NDTV Khabar

शिष्या से रेप केस: आसाराम पर फैसला आज, जोधपुर जेल में लगेगी अदालत, 10 बातें

आसाराम ने अपनी ही एक शिष्य के साथ बलात्कार किया था. शिष्य को उसके पास पहुंचाने में उसके सेवादार शिवा और शरत और स्कूल की वार्डन शिल्पी की अहम भूमिका मानी जा रही है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शिष्या से रेप केस: आसाराम पर फैसला आज, जोधपुर जेल में लगेगी अदालत, 10 बातें

आसाराम रेप केस में आज जोधपुर की कोर्ट सुनाएगी फैसला

नई दिल्ली: जोधपुर की एक अदालत बलात्कार के आरोप संबंधित मामले में आसाराम के खिलाफ आज फैसला सुनाएगी. इस फैसले को ध्यान में रखते हुए जोधपुर में सुरक्षा बढ़ा दी गई और कई जगह धारा 144 लागू की गई है. अगर आसाराम को दोषी ठहराया जाता है तो उन्हें कम से कम दस साल की सजा हो सकती है. कानून व्यवस्था पर खतरे को ध्यान में रखते हुए केन्द्र ने राजस्थान, गुजरात और हरियाणा सरकारों से सुरक्षा बढाने और अतिरिक्त बल तैनात करने को कहा क्योंकि इन तीनों राज्यों में 77 साल के आसाराम के बड़ी संख्या में अनुयायी हैं.
10 बातें
  1. आसाराम ने अपनी ही एक शिष्य के साथ बलात्कार किया था. शिष्य को उसके पास पहुंचाने में उसके सेवादार शिवा और शरत और स्कूल की वार्डन शिल्पी की अहम भूमिका मानी जा रही है. जब आसाराम कमरे में नाबालिग लड़की के साथ था तो बाहर सेवादार निगरानी रखे हुए थे. उन्होंने लड़की को डराया और धमकाया भी आसाराम के साथ साथ वो भी इस केस में आरोपी है. 
  2. आसाराम केस में फैसला पॉक्‍सो एक्ट के लिए भी अहम माना जाएगा क्योंकि की एक गुरु शिष्य के रिश्ते को तोड़ते हुए एक नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार हुआ और बलात्कार उन लोगों ने किया और करवाया जिन पर उसकी सुरक्षा और परवरिश की ज़िम्मेदारी थी. 
  3. आसाराम के जोधपुर के आश्रम में अब सिर्फ कुछ चुनंदीदा लोगों को ही रहने की इजाजत दी गई है. उनमें से एक है शिवा है जो आसाराम का मुख्या सेवादार है और इस मामले में सह आरोपी भी है. 
  4. शिवा पर आरोप है कि उसने ही पीड़िता को आसाराम से मिलवाया था जब बलात्कार की घटना हुई थी तो उस पर भी बलात्कार में शामिल होने और षड़यंत्र रचने का आरोप है. लेकिन शिवा कहता है कि आसाराम समर्थक इलसिए यहां इक्‍ट्ठा नहीं हो रहे हैं क्‍योंकि उन्हें आसाराम ने यहां आने से मना किया है. 
  5. राजस्थान हाईकोर्ट के निर्देश के अनुसार, निचली अदालत मामले में जोधपुर केंद्रीय कारागार परिसर में अपना फैसला सुनाएगी. इस मामले में अंतिम सुनवाई एससी/एसटी की विशेष अदालत में सात अप्रैल को पूरी हुई थी और अदालत ने फैसले को सुरक्षित रखते हुए 25 अप्रैल को सुनाने की बात कही थी.
  6. पीड़िता के पिता ने कहा है कि मुझे न्यायपालिका में पूरा भरोसा है और मुझे विश्वास है कि आसाराम को सख्त सजा दी जाएगी. उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में पीड़िता के घर पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गयी है. शाहजहांपुर के पुलिस अधीक्षक के. बी. सिंह ने बताया कि पीड़िता के घर के बाहर सीसीटीवी कैमरों से भी निगरानी की जा रही है. आसाराम के शाहजहांपुर स्थित रुद्रपुर आश्रम पर भी नजर रखी जा रही हैं.
  7. आसाराम के खिलाफ निचली अदालत के फैसले से पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राजस्थान, गुजरात व हरियाणा को किसी भी अवांछित घटना को रोकने के लिए सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने की सलाह दी है. मंत्रालय संबंधित राज्यों के साथ संपर्क में भी है और केंद्रीय गृह सचिव राजीव गौबा ने इस मुद्दे को लेकर शीर्ष स्तर के प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों से बातचीत की है.
  8. हर बस और गाड़ी जो जोधपुर शहर में प्रवेश कर रही है उसकी तलाशी ली जा रही है. होटल और धर्मशाला की चेकिंग हर 4 घंटे में की जा रही है. 
  9. दिल्ली पुलिस ने जोधपुर की एक अदालत द्वारा फैसला सुनाये जाने के मद्देनजर पुलिस को हाई अलर्ट पर किया गया है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि दिल्ली की सीमाओं पर उनका विभाग नजर रख रहा है. इसके अलावा शहर के अंदरूनी इलाकों पर उनकी नजर है , जहां आसाराम के समर्थक फैसले के बाद जमा हो सकते हैं. 
  10. आसाराम को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की एक किशोरी की शिकायत पर गिरफ्तार किया गया था. पीड़िता आसाराम के मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा आश्रम में अध्ययन करती थी. पीड़िता का आरोप है कि आसाराम ने जोधपुर के पास मनाई इलाके में अपने आश्रम में बुलाकर उससे 15 अगस्त, 2013 को दुष्कर्म किया था.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
टिप्पणियां

Advertisement