उदय चोपड़ा ने की 'फेयरनेस क्रीम' और 'हेयर कलर' की तुलना, ट्विटर पर बुरी तरह हुए ट्रोल

उदय चोपड़ा ने की 'फेयरनेस क्रीम' और 'हेयर कलर' की तुलना, ट्विटर पर बुरी तरह हुए ट्रोल

उदय चोपड़ा ने कहा कि फेयरनेस क्रीम्स रेसिस्ट हैं तो हेयर कलर्स भी रेसिस्ट हैं.

खास बातें

  • उदय चोपड़ा ने कहा, 'गोरा होना आत्म सम्मान का सवाल है'
  • हेयर कलर भी फेयरनेस क्रीम्स की तरह हैं- उदय चोपड़ा
  • ट्विटर पर लोगों ने उड़ाया उदय चोपड़ा का मजाक
नई दिल्ली:

अभिनेता अभय देओल द्वारा फेयरनेस क्रीम्स के खिलाफ फेसबुक पर मोर्चा खोलने के बाद फिल्म इंडस्ट्री में इसे लेकर बहस शुरू हो गई है. अभय ने फेयरनेस क्रीम्स को रेसिस्म का प्रतीक बताते हुए इनका विज्ञापन करने वाले अभिनेताओं को आड़े हाथों लिया है. अपने फेसबुक पोस्ट्स में सिद्धार्थ मल्होत्रा, दीपिका पादुकोण, विद्या बालन, सोनम कपूर, जॉन अब्राहम और शाहरुख खान जैसे सितारों को भी नहीं बख्शा है. अभय के पोस्ट से आहत अभिनेत्री सोनम कपूर ने उनकी बहन एशा देओल की भी एक तस्वीर पोस्ट करते हुए उस पर अभय की प्रतिक्रिया मांगी थी, जिसे अभय ने गलत बताया था. हालांकि अभय की बहन को घसीटने की वजह से सोनम कपूर का काफी मजाक उड़ाया गया, जिसके बाद उन्होंने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया. अब इस विवाद में उदय चोपड़ा कूद गए हैं, उन्होंने गोरेपन का दावा करने वाली क्रीम्स की तुलना हेयर कलर से कर दी है, इस वजह से उन्हें ट्विटर पर काफी ट्रोल किया जा रहा है.

उदय चोपड़ा ने ट्वीट किया, "फेयरनेस क्रीम्स को लेकर यह क्या बकवास है. यदि फेयरनेस क्रीम रेसिस्ट हैं तो हेयर कलर भी हैं. यह व्यक्तिगत पसंद है."
 


उदय चोपड़ा इतना कहकर रुक जाते तो भी ठीक था, उन्होंने यहां तक कह दिया कि गोरा होना सेल्फ एस्टीम (यानी आत्मसम्मान) का सवाल है.
 
uday chopra twitter conversation
ट्विटर पर एक फैन से उदय चोपड़ा का कनवर्सेशन.

ट्विटर पर कई लोगों ने उन्हें समझाने की कोशिश की कि इस तरह के क्रीम्स यही प्रचारित करते हैं कि गोरा होना बेहतर है, जो कि गलत है.
 


कुछ लोगों ने यह भी लिखा कि उदय चोपड़ा के विचार उनकी एक्टिंग स्किल्स से मैच करते हैं.
 
अभय देओल ने बुधवार को फेसबुक पर लगातार पोस्‍ट कर अपने कई साथियों के 'गैरजिम्‍मेदार' होने के सबूत सामने रखे हैं. उन्होंने शाहरुख खान के 'मर्द होकर लड़कियों वाली फेयरनेस क्रीम' से लेकर इलियाना डीक्रूज के फोटोशॉप्ड गोरेपन सबकी खिंचाई की है. हाल ही में बीजेपी नेता तरुण विजय ने एक डिबेट के दौरान कहा था, 'भारत एक नस्‍ली देश नहीं है क्‍योंकि हम दक्षिण भारतीयों के साथ रहते हैं.' उनका नाम लिए बिना अभय ने उनके इस बयान की निंदा की है. अभय देओल ने नंदिता दास द्वारा भारत में प्रचारित किए जा रहे कैंपेन 'डार्क इस ब्‍यूटीफुल' का एक फोटो पोस्‍ट कर लिखा है, 'पागल नंदिता हमें यह सिखाने की कोशिश कर रही है कि काला भी सुंदर होता है. क्‍या उसे नहीं पता कि हम पहले से यह जानते हैं? वरना आखिर क्‍यों हम दक्षिण के लोगों को अपनाते.

इसके साथ ही साथ अभय ने कंगना रनौत, रणबीर कपूर और रणदीप हुड्डा जैसे कलाकारों की तारीफ भी की है जो गोरेपन के प्रचार के इस फायदेमंद सौदे से दूर रहे हैं. अभय ने इन नामों के साथ लिखा है, 'मेरी इंडस्‍ट्री का हर शख्‍स गैरजिम्‍मेदार नहीं है.'  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com