NDTV Khabar

राना डग्गुबाती: आंखों की रोशनी के मुद्दे से लोगों को प्रेरित करना चाहता हूं

3.5K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
राना डग्गुबाती: आंखों की रोशनी के मुद्दे से लोगों को प्रेरित करना चाहता हूं

खास बातें

  1. सालों पहले एक चैट शो में बताई थी एक आंख से न दिखाई देने की बात
  2. शो में आए एक बच्‍चे को प्रेरित करने के लिए किया था खुलासा
  3. राना: आगे बढ़ने के लिए मजबूत होने की जरूरत है
नई दिल्‍ली: फिल्म ‘बाहुबली’ के अभिनेता राणा डग्गुबाती ने कहा है कि उनकी एक आंख की रोशनी बाधित थी लेकिन उहोंने कभी खुद पर इसका असर नहीं पड़ने दिया. उन्होंने पीटीआई को बताया कि बरसों पहले उन्होंने एक आंख का प्रतिरोपण कराया था और इस बात का खुलासा एक चैट शो में किया, जिसका वीडियो अब वायरल हो गया है. राना डग्गुबाती ने बताया, 'कार्यक्रम में एक बच्चा था जिसकी मां की आंखों की रोशनी ट्यूमर के चलते चली गई थी. मैंने उन्हें प्रेरित करने के लिए अपनी आंखों के बारे में बताया. मैंने यह काफी समय समय पहले कहा और मैं कभी नहीं जानता था कि अब सामने आएगा.' अभिनेता (32) ने कहा कि उन्होंने कभी इसे समस्या के तौर पर नहीं देखा.

उन्होंने बताया, 'बरसों पहले मैंने प्रतिरोपण कराया था. बहुत कम लोग इस बारे में जानते हैं. देखा जाए तो यह एक तरह की विकलांगता है. यदि मैंने एक आंख बंद कर ली तो मैं दूसरी आंख से नहीं देख सकता. लेकिन उन चीजों में एक है जिस बारे में मैं ज्यादा नहीं सोचता. किसी को आगे बढ़ने के लिए मजबूत होने की जरूरत है.' पिछले हफ्ते रिलीज हुई फिल्म ‘बाहुबली : द कनक्लूश़न’ में उन्होंने भल्लाल देव की भूमिका निभाई है.
 
prabhas rana daggubati

फिल्म में युद्ध के अब तक के कुछ सबसे शानदार दृश्य हैं जो अब तक किसी भारतीय फिल्म में नहीं दिखे हैं और राणा ने कहा कि इन दृश्यों को फिल्माने के दौरान वे लोग अक्सर लक्ष्य के गायब होने के बारे में मजाक करते थे.  उन्होंने बताया, ' सेट पर ज्‍यादातर यह मजाक होता था. जैसे कि प्रभास हमेशा पूछा करते थे कि क्या एक्शन का क्रम शुरू होने से पहले मैं निशाना देख पाउंगा.' एसएस राजमौली के निर्देशन में बनी इस फिल्म ने अपने पहले ही दिन 121 करोड़ रूपये की कमाई कर बॉक्स ऑफिस पर सारे रिकार्ड ध्वस्त कर दिए हैं.

दग्गुबाती ने कहा कि यदि फिल्म की विषय वस्तु अच्छी है तो किसी फिल्म को इतिहास रचने से कोई चीज नहीं रोक सकती.  उन्होंने कहा, 'बाहुबली को जो सराहना मिल रही है उससे मैं सचमुच में खुश हूं. इसकी सफलता साबित करती है कि यदि आप सही विषय वस्तु पर चलें तो यह पूरे देश और दुनिया में सराही जायेगी.' उन्होंने कहा, 'हम तो सिर्फ इस देश की युद्ध आधारित सबसे बड़ी फिल्म बनाना चाहते थे लेकिन इसने जो हासिल किया है वह अद्भुत है.'

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement