मैं चाहता हूं कि मोदी सरकार की आलोचना हो: लंदन में पीएम मोदी के संबोधन के 10 अहम Quotes

जो लोग मुझपर पत्थर फेंकते हैं मैं उन्ही पत्थरों से पथ बना लेता हूं और उसी पर चढ़कर आगे बढ़ता हूं. मेरा कॉन्सेप्ट रहा है टीम इंडिया.

मैं चाहता हूं कि मोदी सरकार की आलोचना हो: लंदन में पीएम मोदी के संबोधन के 10 अहम Quotes

लंदन में पीएम मोदी

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंग्लैंड के सेंट्रल हॉल वेस्टमिंस्टर में भारतीय मूल के नागरिकों को संबोधित किया. ब्रिटेन के अपने इस दौरे में पीएम मोदी पहली बार भारतीय मूल के लोगों को संबोधित कर रहे थे. इस पूरे इवेंट का नाम 'भारत की बात, सबके साथ' था. इस दौरान पीएम मोदी ने भारत में हो रही रेप की घटनाओं से लेकर सर्जिकल स्ट्राइक आदि पर अपनी बातें रखीं. उन्होंने एक बाद एक सवालों का जवाब दिया और कहा कि यह सरकार अन्य सरकारों से अलग है. चलिए जानते हैं उनके भाषण की 10 बड़ी बातों को..

'भारत की बात, सबके साथ' की अहम बातें

  1. पीएम मोदी ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी देशवासियों को देने से पहले हमने पाकिस्तानी फ़ौज को बताया कि हमने ये किया है, वहां लाशें पड़ी होंगी, हटा लो. आतंक का निर्यात करनेवालों के लिए ये संदेश है कि हिंदुस्तान बदल गया है.

  2. जब बच्ची का बलात्कार होता है तो हम ऐसी घटनाओं को अन्य सरकारों की तरह घटनाओं में नहीं गिनते. मैं इस सरकार और उस सरकार में बलात्कार की घटनाओं की संख्या की गिनती में कभी शामिल नहीं हुआ. बलात्कार, बलात्कार होता है. 

  3. पीएम मोदी ने कहा कि 'रेलवे स्‍टेशन मेरे संघर्ष का गवाह, रेलवे स्‍टेशन पर रहकर जूझना सीखा. मेरी जिंदगी ने रेलवे पर मुझे बहुत कुछ सिखाया. यह मेरा निजी संघर्ष था. उन्होंने कहा कि  रेलवे से रॉयल पैलेस की तुकबंदी आपके लिए सरल है लेकिन मेरे लिए यह रास्ता काफी कठिन था. जहां तक रेलवे स्टेशन की बात है तो वह मेरी अपनी व्यक्तिगत कहानी है. वह मेरी जिंदगी के संघर्ष का दौर था. उसने मुझे जीना और जूझना सीखया.  रॉयल पैलेस यह नरेंद्र मोदी का नहीं है. यह मेरी कहानी नहीं है. 

  4. रेलवे स्टेशन पर रहने वाला नरेंद्र मोदी था, मगर इस लंदन के रॉयल पैलेस में बैठा शख्स 125 करोड़ हिंदुस्तानियों का सेवक है. यह रॉयल पैलेस सवा सौ करोड़ हिन्दुस्तानी के संकल्प का परिणाम है. 

  5. यह हमारे लोकतंत्र की ताकत है. लोकतंत्र में जनता जो ईश्वर का रूप है अगर वह फैसला कर ले तो एक चाय बेचने वाला भी उनका प्रतिनिधित्व करके रॉयल पैलेस पहुंच सकता है.

  6. मैं इस सिद्धांत को मानता हूं- जहां मैं नहीं तू ही तू है, जहां द्वै नहीं है द्वंद नहीं है. जहां द्वैत नहीं है और इसलिए मैं मेरे भीतर के नरेंद्र मोदी को लेकर जाता हूं तो शायद मैं देश के साथ अन्याय करूंगा. देश के साथ न्याय तब होता है जब अपने आप को भुला देना होता है. बीज भी तो खप ही जाता है, मैं भी खप जाता हूं जब बाहर जाता हूं.

  7. बेसब्री बुरी चीज नहीं है. मेरे हिसाब से बेसब्री जरूरी है. जिसके घर में साइकिल है तो वह स्कूटर लेना चाहता है. अगर यह नहीं है तो जो है वह भी चला जाएगा, मुझे खुशी है कि आज सवा सौ करोड़ देशवासियों के मन में आशा ऊभर कर आ रही है. हमनें ऐसा माहौल बनाया है कि लोग हमसे ज्यादा अपेक्षा कर रेह हैं.

  8. पीएम मोदी ने कहा कि आलोचना से ही लोकतंत्र पनपता है और सरकारों को भी सतर्क रखती हैं. मैं मानता हूं कि मोदी सरकार की भरपूर आलोचना होनी चाहिए. इसलिए अगर कोई आलोचना करता है तो मैं इसे सौभाग्य मानता हूं.

  9. लोग हमसे ज्यादा अपेक्षा कर रहे हैं, क्योंकि वह जानते हैं कि मोदी सरकार ऐसा कर सकती है. लोग जानते हैं कि जब वह कुछ कहते हैं तो सरकार उसे सुनती है और करती भी है. 

  10. जो लोग मुझपर पत्थर फेंकते हैं मैं उन्ही पत्थरों से पथ बना लेता हूं और उसी पर चढ़कर आगे बढ़ता हूं. मेरा कॉन्सेप्ट रहा है टीम इंडिया.



 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com