NDTV Khabar

मुझे 'बेफिक्रे' ऑफर नहीं हुई और अगर होती तो भी मैं नहीं करता: सुशांत सिंह

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुझे 'बेफिक्रे' ऑफर नहीं हुई और अगर होती तो भी मैं नहीं करता: सुशांत सिंह

खास बातें

  1. सुशांत ने कहा, भारतीय लव स्‍टोरी नहीं है 'बेफिक्रे'
  2. सुशांत: मुझे नहीं दिया गया था इस फिल्‍म का ऑफर
  3. इसी प्रोडक्‍शन हाउस से 'व्‍योमकेश बक्‍शी' का मिलता ऑफर तो सोचता
नई दिल्‍ली:

एक्‍टर सुशांत सिंह की फिल्‍म 'एम. एस. धोनी- एन अनटोल्‍ड स्‍टोरी' साल 2016 की सफल फिल्‍मों में से एक रही है. फिल्‍म के साथ ही सुशांत की एक्टिंग को इस फिल्‍म में काफी सराहा गया है. लेकिन इस सब के बीच सुशांत अपनी फिल्‍म के लिए नहीं बल्कि किसी और बात से चर्चा में आ गए हैं. अफवाह थी कि हाल ही में आई आदित्‍य कपूर की फिल्‍म 'बेफिक्रे' का ऑफर रणवीर सिंह से पहले सुशांत सिंह को दिया गया था. इस अफवाह को रोकते हुए सुशांत ने साफ कर दिया है कि उन्‍हें इस फिल्‍म का ऑफर नहीं दिया गया. साथ ही उन्‍होंने यहां तक कह दिया कि अगर उन्‍हें यह ऑफर दिया भी जाता तो भी सुशांत यह फिल्‍म नहीं करते.

टिप्पणियां

अपने इस बचान से सुशांत ने सीधा निशाना रणवीर सिंह पर लगाया है. हिंदुस्‍तान टाइम्‍स को दिए एक इंटरव्‍यू में सुशांत ने कहा, 'मैं यह साफ कर दूं कि मुझे इस फिल्‍म का ऑफर आया ही नहीं था. अगर यह ऑफर आता, तब भी मैं यह फिल्‍म नहीं करता. मुझे पता है कि किसी फिल्‍म के रिलीज होने के बाद उसके बारे में यह कहना आसान है लेकिन मेरे पास इसके कारण है. यदि इसी प्रोडक्‍शन हाउस से मुझे 'डिटेक्टिव व्‍योमकेश बक्‍शी' जैसी कोई फिल्‍म ऑफर होती तो मैं इसे जरूर करता क्‍योंकि डायरेक्‍टर दिबाकर बनर्जी के पास इस पुरानी क्‍लासिक स्‍टोरी को दिखाने के लिए एक नया नजरिया था. या मैं 'पानी' जरूर करना चाहुंगा जिसमें शेखर कपूर (फिल्‍ममेकर) ने एक बेहद जरूरी विषय उठाया था.

 
befikre

'बेफिक्रे' के बारे में बात करने पर सुशांत का कहना है कि यह फिल्‍म भारतीय युवा या हिंदुस्तानी रोमांस का सही प्रतिनिधित्‍व नहीं करती है. उन्‍होंने कहा, 'जैसा यह फिल्‍म दावा कर रही थी, यदि यह सच में नई उम्र की युवा सोच और रोमांस का प्रतिनिधित्‍व करती तो भी अच्‍छा होता, भले ही वह बॉक्‍स ऑफिस पर कोई कमाल न कर पाती. लेकिन ऐसा नहीं हुआ और इसलिए मेरी इसमें कोई रुचि नहीं है.
 
sushant singh rajput

मैं यह नहीं कह रहा कि फिल्‍मों को सिर्फ सच दिखाने वाला होना चाहिए (जैसे पिंक, नीरजा या धोनी की बायोपिक). फिल्‍में पूरी तरह काल्‍पनिक होकर भी काफी तरह से बॉक्‍स ऑफिस पर सफल हो सकती हैं जैसे 'जंगल बुक', जो काफी सफल रही. लेकिन मुझे लगता है यह जानना बहुत जरूरी है कि हम फिल्‍म को लेकर जो दावा कर रहे हैं वह कितना सही है.'

बता दें की एक वक्‍त था जब सुशांत सिंह आदित्य चोपड़ा के कैंप का हिस्सा हुआ करते थे लेकिन अब उस कैंप ने उन्हें पूरी तरह से बन कर लिया है. अब उसी कैंप ने रणवीर सिंह को अपनी आने वाली फिल्मों के लिए साइन भी कर लिया है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement