NDTV Khabar

मैं टीबी का शिकार रहा हूं, उम्मीद है भारत जल्द ही इस बीमारी से मुक्त होगा : अमिताभ

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मैं टीबी का शिकार रहा हूं, उम्मीद है भारत जल्द ही इस बीमारी से मुक्त होगा : अमिताभ

अमिताभ बच्चन की फाइल तस्वीर

नई दिल्ली:

हिन्दी सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन ने सोमवार को कहा कि वह पहले तपेदिक से पीड़ित रहे हैं और इसलिए उन्होंने बीमारी के प्रति जागरुकता फैलाने का बीड़ा उठाया।

उन्होंने कहा, 'बहुत सारे लोग मुझसे पूछते हैं कि मैं इस उद्देश्य के लिए अपनी सेवाएं क्यों देता हूं। मेरा मेडिकल रिकॉर्ड जटिल रहा है। तपेदिक के प्रति जागरुकता फैलाने के मेरे कारणों में से एक यह है कि मैं इससे पीड़ित रहा हूं। 2000 में मुझे तपेदिक हुआ था और करीब एक साल तक मेरा कठोर उपचार चला। मुझे उस दिन तपेदिक हुआ, जिस दिन मैं टीवी शो केबीसी (कौन बनेगा करोड़पति) शुरू करने जा रहा था। यह रीढ़ की हड्डी से जुड़ा तपेदिक था।'

टिप्पणियां

उन्होंने विश्व तपेदिक दिवस (24 मार्च) से पहले भारत में अमेरिकी राजदूत रिचर्ड वर्मा, सिविल सोसाइटी और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के साथ एक कार्यक्रम में शामिल होते हुए कहा, ‘‘यह बहुत कष्टदायक होता है। आप बैठ या लेट नहीं सकते। अधिकतर समय मैं गेम शो प्रस्तुत करने के दौरान सहज रहने के लिए हर दिन आठ-दस दर्द निवारक गोलियां लेता था।' अभिनेता ने कहा कि यह बीमारी किसी को भी हो सकती है। उन्होंने कहा कि एक साल के इलाज के बाद वह बीमारी से मुक्त हो गए।


(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement