NDTV Khabar

नवाजुद्दीन सिद्दीकी की ‘बाबूमोशाय बंदूकबाज’ के सीटीमार डायलॉग

नवाजुद्दीन सिद्दीकी की 'बाबूमोशाय बंदूकबाज' आज रिलीज हो गई है...कसी हुई फिल्म के साथ ही इसकेे डायलॉग भी काफी मजेदार हैं

1452 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
नवाजुद्दीन सिद्दीकी की ‘बाबूमोशाय बंदूकबाज’ के सीटीमार डायलॉग

बाबूमोशाय बंदूकबाज का एक सीन

खास बातें

  1. आज रिलीज हो गई है बाबूमोशाय बंदूकबाज
  2. देसीपन की महक लिए हुए हैं डायलॉग
  3. शूटर बने हैं नवाजुद्दीन सिद्दीकी
नई दिल्ली: इन दिनों बॉलीवुड में देसी फिल्मों का दौर है. इस बात का इशारा पिछले दो हफ्तों से मिल रहा है. बरेली की बर्फी और टॉयलेटः एक प्रेम कथा के तौर पर. टॉयलेट...की खासियत भी उसके डायलॉग थे. अब आज रिलीज हुई बाबूमोशाय बंदूकबाज के डायलॉग इसकी जान हैं. पूरी तरह से देसी महक से लबरेज ये डायलॉग दर्शकों को सीटी मारने के लिए मजबूर कर देंगे. आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही डायलॉग के बारे में:

यह भी पढ़ेंः Movie Review: पॉवरफुल है मौत का पोस्टमैन 'बाबूमोशाय बंदूकबाज'

फिल्म के पहले ही सीन में जब बाबू  कॉन्ट्रेक्ट किलिंग के लिए आता है:
हम तो आउटसोर्सिंग करते हैं...यमराज की..

नेता जीजी से बातचीत के दौरान बाबू बिहारी कहता हैः
जीजी...कुत्ता जब पाला जाता है, अच्छी नस्ल का पाला जाता है.क्योंकि उसे पता होता है कहां भौंकना, कैसे भौंकना है...कितना काटना है...

जब बाबू बिहारी के चेले बांके बिहारी (जतिन गोस्वामी) की मुलाकात फुलवा (बिदिता बाग) से होती हैः
शीशी भरी गुलाब की पत्थर पर तोड़ दे, ऐसी घरवाली मिल जाए तो बाहरवाली छोड़ दें...

बाबू बिहारी फुलवा से मिलने के दौरान यह डायलॉग मारता हैः
टॉल नहीं हैं लेकिन डार्क और हैंडसम तो हैं...

बांके बिहारी बहुत ही देसी अंदाज में अपनी माशूका से कहता हैः
बैटरी मर गया था (बैटरी डेड हो गई थी)

जब जीजी बाबू से कहती है कि तू तो बहुत काला हो गया है तो बाबू कहता हैः
काला आजकल काफी डिमांड में है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement