NDTV Khabar

विजय माल्या का यूनाइटेड स्पिरिट्स से इस्तीफा, मिलेंगे 515 करोड़ - पढ़िए, क्या खोया, क्या पाया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
विजय माल्या का यूनाइटेड स्पिरिट्स से इस्तीफा, मिलेंगे 515 करोड़ - पढ़िए, क्या खोया, क्या पाया
नई दिल्ली: यूनाइटेड स्पिरिट्स के चेयरमैन विजय माल्या द्वारा कंपनी के बोर्ड से दिए इस्तीफे के बाद शुक्रवार को कंपनी के शेयरों में छह फीसदी का उछाल दर्ज किया गया। अब विजय माल्या अपने परिवार द्वारा स्थापित की गई कंपनी में सेवानिवृत्त संस्थापक कहलाएंगे।
इस्तीफे से क्या खोया, क्या पाया विजय माल्या ने...
  1. वर्ष 2012 में ही यूनाइटेड स्पिरिट्स में अपने अधिकतर शेयर बेचकर कंपनी के प्रबंधन के अधिकार ब्रिटेन-स्थित डायजियो (Diageo) को दे चुके विजय माल्या को चेयरमैन पद से हटाने की प्रक्रिया कुछ महीने पहले ही शुरू कर दी गई थी। विजय माल्या पर वित्तीय अनियमितताओं के आरोप लगे हैं, जिनका वह खंडन करते रहे हैं।
  2. गुरुवार को जारी एक बयान में विजय माल्या ने कहा, "अब वक्त आ गया है, जब मुझे यहां से आगे बढ़ जाना चाहिए, ताकि लगातार प्रचारित किए जा रहे आरोपों पर पूर्ण विराम लग सके, तथा डायजियो व यूनाइटेड स्पिरिट्स के साथ मेरे संबंधों की अनिश्चितता खत्म हो सके... इसीलिए मैं तत्काल प्रभाव से अपने पद से इस्तीफा दे रहा हूं..."
  3. गुरुवार को घोषित किए गए समझौते के तहत डायजियो द्वारा नियंत्रित यूनाइटेड स्पिरिट्स अब विजय माल्या को 515 करोड़ रुपये (7.5 करोड़ अमेरिकी डॉलर) का भुगतान करेगी। इनमें से चार करोड़ अमेरिकी डॉलर विजय माल्या को तुरंत दिए जाएंगे, जबकि शेष रकम अगले पांच सालों में बराबर किश्तों में उन्हें दी जाएगी।
  4. यूनाइटेड स्पिरिट्स ने कहा है कि कंपनी की 30 जून को खत्म होने वाले साल की बैलेंसशीट में विजय माल्या को किए जाने वाले इस भुगतान को 'असाधारण परिस्थितियों में किए गए खर्च' (एक्सेप्शनल आइटम - exceptional item) के रूप में दर्ज किया जाएगा।
  5. डायजियो ने विजय माल्या के साथ पांच-वर्षीय वैश्विक (यूके को छोड़कर) गैर-प्रतिद्वंद्विता समझौता भी किया है। इस समझौते के तहत विजय माल्या डायजियो, यूनाइटेड स्पिरिट्स तथा उनकी इकाइयों पर किसी तरह का कोई दावा नहीं करेंगे।
  6. इसके अतिरिक्त यूनाइटेड स्पिरिट्स द्वारा विजय माल्या पर लगे वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों की जांच के लिए 25 अप्रैल, 2015 को घोषित की गई कमेटी की सिफारिशों के प्रति भी विजय माल्या की कोई निजी ज़िम्मेदारी नहीं होगी, यानी अब चाहे कमेटी उन्हें दोषी करार दे, विजय माल्या के खिलाफ उन्हें लेकर कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी।
  7. विजय माल्या का पुत्र सिद्धार्थ माल्या यूनाइटेड स्पिरिट्स ग्रुप की उस कंपनी के बोर्ड में बना रहेगा, जो आईपीएल टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की मालिक है, और डायजियो दो साल तक सिद्धार्थ को बोर्ड से हटाने की कोशिश नहीं कर सकती।
  8. डायजियो ने कहा है कि उन्होंने फोर्स इंडिया फॉर्मूला 1 टीम को स्मरनॉफ (Smirnoff) की स्पॉन्सरशिप को बढ़ा दिया है, जिसमें विजय माल्या सह-मालिक और टीम प्रिंसिपल हैं। स्पॉन्सरशिप के तहत डायजियो अगले पांच साल तक प्रतिवर्ष निर्धारित रकम, यानी डेढ़ करोड़ अमेरिकी डॉलर देती रहेगी।
  9. अपने शानदार रहन-सहन की वजह से कभी 'किंग ऑफ गुड टाइम्स' कहलाने वाले विजय माल्या ने यूनाइटेड स्पिरिट्स में अपने शेयर डायजियो को उस समय बेचे थे, जब कर्ज़ में बुरी तरह डूबी उनकी कंपनी किंगफिशर एयरलाइन्स पूरी तरह बंद हो गई थी। दरअसल, वर्ष 2010 की शुरुआत में किंगफिशर एयरलाइन्स ने 6,900 करोड़ रुपये का ऋण लिया था, जिसके लिए विजय माल्या और उनकी सहायक कंपनियां गारंटर (guarantor) थे। वैसे, विजय माल्या अपनी एक और कंपनी यूनाइटेड ब्रूवरीज़ (United Breweries) के चेयरमैन बने रहेंगे, जो किंगफिशर बीयर का निर्माण करती है।
  10. इस इस्तीफे से डायजियो के यूनाइटेड स्पिरिट्स के पूर्व मालिक के रूप में विजय माल्या से सभी संबंध समाप्त हो जाएंगे, और प्रबंधन का पूरा नियंत्रण डायजियो के पास पहुंच जाएगा। डायजियो इस वक्त यूनाइटेड स्पिरिट्स के 55 प्रतिशत शेयरों की मालिक है, और भारतीय शराब बाज़ार में यूनाइटेड स्पिरिट्स की 39 फीसदी हिस्सेदारी है। वैसे, भारत बिक्री के लिहाज़ से डायजियो का दूसरा सबसे बड़ा बाज़ार है।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
टिप्पणियां

Advertisement