NDTV Khabar

पुनर्विचार याचिका के विकल्प पर विचार कर रहे हैं संजय दत्त

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त के करीबी सूत्रों के अनुसार वह 1993 के मुंबई विस्फोटों में शामिल होने के मामले में पांच साल की कैद पूरी करने के उच्चतम न्यायालय के आदेश के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल करने के बारे में सोच रहे हैं।
मुंबई:

बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त के करीबी सूत्रों के अनुसार वह 1993 के मुंबई विस्फोटों में शामिल होने के मामले में पांच साल की कैद पूरी करने के उच्चतम न्यायालय के आदेश के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल करने के बारे में सोच रहे हैं।

उच्चतम न्यायालय ने 21 मार्च को शस्त्र कानून के तहत दत्त को दोषी ठहराए जाने पर अपनी मुहर लगाई थी और उन्हें पांच साल कैद की सजा सुनाई जिसमें से वह 18 महीने की सजा पहले ही काट चुके हैं। चार सप्ताह के अंदर समर्पण करने के आदेश के मुताबिक दत्त को 18 अप्रैल तक यहां विशेष टाडा अदालत में समर्पण करना होगा।

उनके करीबी सूत्रों ने बुधवार को बताया कि अभिनेता दत्त के पास पुनर्विचार याचिका दाखिल करने का विकल्प है और राहत नहीं मिलने पर वह सुधारात्मक याचिका दाखिल कर सकते हैं।

दत्त के वकील सतीश मानशिंदे ने कहा, ‘‘पुनर्विचार याचिका दाखिल करने का विकल्प है लेकिन अभी तक कुछ तय नहीं हुआ है।’’ दत्त चाहें तो महाराष्ट्र के राज्यपाल से क्षमा की गुहार लगा सकते हैं लेकिन उन्होंने सार्वजनिक रूप से कहा है कि वह ऐसा नहीं करेंगे।


दत्त को माफ करने की बढ़ती मांगों के बीच 53 वर्षीय अभिनेता ने 28 मार्च को मीडिया से कहा था कि वह माफी की गुहार नहीं लगाएंगे। उस दिन मीडियाकर्मियों के साथ बातचीत में दत्त भावुक हो गए थे और रो पड़े थे।

राज्यपाल के शंकरनारायणन ने दत्त के लिए क्षमादान और उन्हें माफी नहीं देने, दोनों के लिए ही अनेक संगठनों और लोगों की ओर से मिलीं 60 से अधिक याचिकाओं और अनुरोधों को इस महीने की शुरुआत में राज्य के गृह विभाग को भेज दिया था।

इनमें प्रेस परिषद के अध्यक्ष मार्कंडेय काटजू और पूर्व सपा नेता अमर सिंह की भी याचिकाएं हैं।

इस बीच दत्त अपनी सभी लंबित फिल्मों की शूटिंग पूरी करने में लगे हुए हैं और उनके घर में ही डबिंग स्टूडियो तैयार किया गया है। उनके एक करीबी सूत्र ने कहा, ‘‘उनके पास सीमित समय है और वह हर पल का इस्तेमाल करने का प्रयास कर रहे हैं। वह अपने वादे को निभाने के लिए डबल शिफ्ट में काम कर रहे हैं। वह दिन में फिल्म के सेटों पर काम करते हैं और रात में फिल्मों के लिए डबिंग करते है जिसके लिए उन्होंने घर में ही डबिंग स्टूडियो बनाया है।’’

टीपी अग्रवाल की ‘पुलिसगिरी’ में पुलिस अधिकारी की भूमिका निभा रहे दत्त को इस फिल्म की शूटिंग भी पूरी करनी है।

टिप्पणियां

अग्रवाल ने कहा, ‘‘हमें उनके साथ शूटिंग और डबिंग पूरी करने के लिए चार से पांच दिन और चाहिए।’’ संजय दत्त की अन्य लंबित फिल्मों में करण जौहर की ‘उंगली’, राजकुमार हिरानी की ‘पीके’ और अपूर्व लखिया द्वारा बनाई जा रही ‘जंजीर’ का रीमेक हैं। ‘जंजीर’ में संजय दत्त मूल फिल्म में प्राण द्वारा अदा किए गए शेरखान के किरदार को निभाएंगे।

एक सूत्र ने कहा, ‘‘अपनी पेशेवर प्रतिबद्धताओं के कारण उन्हें अपने परिवार के साथ बिताने के लिए वक्त नहीं मिल रहा।’’ एक पिस्तौल और एके-56 राइफल रखने के लिए कैद की सजा सुनाने के निचली अदालत के फैसले के खिलाफ संजय की अपील को 21 मार्च को उच्चतम न्यायालय ने खारिज कर दिया था। शीर्ष अदालत ने उनकी सजा छह साल से घटाकर पांच साल कर दी।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement