NDTV Youth For Change:बॉलीवुड के पुरस्कार समारोहों को करप्ट मानती हैं कंगना रनोट

एनडीटीवी यूथ फॉर चेंज कॉनक्लेव में कंगना रनोट ने साफ-साफ कहा कि वे बॉलीवुड के किसी ग्रुप का हिस्सा नहीं हैं

NDTV Youth For Change:बॉलीवुड के पुरस्कार समारोहों को करप्ट मानती हैं कंगना रनोट

खास बातें

  • काम करने में करती हैं यकीन
  • स्वाभिमान को मानती हैं सर्वोपरि
  • परफेक्शन में है यकीन
नई दिल्ली:

एनडीटीवी यूथ फॉर चेंज कॉनक्लेव में कंगना रनोट ने बॉलीवुड से जुड़ी अपनी बिंदास बातों को सबके सामने पेश करने से भी कतई गुरेज नहीं किया. उन्होंने खुलेआम कहा कि वे बॉलीवुड के किसी ग्रुप का हिस्सा नहीं हैं. उन्होंने कहा, “मैं इंडस्ट्री के किसी ग्रुप का पार्ट नहीं हूं. इसलिए जब बोलती हूं तो कोई फिल्टर नहीं होता है. मुझे समझ नहीं आता है कि कौन सी बात कब करनी है. ज्यादा सोचना भी नहीं पड़ता कि किसके सामने क्या कहना है. इस तरह सोचना नहीं पड़ता है, जैसा है वैसा बोल दो. मानसिक शांति रहती है.” यही नहीं उन्होंने फिल्म पुरस्कार समारोहों को करप्ट तक कह डाला. उन्होंने कहा, “वे कहते हैं अवार्ड मिलेगा तो डांस करना पड़ेगा...” इन वजहों से वे इन पुरस्कार समारोहों से दूर रहती हैं.

Newsbeep

स्वाभिमान से कोई समझौता नहीं
यह पूछे जाने पर कि छोटे शहर की लड़कियों को वे क्या संदेश देना चाहेंगी तो उन्होंने जवाब दिया, “जिंदगी में सब कुछ नहीं मिलता है, कई बार समझौता भी करना पड़ता है. लेकिन हमेशा याद रखें कि औरत होने के नाते उसका स्वाभिमान सर्वोपरि है. सबको लगता है कि लड़कियां तो सेल्फलेस होती हैं. लेकिन यह गलत धारणा है. आपको अपने मन की बात खुलकर कहनी चाहिए. अगर बेटा बदतमीज है तो उसे झापड़ रसीद करो. पिताजी बदसलूकी करते हैं तो उनसे कहिए यह ठीक नहीं है. प्रेमी या पति ऐसा करते तो उसे समझाएं यह नहीं चलेगा. अपने स्वाभिमान के लिए ही लड़ना पड़ेगा.”

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यह भी पढ़ेंःNDTV Youth For Change: मुझे अपने पिता के घर में घुटन महसूस होती थीः कंगना रनोट