआ...
    भारत के चंद्र मिशन को शनिवार तड़के उस समय झटका लगा, जब लैंडर विक्रम से चंद्रमा के सतह से महज दो किलोमीटर पहले इसरो का संपर्क टूट गया. इसके साथ ही 978 करोड़ रुपये लागत वाले चंद्रयान-2 मिशन का भविष्य अंधेरे में झूल गया है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के. सिवन ने संपर्क टूटने की घोषणा करते हुए कहा कि चंद्रमा की सतह से 2.1 किमी पहले तक लैंडर का प्रदर्शन योजना के अनुरूप था. उन्होंने कहा कि उसके बाद उसका संपर्क टूट गया. इसरो ने एक आधिकारिक बयान में कहा, "यह मिशन कंट्रोल सेंटर है. विक्रम लैंडर योजना अनुरूप उतर रहा था और गंतव्य से 2.1 किलोमीटर पहले तक उसका प्रदर्शन सामान्य था. उसके बाद लैंडर का संपर्क जमीन पर स्थित केंद्र से टूट गया. डेटा का विश्लेषण किया जा रहा है."
  • Reliance Jio Fiber: रिलायंस Jio की फाइबर ब्रॉडबैंड सेवा की खास बातें, कैसे करें अप्लाई यहां जानें
    रिलायंस Jio की फाइबर ब्रॉडबैंड सेवा (Reliance Jio Fiber) को 5 सितंबर से देशभर के 1600 शहरों में सभी ग्राहकों के लिए शुरू हो जाएगी. आधिकारिक तौर पर जियो फाइबर प्लान, सेट-टॉप बॉक्स व लैंडलाइन सर्विस को लॉन्च किया जाएगा. लेकिन आधिकारिक लॉन्च से पहले जानें कुछ ज़रूरी बातों को. टेलीकॉम सेक्टर में रिलायंस की अब तक की सबसे 'आक्रमक' योजना है. इससे पहले कंपनी ने जियो सिम लॉन्च करके इस सेक्टर के सारे समीकरण बदल लिए थे. वहीं फाइबर ब्रॉडबैंड सेवा लॉन्च होने के बाद डीटीएच कंपनियों को भी अच्छा-खासा नुकसान होने की आशंका है. फिलहाल इस रिलायंस की यह इस सेवा से ग्राहकों को काफी फायदा होने जा रहा है.
  • कांग्रेस में ये क्या हो रहा है? मंत्री ने दिग्विजय सिंह को कहा-  'ब्लैकमेलर नंबर वन' अवैध खनन शराब तस्करी में लिप्त, 10 बड़ी बातें
    मध्य प्रदेश कांग्रेस में इस समय अंदर खाने में अंदर ही अंदर खींचतान चरम पर पहुंच रही है. पहले 'बुआ' यानी मध्यप्रदेश की पूर्व उप मुख्यमंत्री जमुना देवी की दिग्विजय सिंह की पटरी नहीं खाई अब अब 'भतीजे' और मध्यप्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री उमंग सिंघार ने उनके ख़िलाफ़ मोर्चा खोला है. उमंग ने दिग्विजय को 'ब्लैकमेलर नंबर वन' तक कह डाला साथ ही यह भी आरोप लगाया कि दिग्विजय रेत के अवैध उत्खनन शराब तस्करी में लिप्त हैं. वन मंत्री उमंग सिंघार ने कहा, जिस प्रकार से सरकार की नीतियों में आप दखलंदाजी करते हैं, दिग्विजय सिंह जी जिस प्रकार से आप पर्दे के पीछे से अपने लोगों को बैठाकर अवैध धंधे करवाते हैं. शराब के धंधे के लिए अपने जिले में अधिकारी को बैठा रखा है.'
  • वन डे में सबसे ज्यादा रन बनाने वाली मिताली राज पहले टेस्ट में जीरो पर हुई थीं आउट, जानिए 10 बातें
    भारतीय महिला क्रिकेटर मिताली राज (Mithali Raj) ने टी-20 से संन्यास का ऐलान किया है. BCCI की ओर से उनकी इस घोषणा की पुष्टि भी कर दी गई है. टी-20 से संन्यास पर कप्तान मिताली राज (Mithali Raj) ने कहा, ''2006 से टी 20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में भारत का प्रतिनिधित्व करने के बाद अब मैं 2021 में होने वाले विश्व कप की तैयारी पर फोकस करना चाहती हूं. अपने देश के लिए विश्व कप जीतना मेरा सपना है और मैं इसके लिए अपना बेस्ट देना चाहती हूं. मैं बीसीसीआई को उनके निरंतर समर्थन के लिए धन्यवाद देती हूं और भारतीय टी-20 टीम को शुभकामनाएं देती हूं'' मिताली राज ने 32 टी-20 मुकाबलों में भारत की कप्तानी की है, जिसमें तीन टी-20 वर्ल्डकप 2012, 2014 और 2016 भी शामिल हैं. इतना ही नहीं साल 2006 में जब भारतीय महिला टीम ने डर्बी में अपना पहला टी-20 मैच खेला था, तब मिताली राज ही टीम की कप्तान थीं. मिताली ने महिला टी-20 में भारत की ओर 89 मैच में सबसे ज्यादा 2364 रन बनाए हैं.
  • कौन हैं रोमिला थापर जिनके सीवी को लेकर छिड़ गया है विवाद?
    इतिहासकार रोमिला थापर (RomilaThapar) का सीवी मांगने पर विवाद बढ़ता ही जा रहा है. #RomilaThapar ट्वीटर पर ट्रेंड कर रहा है और लोग लगातार इस मामले पर अपने विचार रख रहे हैं. इस मामले ने तूल पकड़ लिया है और रोमिला से सीवी मांगने पर कई छात्रों, शिक्षकों और इतिहासकारों ने इसका विरोध किया है. वहीं, थापर (RomilaThapar) से सीवी मांगने के मामले पर जेएनयू प्रशासन का कहना है कि उसने यह पत्र उनकी सेवा को खत्म करने के लिए नहीं बल्कि विश्वविद्यालय की सर्वोच्च वैधानिक निकाय कार्यकारिणी परिषद द्वारा समीक्षा करने की जानकारी देने के लिए लिखा है और ऐसा अन्य प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयें जैसे एमआईटी और प्रिसंटन विश्वविद्यालय में भी होता है. वहीं रोमिला थापर का कहना है कि  'यह जीवन भर का सम्मान है.' रोमिला थापर जानी मानी इतिहासकार और प्रोफेसर इमेरिटस हैं. प्राचीन भारतीय इतिहास की विशेषज्ञ रोमिला थापर 1970 से 1991 तक जेएनयू में प्रोफेसर रहीं. रिटायर होने के बाद उन्हें 1993 में प्रोफेसर इमेरिटस का दर्जा दिया गया. 
  • ट्रैफिक तोड़ना अपनी शान समझने वाले सावधान, जरूर पढ़ें ये 12 नियम, बाद में न कहना पता नहीं था
    मोटर व्हीकल ऐक्ट 2019 आज से लागू हो गया है जिससे ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों को भारी जुर्माना भुगतना पड़ेगा. इस एक्ट को बीती महीने ही संसद से मंजूरी मिली है. इन नियमों का उद्देश्य लोगों में ट्रैफिक नियमों को तोड़ने का भय भरना है क्योंकि अभी तक जुर्माने की राशि बहुत कम होती थी जिसकी वजह से लोग 100-50 रुपये थमाकर ट्रैफिक के नियमों को तोड़ना अपनी शान समझते थे. अब कई शहरों में ट्रैफिक नियमों को तोड़ने वाले 'इंटलीजेंट ट्रैफिक सिस्टम' भी नजर रखेगा. नए नियमों के मुताबिक अब ड्राइविंग के दौरान मोबाइल से बात करना, ट्रैफिक जंप करना और गलत दिशा में ड्राइव करने को खतरनाक ड्राइविंग कैटेगिरी में रखा गया है और इस पर भारी जुर्माना देना पड़ेगा.
  • असम में NRC लिस्ट हुई जारी, 19.06 लाख लोग हुए बाहर, पढ़ें 10 बड़ी बातें
    Assam NRC List 2019: असम में कड़ी सुरक्षा के बीच एनआरसी लिस्ट (Assam NRC list) जारी कर दी गई है. एनआरसी के समन्वयक प्रतीक हजेला ने बताया है कि 3,11,21,004 लोगों को लिस्ट में शामिल किया गया है. जबकि 19,06,657 लोगों को लिस्ट में जगह नहीं दी गई है. इसमें वे लोग भी शामिल हैं जिन्होंने कोई दावा नहीं किया है. उन्होंने यह भी कहा है कि जो लोग इससे सहमत नही हैं वे ट्रिब्युनल में अपील कर सकते हैं. सुरक्षा के मद्देनज़र राज्य के कई इलाक़ों में धारा 144 भी लगाई गई है. जिन लोगों के नाम अंतिम सूची में नहीं होंगे उनकी सुरक्षा की भी व्यवस्था की गई है. पिछले साल आई एनआरसी की ड्राफ़्ट सूची में क़रीब 40 लाख लोगों के नाम नहीं थे. जिसके बाद एक कमेटी बनाई गई और आज फ़ाइनल लिस्ट जारी की गई. इस नई लिस्ट में ड्राफ़्ट सूची से बाहर किए गए क़रीब 21 लाख लोगों के नाम जोड़ दिए गए हैं. इस लिस्ट में जिनका नाम है वही देश के नागरिक माने जाएंगे और जिनका नाम नहीं होगा वो विदेशी माने जाएंगे.
