'डियर माया' फिल्‍म रिव्‍यू: अकेलेपन से जूझती माया के किरदार में छाया मनीषा कोइराला का जादू

'डीयर माया' एक गहराई वाली फिल्‍म है और जो दर्शक इस तरह का सिनेमा पसंद करते हैं उन्हें ये फिल्‍म पसंद आएगी. इस फिल्‍म से कमबैक कर रहीं मनीषा कोइराला ने दमदार अभिनय किया है.

'डियर माया' फिल्‍म रिव्‍यू: अकेलेपन से जूझती माया के किरदार में छाया मनीषा कोइराला का जादू

फिल्‍म 'डीयर माया' के एक सीन में मनीषा कोइराला.

खास बातें

  • अपनी कमबैक फिल्‍म 'डीयर माया' में मनीषा कोइराला ने किया है शानदार अभिनय
  • निर्देशक सुनैना भटनागर, इससे पहले इम्‍ि‍तयाज अली को असिस्‍ट कर चुकी हैं
  • इस फिल्‍म को हमारी तरफ से मिलते हैं 3 स्‍टार
नई दिल्‍ली:

फिल्‍म : डियर माया
डायरेक्‍टर: सुनैना भटनागर
कास्‍ट: मनीषा कोइराला, मदीहा इमाम, श्रेया चौधरी

इस शुक्रवार सिनेमाघरों में कई फिल्‍में रिलीज हुई हैं, जिनमें से एक है 'डियर माया'. इस फिल्‍म के साथ सालों बाद मनीषा कोइराला बड़े पर्दे पर वापसी कर रही हैं. फिल्‍म का निर्देशन सुनैना भटनागर ने किया है और बतौर निर्देशक यह सुनैना की पहली फिल्‍म है. फिल्‍म में मनीषा कोइराला के अलावा मदीहा इमाम और श्रेया चौधरी भी मुख्‍य किरदार में नजर आ रही हैं. सुनैना भले ही पहली बार इस फिल्‍म से निर्देशक बन रही हों, लेकिन वह इससे पहले निर्देशक इम्‍तियाज अली को कई फिल्मों में असिस्ट कर चुकी हैं.

'डियर माया' कहानी है दो दोस्तों की जो शिमला में रहती हैं और वहीं के एक स्कूल में पढ़ती हैं. इन्‍हीं दो लड़कियों, ऐना और इरा के पड़ोस में रहती है माया देवी, जो कभी बाहर नहीं निकलती और एक बेरंग जिंदगी जी रही हैं. ईरा और ऐना को माया की इस जिंदगी के पीछे की सच्चाई पता चलती है तो वो उसकी जिंदगी में रंग भरना चाहते हैं पर माया के जीवन में बदलाव लाने की कोशिश में खुद ईरा और ऐना की दुनिया हिल जाती है. माया की इस जिंदगी और इरा और ऐना की दोस्ती का क्या हुआ? क्या जो चीजें बिगड़ी वो ठीक हो पाएंगी? इस सवालों के जवाब ढूंढ़ने के लिए आपको थिएटर्स का रुख करना होगा. लेकिन हमेशा की तरह इस बार भी इस फिल्‍म की कुछ कमियां और कुछ खूबियां बता कर मैं आपको यह फैसला लेने में थोड़ी मदद कर सकता हूं.

Newsbeep

यह एक धीमी गति की फिल्‍म है और तेज गति और मनोरंजक फिल्‍मों के चाहने वालों के लिए ये फिल्‍म नहीं है. इस फिल्‍म का पहला हिस्सा मुझे थोड़ा खिंचा हुआ लगा. इस हिस्‍से में कई खूबसूरत पल हैं लेकिन कहानी धीरे-धीरे आगे बढ़ती है और आप कुर्सी पर बेचैन होने लगते हैं. 'डियर माया' जिंदगी में खूबसूरती, खुशी और खुद को ढूंढ़ने की बात करती है जहां हर किरदार गुजरते वक्त के साथ खुद को तलाशता है. लेकिन फिल्‍म की परेशानी ये है की दर्शक इस फिल्‍म में माया और इन दो दोस्तों के किरदार के बीच में बंट जाते हैं. न तो वो माया के किरदार के साथ चल पाते हैं और न ही इन दोनों दोस्तों के साथ रह पाते हैं. इस कहानी पर आप यकीन नहीं कर पाते, लेकिन ये सिर्फ तब तक होता है जब तक कहानी की बाकी पर्तें नहीं खुलती और फिर धीरे धीरे आपको कहानी का फलसफा समझ में आता है. ये कुछ चंद खामियां हैं जो मुझे इस फिल्‍म में नजर आईं.  

 
dear maya manisha koirala

फिल्‍म की खूबियों की बात करें तो इस कहानी की जब पर्तें खुलने लगती हैं तब आपको समझ आता है की लेखक और निर्देशक ने क्या कहने की कोशिश की है. 'डीयर माया' एक गहराई वाली फिल्‍म है और जो दर्शक इस तरह का सिनेमा पसंद करते हैं उन्हे ये फिल्‍म पसंद आएगी. इस फिल्‍म का कहानी काफी अच्छी है, लेकिन इसके स्क्रीन प्ले को थोड़ा कसने और फोकस करने की जरूरत थी. इस फिल्‍म के इमोशंस ज्यादातर समय आपको बांध कर रखते हैं और आपकी उत्सुकता अंत तक बरकरार रहती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इन सबके अलावा इस फिल्‍म की खासियत हैं मनीषा कोइराला जिन्होंने दमदार अभिनय किया है. फिर चाहे उनका चाट खाने वाला सीन हो या फिर बाहरी जिंदगी से रूबरू होने वाला दृश्य. मनीषा ने हर भाव को बखूबी अंजाम दिया है. मनीषा के साथ साथ मदीहा और श्रेया ने भी जबरदस्त अभिनय किया है, दोनों के ही अभिनय में ठहराव है. निर्देशक सुनैना की बतौर निर्देशक ये पहली फिल्‍म है और उन्होंने दिखा दिया की उनके अंदर एक परिपक्व निर्देशक के गुण हैं. इमोशनस के फिल्‍मांकन पर उनकी पकड़ है और डायरेक्‍शन की बारिकियां वो जानती हैं. उनकी इस पहली फिल्‍म को देखकर लगता है कि उन्हें बस अपने स्क्रीन प्ले पर हाथ साफ करने की जरूरत है. फिल्म का संगीत और बैकग्राउंड स्कोर अच्छा है और संगीत के साथ ही लिरिक्स भी दमदार है. मेरी तरफ से इसे 3 स्टार.