NDTV Khabar

यूट्यूब से हिंदी गाना सीखने वाले ओमान के हैंथम मोहम्मद रफ़ी बने 'दिल है हिंदुस्तानी' के विजेता

2.6K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूट्यूब से हिंदी गाना सीखने वाले ओमान के हैंथम मोहम्मद रफ़ी बने 'दिल है हिंदुस्तानी' के विजेता
नई दिल्‍ली: गायक मोहम्मद रफ़ी ने अपनी आवाज के जादू से कई लोगों को दीवाना बनाया था और अब एक और मोहम्मद रफ़ी संगीत की दुनिया में अपनी शुरुआत कर रहा है. जिस मोहम्मद रफ़ी की बात हम कर रहे हैं वह है सिंगिंग रिएलिटी शो 'दिल है हिंदुस्‍तानी' के विजेता 23 साल के हैंथम मोहम्मद रफ़ी. मस्कट, ओमान का रहने वाला यह गायक हिंदी न जानते हुए भी हिंदी गाने को आसानी से गा लेता है और अपने इसी हुनर के दम पर करोड़ों हिंदुस्‍तानियों के दिल जीतने में कामयाब हुआ है. शनिवार को हुए शो के फिनाले में चार प्रतियोगी को पीछे छोड़ते हुए हैंथम मोहम्मद रफ़ी ने इस शो की ट्रॉफी अपने नाम कर ली है.

दुनिया के गायकों ने हिंदी गाने में आजमायी किस्‍मत
इस जीत के साथ मोहम्मद रफ़ी को 25 लाख रुपये भी मिले हैं. दूसरे स्थान पर भुवनेश्वर, ओडिशा के बरनाली होता और मुंबई के यूफोनी ग्रुप रहा. दिल्ली की 14 साल की सिमरन राज तीसरे स्थान पर रहीं. इस शो में भारतीय गायकों के साथ ही दुनिया के कई देशों के गायक शामिल हुए थे. अमेरिका के बेन परग रूसिया के नस्त्या सरस्वती लक्ष्मी जैसे गायक इस शो का हिस्सा थे. कुछ गायकों के लिए हिंदी बोलना भी मुश्किल था लेकिन हिंदी गानों के पति दीवानगी कुछ ऐसी थी कि वे यूट्यूब से सीखकर या ट्रेनिंग लेकर यहां तक पहुंचे.

हैथम के नाम में मोहम्मद रफ़ी जुड़ने के पीछे यह है राज
'दिल है हिदुस्‍तानी' के विजेता बने हैंथम का असली नाम हैथम अल बलूशी है लेकिन उनके नाम में मोहम्मद रफ़ी जुड़ने के पीछे गायक मोहम्‍मद रफी के प्रति दीवानगी है. हैंथम के दादा बॉलीवुड गायक मोहम्मद रफ़ी के बहुत बड़े फैन थे. हैंथम के पिता जब जन्म लेने वाले थे तब मोहम्मद रफ़ी बहरीन में परफॉर्म कर रहे थे. हैंथम के दादा मोहम्मद रफ़ी के गाने से इतने प्रभावित हुए थे की उन्‍होंने अपने बेटे का नाम मोहम्मद रफ़ी अल बलूशी रख दिया और इस तरह हैंथम का मिडिल नेम उनके पाप मोहम्मद रफ़ी के नाम से आया है. हैंथम हिंदी गाने गाना चाहते थे लेकिन ओमान जैसे अरब देश में हिंदी गाने का उनके लिए कोई स्‍कोप नहीं था.
 
यूट्यूब से सीखा बॉलीवुड गाना
हैथम ने यूट्यूब और हिंदी गानों की सीडी सुन-सुन कर गाना गाना सीखा. बैंक में काम करने वाले हैंथम को इस शो के ऑडिशन के लिए मुंबई बुलाया गया, जिसके लिए उन्‍हें अपनी यह नौकरी छोड़नी पड़ी. उनकी मां और परिवार के लोगों के लिए यह विश्‍वास करना कठिन था कि एक अरब के सिंगर को हिंदुस्तान के लोग पसंद करेंगे. इस शो के जज करण जोहर, शेखर रवजियानी,बादशाह और शालमली खोलगडे को उन्‍होंने अपने शानदार परफॉरमेंस से प्रभावित कर लिया.

शो से हुए थे बहार, फिर हुई वाइल्डकार्ड एंट्री
बता दें कि शो में अपने प्रदर्शन से सभी का दिल जीतने वाले हैंथम को शो से बाहर होना पड़ा था. जिस एपिसोड में हैंथाम की मां उनका प्रदर्शन देखने के लिए मुंबई आई थी उसी एपिसोड में जनता के वोटों की कमी के चलते उन्‍हें बाहर निकलना पड़ा था. जहां वह परिवार से मिलकर खुश थे तो वहीं इस शो से बाहर होने के लिए दुखी भी थे. लेकिन उन्‍होंने वाइल्डकार्ड एंट्री के तौर पर शो में फिर से एंट्री ली और आखिरी पांच में जगह बनायी और शनिवार को उन्‍हें इस शो का विजेता घोषित किया गया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement