गोविंदा से थप्पड़ खाने वाले संतोष की बदल सकती है जिंदगी, 'बिग बॉस' में मिल सकता है मौका!

गोविंदा से थप्पड़ खाने वाले संतोष की बदल सकती है जिंदगी, 'बिग बॉस' में मिल सकता है मौका!

संतोष राय (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

2008 में बॉलीवुड एक्टर गोविंदा ने बिना वजह उनके एक फैन संतोष राय को एक थप्पड़ जड़ दिया था। इस पूरे ही घटनाक्रम को 8 साल हो गए हैं और अब संतोष की जिंदगी बदलने जा रही है। बता दें, संतोष हमें सलमान खान के शो 'बिग बॉस' के 10वें सीजन में घर के मेहमान के रूप में नजर आ सकते हैं। गौरतलब है कि इस बार 'बिग बॉस' के घर के दरवाजे आम लोगों के लिए भी खुले हैं। जिसके लिए उन्हें अपना एक वीडियो बनाकर चैनल को भेजना था।

खबर है कि संतोष को भी एक वीडियो बनाने को कहा गया, जिसमें उन्हें बताना था कि उन्हें इस शो का हिस्सा क्यों बनना चाहिए, साथ ही 100 दिन घर में गुजारना कितना मुश्किल होगा इसके लिए संतोष ने वीडियो बनाकर भेज भी दिया है।

Newsbeep

बता दें, टेलीविजन के चर्चित रियलिटी शो 'बिग बॉस' का 10 वां सीजन 3 महीने बाद शुरू होने वाला है। 'बिग बॉस' की तरफ से जतीन द्वारा संतोष को एक मेल भेजा गया, जिसमें उनसे वीडियो मांगा गया। हालांकि संतोष ने वीडियो बनाकर भेज तो दिया है, लेकिन अभी इस बात की कोई पुष्टी नहीं की गई है कि उनका सेलेक्शन 'बिग बॉस' में हुआ है या नहीं। संतोष की तरफ से ऐसा विश्वास जताया जा रहा है कि शायद उनका सेलेक्शन बिग बॉस के 10वें सीजन में हो जाएगा।  
 

(यह उस मेल का प्रिंसशॉट है, जो 'बिग बॉस' की तरफ से जतीन द्वारा संतोष को भोजा गया था)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


शूटिंग के दौरान हुई थी घटना
संतोष के मुताबिक, 2008 में गोविंदा की फिल्म 'मनी है तो हनी है' की शूटिंग चल रही थी। वह चुपचाप खड़े शूटिंग देख रहे थे और जब गोविंदा शॉट खत्म करके वापस आए, तो वह उनकी कुर्सी के पीछे खड़े हो गए। अचानक गोविंदा पीछे मुड़े और उनसे पूछा- क्या है। उन्होंने जवाब में कहा, कुछ नहीं सर, शूटिंग देख रहा हूं। बस, अचानक ही गोविंद उठे, और उन्हें थप्पड़ जड़ दिया।
 


मिडिल क्लास परिवार से हैं संतोष
एक मिडिल क्लास परिवार से नाता रखने वाले संतोष की पढ़ाई-लिखाई कोलकाता में हुई, और फिर वह फिल्मों में काम करने का सपना संजोए मुंबई आ गए। यहां आकर उन्हें जल्द ही एहसास हो गया कि फिल्मों में काम पाना आसान नहीं, लेकिन वह मेहनत करते रहे। इसी बीच, उन्हें एक शूटिंग के दौरान गोविंदा को पास से देखने का मौका मिला। संतोष बताते हैं, वह 11 साल की उम्र से फिल्में देखते आ रहे हैं, और गोविंदा की फिल्म 'मरते दम तक' उनकी देखी पहली फिल्म थी। बस, तभी से वह गोविंदा के फैन बन गए। संतोष का दावा है कि उन्होंने '90 के दशक में आई गोविंदा की लगभग सभी फिल्में देखीं।