NDTV Khabar

MP-राजस्थान में 'कौन बनेगा मुख्यमंत्री' पर माथापच्ची जारी, अब है राहुल की 'अग्नि परीक्षा', 10 बड़ी बातें

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले सेमीफाइनल के तौर पर देखे जा रहे विधानसभा चुनाव की जंग तो कांग्रेस जीत गई, मगर मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार को कौन लीड करेगा, इस पर अभी भी असमंजस कायम है.

194 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
MP-राजस्थान में 'कौन बनेगा मुख्यमंत्री' पर माथापच्ची जारी, अब है राहुल की 'अग्नि परीक्षा', 10 बड़ी बातें

कौन होगा एमपी और राजस्थान में सीएम, राहुल गांधी करेंगे फैसला

नई दिल्ली: दरअसल, तीन राज्यों में जीत के बाद कांग्रेस के सामने सबसे बड़ी चुनौती है मुख्यमंत्री का  चुनाव करना, जिस पर लगातार माथापच्ची जारी है. हालांकि, बुधवार को कांग्रेस पार्टी ने स्पष्ट किया कि मध्य प्रदेश और राजस्थान में मुख्यमंत्री का फैसला राहुल गांधी करेंगे. हालांकि, यह इतना भी आसान होता नहीं दिख रहा है. क्योंकि राहुल गांधी के लिए यह किसी अग्नि परीक्षा से कम नहीं है. इसकी वजह यह है क्योंकि राहुल गांधी अक्सर युवाओं की बात करते हैं. अब उनके सामने असली चुनौती है कि वह अनुभव और तजुर्बे को तरजीह दें या फिर युवा और उसके जोश को. बहरहाल आज तस्वीर साफ हो जाएगी. बता दें कि बुधवार को राजस्थान और मध्य प्रदेश में विधायक दलों की बैठक हुई और फिर इस बात पर सहमती बनी कि अंतिम फैसला राहुल गांधी ही करेंगे. बता दें कि राजस्थान में मुख्यमंत्री को लेकर अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच मामला फंसा हुई है. सूत्र ऐसा बता रहे हैं कि दो तिहाई विधायक चाहते हैं कि सचिन पायलट ही मुख्यमंत्री बनें. उधर, मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया में टक्कर चल रही है. 
राजस्थान और मध्य प्रदेश में सियासी घटनाक्रम से जुड़ी 10 बातें
  1. दरअसल, पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने तीन प्रमुख राज्यों राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में जीत दर्ज की है और वहां से बीजेपी की सरकार को सत्ता से बेदेखल कर दिया है. 2019 लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी के लिए यह जीत किसी संजीवनी से कम नहीं है.
  2. राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री कौन होगा, इसका एलान आज हो सकता है. तीनों राज्यों में विधायक दलों की बैठक में प्रस्ताव पारित कर फ़ैसला आलाकमान पर छोड़ दिया गया है. दिल्ली से भेजे गए पर्यवेक्षक भी लौट आए हैं, जहां आज वो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मिलकर नेताओं की राय बताएंगे. इसके बाद नाम का एलान हो सकता है.. 
  3. छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए जबर्दस्त लॉबिंग के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी कार्यकर्ताओं से इन तीनों राज्यों में हर राज्य के मुख्यमंत्री पद के लिए अपनी शीर्ष पसंद बताने को कहा है. सूत्रों के मुताबिक पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए एक अंदरूनी संदेश मंच (एप) का उपयोग करते हुए राहुल गांधी ने उन्हें ऑडियो संदेश भेजा है और उन्होंने उनसे अपने-अपने राज्यों में मुख्यमंत्रियों के चयन के लिए फीडबैक मांगा है.
  4. बार-बार इस संबंध में जानने का प्रयास किये जाने के बावजूद पार्टी प्रवक्ताओं ने इस संदेश और उसके मजमून पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. यह संदेश कब भेजा गया है, उसका सटीक समय भी नहीं पता चल पाया है. हालांकि सूत्रों का कहना है कि जिन राज्यों में चुनाव हुए, वहां अनेक पार्टी कार्यकर्ताओं को यह संदेश भेजा गया है. इन तीनों राज्यों में से प्रत्येक में मुख्मयंत्री पद के लिए एक से अधिक नाम सामने आने के कारण गांधी ने अपने संदेश में कहा है कि पार्टी कार्यकर्ताओं की पसंद सीधे उन तक पहुंचनी चाहिए और इसके बारे में किसी भी अन्य को पता नहीं चलना चाहिए. इस संबंध में पार्टी के एक वरिष्ठ विधायक ने भी शक्ति एप से ऐसा संदेश मिलने की पुष्टि की. यह एप कांग्रेस प्रमुख पार्टी कार्यकर्ताओं से संवाद करने के लिए इस्तेमाल करते हैं. 
  5. राजस्थान में कांग्रसे पार्टी के लिए सबसे बड़ी मुसीबत है कि वह सचिन पायलट और अशोक गहलोत में से किसे मुख्यमंत्री के रूप में चुने. हालांकि, बुधवार को हुई विधायक दलों की बैठक में किसी एक नाम पर सहमति बननी थी, मगर ऐसा नहीं हो पाया. ऐसी स्थिति में अशोक गहलोत ने कांग्रेस के हाईकमान का पाले में गेंद डाल दिया और इसका समर्थन सचिन पायलट ने भी किया. हालांकि, मीडिया में कई तस्वीरें आईं हैं जिनमें दोनों मुस्कुराते हुए देखे गए.
  6. सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के नव निर्वाचित दो तिहाई विधायक सचिन पायलट के पक्ष में दिख रहे हैं. इनका कहना है कि सचिन पायलट राज्य के मुख्यमंत्री बने. जीत के बाद भी अशोक गहलोत के सामने सचिन-सचिन के नारे लगे थे. 
  7. राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में सरकार गठन के लिए संख्याबल जुटने के बाद निर्वाचित विधायकों ने बुधवार को पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को मुख्यमंत्रियों के नाम पर फैसला करने के लिए अधिकृत कर दिया और शीर्ष दावेदारों समेत वरिष्ठ नेता पूरे दिन एवं देर रात तक माथापच्ची करते रहे. इन तीनों राज्यों में सत्ता का ताज किसके सिर पर सजेगा- इसे लेकर संशय बना रहा. पार्टी नेताओं ने कहा कि इन तीनों राज्यों के लिए नियुक्त पर्यवेक्षकों और अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ गांधी की बैठक के बाद ही बृहस्पतिवार को नामों की घोषणा की जा सकती है. 
  8. मध्य प्रदेश में कमलनाथ मुख्यमंत्री पद की रेस में सबसे आगे चल रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक़ कमलनाथ का मुख्यमंत्री बनना लगभग तय है. हालांकि NDTV से बातचीत में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी कहा कि सीएम की ज़िम्मेदारी अगर उन्हें मिली तो ये सौभाग्य होगा, लेकिन ये तय करना आलाकमान का काम है.
  9. इन तीन राज्यों के साथ हुए तेलंगाना और मिजोरम के चुनाव में विजयी हुई क्रमश: तेलंगाना राष्ट्र समिति और मिजो नेशनल फ्रंट की क्रमश: बृहस्पतिवार और शनिवार को सरकार बनने जा रही है. तेलंगाना राष्ट्र समिति के के. चंद्रशेखर राव बृहस्पतिवार को तेलंगाना के मुख्यमंत्री पद और मिजो नेशनल फ्रंट के जोरमथंगा शनिवार को मिजोरम के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. जिन तीन राज्यों में कांग्रेस विजयी हुई है, वहां के नवनिर्वाचित विधायकों ने पार्टी पर्यवेक्षकों की मौजूदगी में बैठक की.
  10. मध्य प्रदेश और राजस्थान में पार्टी नेताओं ने सरकार गठन के लिए दावा पेश करने के लिए राज्यपालों से मुलाकात भी की. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
टिप्पणियां

Advertisement