NDTV Khabar

करण जौहर के यश और रूही से सबसे पहले मिलने पहुंचे उनके ये दो 'स्‍टूडेंट'

85 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
करण जौहर के यश और रूही से सबसे पहले मिलने पहुंचे उनके ये दो 'स्‍टूडेंट'

खास बातें

  1. करण जौहर के बच्‍चों से मिलने पहुंचे वरुण धवन और सिद्धार्थ मल्‍होत्रा
  2. करण: हिन्‍दी फिल्‍मों के गाने सुनकर बड़े होंगे मेरे बच्‍चे
  3. एक दिन पहले आलिया भट्ट भी अस्‍पताल में पहुंची थीं बच्‍चों से मिलने
नई दिल्‍ली: सरोगेसी के जरिए दो जुड़वां बच्चों के पिता बनें फिल्मकार करण जौहर बुधवार को अपने बच्‍चों को घर लेकर आ गए हैं. करण के इन बच्‍चों से मिलने सबसे पहले करण के दो स्‍टूडेंट वरुण धवन और सिद्धार्थ मल्‍होत्रा पहुंचे हैं. करण के यह नन्‍हें बच्‍चे घर पहुंचे थे कि बुधवार की शाम को ही वरुण और सिद्धार्थ इनसे मिलने भी पहुंच गए. बता दें कि इन दोनों एक्‍टर्स ने साल 2012 में करण जौहर की फिल्‍म 'स्‍टूडेंट ऑफ द ईयर' से ही अपने बॉलीवुड के सफर की शुरुआत की थी. करण ने अपने बच्‍चों के नाम अपने पिता और मां के नाम पर रखें हैं. अपने इन बच्‍चों की परवरिश पर करण का कहना है कि वह चाहते हैं कि उनके बच्चें हिंदी फिल्म संगीत सुनें, जिसे सुनकर वह बड़े हुए थे.

न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस के अनुसार बुधवार को करण ने उस्ताद अमजद अली खान की किताब 'मास्टर ऑन मास्टर्स' के अनावरण के मौके पर कहा, 'मैं हिंदी फिल्मों का संगीत सुनते हुए बड़ा हुआ हूं, मैंने लता मंगेशकर, किशोर कुमार, मोहम्मद रफी, आशा भोंसले सहित विभिन्न लोगों के संगीत को सुना. मैं चाहता हूं कि मेरे बच्चों के कमरे में हमेशा मेरा पसंदीदा संगीत बजता रहे, ताकि मेरे बच्चों उसे सुनें.'
 
varun dhawan
 
sidharth

44 वर्षीय फिल्मकार ने कहा कि उन्हें अपनी मां हीरू जौहर से प्रतिष्ठित प्‍लेबैक सिंगर्स और दिवंगत रॉक गायक एल्विस प्रेस्ली को सुनने की आदत पड़ी है. उन्होंने कहा, 'मुझे ऐसा लगता है कि मेरी मां ने मेरे पिता से इसलिए शादी की क्योंकि उन्होंने मेरी मां को एल्विस प्रेस्ली के शो पर ले जाने का वादा किया था, जो उन्होंने हनीमून के दौरान पूरा किया.'


अपने बच्‍चों को घर लाने से कुछ देर पहले एक इवेंट में करण जौहर ने कहा कि वह यश और रूही की नर्सरी में सभी तरह का संगीत बजाएंगे. करण ने साफ कहा कि उनके बच्‍चों की नर्सरी में बच्‍चों की कविताओं का कोल्‍डप्‍ले वर्जन नहीं बजेगा. करण ने कहा कि वह चाहते हैं कि उनके बच्‍चे भी वही सुनते हुए बड़े हों, जो सुनकर वह खुद बड़े हुए हैं.

(इनपुट आईएएनएस से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement