NDTV Khabar

क्रीचर 3डी : कमजोर कहानी, तकनीक लाजवाब

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्रीचर 3डी : कमजोर कहानी, तकनीक लाजवाब
मुंबई:

निर्देशक विक्रम भट्ट की 'क्रीचर 3डी' भी रिलीज हुई है। 'क्रीचर 3डी' हिन्दुस्तान की पहली क्रीचर फिल्म है। साथ ही यह 3डी में बनी है। इस फिल्म में मुख्य भुमिकाएं निभाई हैं, बिपाशा बसु, इमरान अब्बास नकवी, मुकुल देव और दीपराज राणा ने।

फिल्म की कहानी में अहाना यानी बिपाशा बैंक से लोन लेकर जंगल के बीचों-बीच एक होटल खोलती है, जहां कई लोग रहने आते हैं। अचानक इस होटल और इलाके पर नजर पड़ती है एक ब्रह्म राक्षस की, जो एक-एक कर लोगों को मारना शुरू कर देता है।

फिल्म की खामियों और खूबियों की बात करें तो मुझे तो डर था कि कहीं बजट और तकनीक के अभाव में हॉलीवुड की तर्ज पर बनाई गई इस क्रीचर फिल्म और इसके निर्देशक विक्रम भट्ट का मजाक न बन जाए, पर ऐसा बिलकुल नहीं हुआ। मैं विक्रम भट्ट की क्रीचर से वाकई प्रभावित हूं, क्योंकि कम बजट में उन्होंने हॉलीवुड के क्रीचर्स को टक्कर दी है।

विक्रम का ब्रह्म राक्षस हॉलीवुड के क्रीचर को टक्कर देता नजर आता है। पूरी फिल्म हिन्दुस्तान में बनी है और फिल्म का वीएफएक्स यानी स्पेशल इफेक्ट्स काफी अच्छे हैं। यह कोई हॉरर फिल्म नहीं, बल्कि थ्रिलर है। फिल्म में 3डी इफेक्ट्स भी आपको रोमांचित करेंगे।

बिपाशा और इमरान अपने-अपने किरदारों में ठीक हैं। फिल्म के गाने अच्छे हैं, पर फिल्म की कहानी कमजोर है। फिल्म में कई जगह तर्क की कमी है, हालांकि यह बता नहीं सकता कहां कमी है, क्योंकि बताने से क्लाइमैक्स का राज खुल जाएगा। मेरी ओर से सिर्फ और सिर्फ तकनीक, थ्रिलर और इफेक्ट्स के लिए 3.5 स्टार।

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement