NDTV Khabar

संस्कारी सेंसर बोर्ड की कैंची से नहीं बच पाई अक्षय कुमार की टॉयलेटः एक प्रेम कथा, लगे आठ कट

सेंसर बोर्ड किसी को बख्शने के मूड में नहीं है. फिल्म चाहे कोई भी हो उसे तो कट लगाने से मतलब है. उसने अक्षय कुमार की टॉयलेट...में भी कट के लिए जगहें तलाश लीं.

165 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
संस्कारी सेंसर बोर्ड की कैंची से नहीं बच पाई अक्षय कुमार की टॉयलेटः एक प्रेम कथा, लगे आठ कट

अक्षय कुमार

खास बातें

  1. स्वच्छता मिशन पर आधारित है फिल्म
  2. सेंसर बोर्ड का संस्कारी रवैया बरकरार
  3. 11 अगस्त को हो रही है रिलीज
नई दिल्ली: सेंसर बोर्ड ने अक्षय कुमार को भी अपने हाथ दिखा दिए हैं. संस्कारी कहे जाने वाले पहलाज निहलाणी की अध्यक्षता वाले इस बोर्ड ने आठ कट के साथ फिल्म को यू/ए सर्टिफेकट दे दिया है. अब सेंसर बोर्ड के रवैये को इसी बात से समझा जा सकता है कि स्वच्छता अभियान पर बनी फिल्म में भी वह कट के लिए चीजें ढूंढ लेता है. 

यह भी पढ़ेंः Jab Harry Met Sejal : 'इंटरकोर्स' शब्द पर भड़के थे 'संस्कारी' पहलाज निहलानी, दे दिया UA सर्टिफिकेट

सेंसर बोर्ड से जुड़े सूत्रों ने जानकारी दी है कि फिल्म से हरामी शब्द को हटाया गया है. जनेऊ धार्मिक भावनाओं से जुड़ी चीज है, ऐसे में उसका किसी अन्य अर्थ में प्रयोग भी आपत्तिजनक माना गया है. यही नहीं, पति-पत्नी के मजाक पर भी सेंसर बोर्ड ने आपत्ति जता दी है. यानी मियां बीवी के बीच मजाक के दौरान सांड शब्द का इस्तेमाल सेंसर बोर्ड को रास नहीं आया है.

यह भी पढ़ेंः पैंट-शर्ट पहनी तो महिला कैसे हुई? जब सेंसर बोर्ड के मेंबर ने प्रोड्यूसर से पूछ लिया ऐसा सवाल

फिल्म को श्री नारायण सिंह ने डायरेक्ट किया है. ये उनकी डेब्यू फिल्म है. टॉयलेट एक प्रेमकथा 11 अगस्त को रिलीज हो रही है. इसमें भूमि पेडनेकर अक्षय कुमार के साथ लीड में नजर आएंगी. सेंसर बोर्ड के कट लगने से फिल्म की सेहत पर कोई फर्क पड़ता नजर नहीं आ रहा है क्योंकि ये वर्बल कट है. कुछ दिन पहले सेंसर ने बाबूमोशाय बंदूकबाज में 48 कट का सुझाव दिया था. अक्षय तो सस्ते में बच गए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement