NDTV Khabar

पीएम मोदी ने बताया, आखिर क्‍यों लटका था मधेपुरा में इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव फैक्ट्री प्रोजेक्‍ट, 10 बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बिहार एक मात्र ऐसा राज्य था, जहां स्वच्छता का दायरा 50% से कम था, लेकिन मुझे बताया गया कि एक हफ्ते के स्वच्छाग्रह अभियान के बाद बिहार ने इस बैरियर को तोड़ दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम मोदी ने बताया, आखिर क्‍यों लटका था मधेपुरा में इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव फैक्ट्री प्रोजेक्‍ट, 10 बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को बिहार के मधेपुरा में इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव फैक्ट्री के फेज वन का भी लोकार्पण किया. इस मौके पर उन्‍होंने कहा कि ये फैक्ट्री दो कारणों से अहम है. एक तो ये मेक इन इंडिया का उत्तम उदाहरण है, और दूसरा, ये इस क्षेत्र में रोजगार का भी बड़ा माध्यम बन रही है. उन्‍होंने कहा कि चंपारण सत्याग्रह के सौ वर्ष के अवसर पर मुझे एक नई ट्रेन का शुभारंभ करने का भी अवसर मिला है. ये ट्रेन कटिहार से पुरानी दिल्ली तक चला करेगी. इसका नाम विशेष रूप से चंपारण हमसफर एक्सप्रेस रखा है. आधुनिक सुविधाओं से लैस ये ट्रेन, दिल्ली आने-जाने में आपके लिए बहुत मददगार साबित होगी.
मामले से जुड़ी अहम जानकारियां :
  1. पीएम मोदी ने कहा कि इस प्रोजेक्ट को 2007 में मंजूरी दी गई थी. मंजूरी के बाद 8 साल तक इसकी फाइलों में पावर नहीं आ पाई. 3 साल पहले एनडीए सरकार ने इस पर काम शुरू करवाया और अब पहला फेज पूरा भी कर दिया है.
  2. पीएम मोदी ने आज लगभग 900 करोड़ रुपए के नेशनल हाईवे प्रोजेक्ट का शिलान्यास किया. उन्‍होंने बताया कि औरंगाबाद से चोरदहा का जो सेक्शन अभी 4 लेन का है, उसे 6 लेन बनाने का काम आज से शुरू हो रहा है. ये प्रोजेक्ट बिहार और झारखंड, दोनों राज्यों के लोगों को फायदा पहुंचा पहुंचाएगा.
  3. पीएम मोदी ने घर या फैक्ट्री के गंदे पानी को गंगा में जाने से रोकने के लिए बिहार में अब तक 3 हजार करोड़ से ज्यादा के 11 प्रोजेक्ट की मंजूरी दी जा चुकी है. इस राशि से 1100 किलोमीटर से लंबी सीवेज लाइन बिछाने की योजना है.
  4. आज जिन योजनाओं का शिलान्यास किया गया, उनमें मोतिहारी झील के जीर्णोधार का प्रोजेक्ट भी शामिल है. पीएम ने कहा कि हमारा मोतिहारी शहर, जिस झील के नाम पर जाना जाता है, जो चंपारण के इतिहास का हिस्सा है, उसके पुनरुद्धार का कार्य आज से शुरू हो रहा है.
  5. पिछले सौ वर्ष में भारत की 3 बड़ी कसौटियों के समय बिहार ने देश को रास्ता दिखाया है. जब देश गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था, तो बिहार ने गांधी जी को महात्मा बना दिया, बापू बना दिया.
  6. उन्‍होंने कहा कि स्वतंत्रता के बाद जब करोड़ों किसानों के सामने भूमिहीनता का संकट आया, तो विनोबा जी ने भूदान आंदोलन शुरू किया. तीसरी बार, जब देश के लोकतंत्र पर संकट आया, तो जयप्रकाश जी उठ खड़े हुए और लोकतंत्र को बचा लिया.
  7. उन्‍होंने कहा कि बिहार एक मात्र ऐसा राज्य था, जहां स्वच्छता का दायरा 50% से कम था, लेकिन मुझे बताया गया कि एक हफ्ते के स्वच्छाग्रह अभियान के बाद बिहार ने इस बैरियर को तोड़ दिया.
  8. पिछले एक हफ्ते में बिहार में 8 लाख 50 हजार से ज्यादा शौचालयों का निर्माण किया गया है. ये गति और प्रगति कम नहीं है. मैं बिहार के लोगों को, प्रत्येक स्वच्छाग्रही को और राज्य सरकार को इसके लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं.
  9. उन्‍होंने कहा कि स्वच्छता का संबंध पानी से भी है. बेतिया को पीने के साफ पानी के लिए जूझना ना पड़े, इसके लिए अमृत योजना के तहत तकरीबन 100 करोड़ रुपए की लागत से वॉटर सप्लाई योजना का शिलान्यास किया है. इसका सीधा लाभ डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों को मिलेगा.
  10. घर या फैक्ट्री के गंदे पानी को गंगा में जाने से रोकने के लिए बिहार में अब तक 3 हजार करोड़ से ज्यादा के 11 प्रोजेक्ट की मंजूरी दी जा चुकी है. इस राशि से 1100 किलोमीटर से लंबी सीवेज लाइन बिछाने की योजना है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
टिप्पणियां

Advertisement