  • असम में NRC लिस्ट : 1950 से लेकर 31 अगस्त 2019 तक की पूरी कहानी
    असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर यानी एनआरसी की अंतिम लिस्ट गृह मंत्रालय ने जारी कर दी गई है. इस लिस्ट में 19 लाख 6,657 लोगों के नाम नहीं हैं. जबकि इस लिस्ट में अब 3 करोड़ 11 लाख 21 हजार लोगों के नाम हैं. पिछले साल आई एनआरसी की ड्राफ़्ट सूची में क़रीब 40 लाख लोगों के नाम नहीं थे. जिसमें ड्राफ़्ट सूची से बाहर किए गए क़रीब 21 लाख लोगों के नाम जोड़ दिए गए हैं. इस लिस्ट में जिनका नाम है वही देश के नागरिक माने जाएंगे और जिनका नाम नहीं होगा वो विदेशी माने जाएंगे. हालांकि मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा है कि जिन लोगों के नाम इस लिस्ट में नहीं हैं उन्हें परेशान होने की ज़रूरत नहीं है. वो ट्रिब्युनल में अपील कर सकते हैं. 'आजादी के बाद से राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के प्रकाशन तक असम में आव्रजन से जुड़े मामले से जुड़े घटनाक्रम इस प्रकार हैं.
  • 41 लाख लोगों की चिंताओं के बीच असम में आज प्रकाशित होगी NRC की फाइनल लिस्ट, 10 बड़ी बातें
    असम में नागरिकों की अंतिम सूची (NRC) आज सुबह 10 बजे ऑनलाइन प्रकाशित कर दी जाएगी. किसी भी शख्स को भारतीय या गैर-भारतीय बताने वाली पहली सूची प्रकाशित होने के एक साल बाद आने वाली इस सूची में 41 लाख से ज़्यादा लोगों के नाम दर्ज नहीं हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल के दौरान जम्मू एवं कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने और उसे दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांट देने के बाद अंतिम NRC सूची की घोषणा सबसे बड़ा घटनाक्रम होगा. असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) पहली बार 1951 में प्रकाशित किया गया था, और अब उसे सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर अपडेट किया गया है, ताकि असम में रह रहे भारतीय नागरिकों और उन लोगों को अलग-अलग किया जा सके, जो मार्च 25, 1971 के बाद गैरकानूनी तरीके बांग्लादेश से भारत में घुसे.
  • अब देश में 27 की जगह होंगे सिर्फ 12 सरकारी बैंक, कई बैंकों का आपस में होगा विलय, पढ़ें- 10 खास बातें
    केंद्र सरकार ने शुक्रवार को बड़ा ऐलान करते हुए कई बैंकों के आपस में विलय की घोषणा की. वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala sitharaman) ने कहा कि यूनाइटेड बैंक, अोरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और पंजाब नेशनल बैंक (PNB, OBC and United Bank) का विलय होगा. दूसरी तरफ, केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक का भी आपस में विलय किया जाएगा. इसी तरह यूनियन बैंक, आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का भी विलय किय़ा जाएगा. इंडिय़न बैंक और इलाहाबाद बैंक का भी आपस में विलय होगा. केंद्र सरकार के इस बड़े ऐलान के साथ ही अब देश में सरकारी बैंकों की संख्या घटकर 12 रह जाएगी. वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार ने जो फ़ैसले लिए थे, उन पर अमल की शुरुआत हो गई है. बैंक और NBFC के 4 टाइअप हुए. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंकों में नये विलय की बात करते हुए कहा कि बड़े बैंकों से कर्ज देने की क्षमता बढ़ती है. 
12345»

Advertisement