Khabar logo, NDTV Khabar, NDTV India

राम रहीम की फिल्म 'एमएसजी' के खिलाफ भारी विरोध प्रदर्शन के चलते फिल्म का प्रीमियर टला

ईमेल करें
टिप्पणियां

close

नई दिल्ली: विवादों में घिरी डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम की फिल्म 'मैसेंजर ऑफ गॉड' यानी एमएसजी का आज गुड़गांव में प्रीमियर होना था, लेकिन फिल्म के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शनों के चलते इसका प्रीमियर टाल दिया गया है। फिल्म के खिलाफ आज दिल्ली, गुड़गांव, हिसार, अंबाला और बठिंडा में जमकर विरोध-प्रदर्शन हुए।

वहीं विरोध प्रदर्शनों के बीच, राम रहीम ने आज संवाददाता सम्मेलन में अपनी हार्ली डेविडसन बाइक में पहुंचे। फिल्म का आज यहां प्रीमियर किए जाने वाले स्थान पर राम रहीम ने संवाददाताओं से कहा, 'हमने फिल्म में कुछ गलत नहीं कहा है। फिल्म अंधविश्वास नहीं फैलाती है। मुझे नहीं लगता कि इससे कानून व्यवस्था की समस्या पैदा होगी।'

प्रीमियर नहीं करने की वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि हालांकि उनके पास इसके लिए मंजूरी है, लेकिन वे इस फिल्म के प्रदर्शन के लिए एक औपचारिक आदेश का इंतजार कर रहे हैं।

18 जनवरी को इसके प्रस्तावित रिलीज के बारे में उन्होंने कहा , 'हमने अभी किसी भी चीज को अंतिम रूप नहीं दिया है। इतने कम समय के अंदर इसकी रिलीज की संभावना के बारे में बैठकें चल रही हैं।'

राम रहीम ने दावा किया कि यह फिल्म उनके द्वारा शक्ति का प्रदर्शन नहीं है और इसे युवाओं को मादक पदार्थ के प्रति आगाह करने के लिए बनाया गया है। इसमें उन्होंने मुख्य भूमिका निभाई है और इसका निर्देशन भी किया है।

इससे पहले कल सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म को हरी झंडी दी है, लेकिन फिल्म निर्माता सर्टिफिकेट का इंतजार कर रहे हैं, इसलिए फिल्म की रिलीज़ की तारीख अभी तय नहीं है। पंजाब में इसके खिलाफ विरोध को देखते हुए कई थियेटर मालिकों ने फिल्म को न दिखाने का फैसला लिया है।

वहीं इस फ़िल्म का विरोध कर रहे लोगों और संगठनों का कहना है कि इस फ़िल्म से धार्मिक भावनाएं आहत हो सकती हैं, ऐसे में इसे रिलीज़ नहीं करना चाहिए। वहीं प्रदर्शनकारियों का यह भी आरोप है कि डेरा प्रमुख राम रहीम इस फ़िल्म के ज़रिये अपना काले धन को सफ़ेद कर रहे हैं और उनकी संपत्ति की जांच होनी चाहिए।

गौरतलब है कि 'मैसेंजर ऑफ गॉड' आज सिनेमाघरों मे रिलीज होने वाली थी, लेकिन ट्राइब्यूनल ने फिल्म के कुछ सीन्स को म्यूट करके रिलीज करने की इजाजत दी है, जिस वजह से बदलावों के साथ फिल्म अब सिनेमाघरों में पहुंचाई जाएगी। सूत्रों की मानें तो फिल्म को करीबन 50 प्रतिशत एडवांस बुकिंग मिली थी, जिसे रद्द किया गया।

डेरा सच्चा सौदा और सिख समुदाय के बीच तकरार की आशंका को ध्यान में रखते हुए गृह मंत्रालय ने अपनी एक एडवाइजरी में इस फिल्म की रिलीज से पंजाब और हरियाणा में कानून-व्यवस्था के बिगड़ने की चिंता जताई थी। जहां डेरा सच्चा सौदा हरियाणा के सिरसा में इस फिल्म की रिलीज़ से खुशियां मना रहा है, वहीं पंजाब के बठिंडा जिला में इस फिल्म के खिलाफ आवाज़ें उठना शुरू हो गई हैं। (एजेंसी इनपुट के साथ)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement