NDTV Khabar

पुलवामा हमले के बाद सेना की अपील : कश्मीर के समाज में मां की भूमिका अहम, बच्चों को समझाएं, पढ़ें 5 बड़ी बातें

ढिल्लन ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ अभियानों में हमारा फोकस साफ है, जो भी कश्मीर में घुसने की कोशिश करेगा जिंदा वापस नहीं जाएगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पुलवामा हमले के बाद सेना की अपील : कश्मीर के समाज में मां की भूमिका अहम, बच्चों को समझाएं, पढ़ें 5 बड़ी बातें

सेना की ओर से साफ संकेत दिए गए हैं कि किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा

नई दिल्ली: पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले के पर हुए हमले में 40 से ज्यादा जवानों की शहादत पर सेना की ओर से सेना की ओर से प्रेस कॉन्फ्रेंस में जहां एक ओर आतंकवादियों को ललकारा गया है तो दूसरी ओर कश्मीर आवाम से भी अपील की गई है वे अपने घरों को बच्चों को आतंक का साथ न देने के लिए समझाएं. चीन कॉर्प्स के कमांडर कंवलजीत सिंह ढिल्लन ने कहा है, 'कश्मीरी समाज में मां का अहम रोल होता है, मैं कश्मीर की सभी माताओं से अपील करता हूं कि वह अपने बच्चों को सरेंडर करने के लिए समझाएं. इसके साथ ही उन्होंने जोड़ा कि जो भी बंदूक उठाएगा, वो मारा जाएगा. सेना की ओर से जारी इस बयान में साफ कर दिया गया है कि अब किसी भी तरह की कार्रवाई से हिचका नहीं जाएगा. ढिल्लन ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ अभियानों में हमारा फोकस साफ है, जो भी कश्मीर में घुसने की कोशिश करेगा जिंदा वापस नहीं जाएगा.
5 बड़ी बातें
  1. केजीएस ढिल्लन ने कहा,' इसमें किसी भी तरह का शक नहीं है कि पाकिस्तान की सेना और आईएसआई पुलवामा हमले में शामिल  है.  वहीं सोमवार को पुलवामा एन्काउंटर के दौरान ब्रिगेडियर हरदीप सिंह के घायल होने की बात पर उन्होंने कहा कि वह स्वेच्छा से अपनी छुट्टी कम करके खुद ही एनकाउंटर वाली जगह पर पहुंच गए और मोर्चे को संभाल लिया.
  2. कश्मीर पुलिस के आईजी एसपी पानी ने कहा, ' आतंक में भर्ती होने में कमी आई है. पिछले तीन महीने में कोई भी भर्ती नहीं हुई है. कश्मीर में परिवार इसमें बड़ी भूमिका निभा रहे हैं. हम परिवारों और समुदाय से अपील करना चाहते हैं कि वह इसमें मदद करें.
  3. वहीं ढिल्लन ने कहा, 100 घंटे से कम समय में भी हमने पुलावामा के मास्टरमाइंड को मार गिराया है. जिसे पाकिस्तान से हैंडल किया जा रहा था.
  4. ढिल्लन ने कहा कि जिस तरह से कार में विस्फोट हुआ है, ऐसी घटना काफी समय बाद हुई है. हमने ऐसे हमलों से निपटने के लिए सारे विकल्प खुले रखे हैं.
  5. सीआरपीएफ  की ओर से प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल जुल्फिकार हसन ने कहा कि हेल्पलाइन नंबर 14411 शुरू की गई है ताकि देश भर में कश्मीरियों की मदद की जा सके.  हसन ने कहा कि सिविलयन कार की मदद से यह विस्फोट किया गया है. काफिले के गुजरने से पहले आरओपी (रोड ओपनिंग पार्टी) किया गया था. 

 




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
टिप्पणियां

Advertisement