NDTV Khabar

एक खूबसूरत चेहरे की दर्द भरी दास्तान हैं मधुबाला, जानें किसके हाथों में थी उनकी जिंदगी की डोर

टाइमलैस ब्यूटी कही जाने वाली मधुबाला की मोम की प्रतिमा नई दिल्ली के मैडम तुसाद म्यूजियम में स्थापित हो गई है.

637 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
एक खूबसूरत चेहरे की दर्द भरी दास्तान हैं मधुबाला, जानें किसके हाथों में थी उनकी जिंदगी की डोर

मधुबाला

खास बातें

  1. नौ साल की उम्र से करने लगी थीं काम
  2. 14 साल में राज कपूर की बन गईं हीरोइन
  3. परिवार की जिम्मेदारियां थी कंधों पर
नई दिल्ली: मधुबाला हिंदी सिनेमा का ऐसा नाम है, जिसका जिक्र आते ही आंखों के आगे हसीन-जहीन चेहरा घूम जाता है. ऐसी खूबसूरती जिसे एक बार देख लिया जाए तो जेहन से निकालना मुश्किल है. उनकी हिट फिल्मों में चलती का नाम गाड़ी, मुगल-ए-आजम, महल और हाफ टिकट जैसी फिल्मों के नाम आते हैं. उनकी खूबसूरती का डंका दुनिया भर में बजता था. थिएटर्स आर्ट्स नाम की अमेरिकी मैग्जीन ने मधुबाला को द बिगेस्ट स्टार इन द वर्ल्ड का खिताब दिया था. लेकिन उनकी जिंदगी में पिता का हस्तक्षेप ज्यादा रहा, उनकी लव लाइफ से लेकर प्रोफेशनल लाइफ तक में उनका बहुत दखल था. उनकी जिंदगी की डोर उनके ही हाथों मेें थी. अपनी मुस्कान से करोड़ों लोगों का दिल जीतने वाली मधुबाला 36 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह गईँ. आज नई दिल्ली के मैडम तुसाद म्यूजियम में मधुबाला का मोम का पुतला लग गया है. इस मौके पर जानिए उनके बारे में कुछ दिलचस्प बातें

असली नाम नहीं था मधुबाला
मधुबाला का असली नाम मुमताज जहां बेगम देहलवी था लेकिन उनके काम और पर्सनेलिटी को देखकर देविका रानी ने उन्हें मधुबाला नाम दिया था.

छोटी उम्र, बड़ी जिम्मेदारी
मधुबाला ने नौ साल की उम्र में एक्टिंग करियर की शुरुआत की थी. ऐसा उन्होंने अपने शौक नहीं बल्कि मजबूरी में क्या था क्योंकि पिता के पास कोई काम था नहीं. घर भी तो किसी को चलाना था.

यह भी देखेंः कौन हैं बॉलीवुड की 'ब्‍यूटी क्‍वीन्‍स'

किशोरावस्था में बन गईं हीरोइन
मधुबाला ने 1947 नील कमल में लीड किरदार निभाया था. फिल्म में उनके हीरो राज कपूर थे, उस समय मधुबाला की उम्र सिर्फ 14 साल थी.

मुगल-ए-आजम की शूटिंग और दिलीप के साथ संबंध
मुगल-ए-आजम की शूटिंग के दौरान दिलीप कुमार और मधुबाला के बीच बातचीत बंद थी. दिलीप कुमार ने अपनी आत्मकथा “द सबस्टेंस ऐंड द शैडोः एन ऑटोबायोग्राफी” में लिखा है, एक सीन में हम दोनों के होंठों के बीच पंख आ जाता है, जिससे कई तरह की सोच को पंख लग जाते हैं, लेकिन इस सीन को उस समय शूट किया गया था जब हम दोनों ने एक-दूसरे से बातचीत बिल्कुल बंद कर दी थी, और एक दूसरे से हाय हैलो भी नहीं करते थे.”

VIDEO: हिन्दी फिल्मों की टॉप हीरोइनें

दिलीप कुमार के साथ प्रेम
उनके और दिलीप कुमार के बीच लगभग सात साल तक प्रेम चला था. लेकिन उनके पिता को यह संबंध पसंद नहीं था, आखिर में अपने पिता के दबाव के आगे वे झुक गईं.

किशोर कुमार का थामा हाथ
दिलीप कुमार से अलग होने के कुछ समय बाद उन्होंने गायक किशोर कुमार से शादी कर ली. किशोर कुमार तलाकशुदा थे. लेकिन मधुबाला ने इसकी परवाह नहीं की. किशोर के साथ 1960 में शादी हुई थी, और किशोर दा ने धर्मपरिवर्तन किया था और वे अब्दुल करीम बन गए थे. 

VIDEO: शोहरत से पतन तक कैसे पहुंची ये अभिनेत्रियां

उनसे इश्क के लिए कई थे कतार में
बताया जाता है कि प्रदीप कुमार, भारत भूषण ने उन्हें प्रपोज किया था. एक समय किशोर कुमार ने भी उन्हें प्रपोज किया था, जिस वजह से उन्होंने उनका हाथ थामा.

दिल में छेद
कहते हैं हसीन और जहीन लोगों के साथ कोई न कोई बुरी नजर रहती ही है. उनके दिल में छेद था, लेकिन इस बात को इंडस्ट्री से छिपाया गया, और कई बार सेट पर वे खांसती तो उसके साथ खून भी आ जाता. लेकिन उन्होंने इसका असर काम पर नहीं पड़ने दिया. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement