क्‍या है बायपोलर डिसऑर्डर, जो कर रहा है दिमाग को बीमार

क्‍या है बायपोलर डिसऑर्डर, जो कर रहा है दिमाग को बीमार

नई दिल्‍ली:

हाल ही में शामा सिंकदर ने एक इंटरव्‍यू के दौरान यह खुलासा किया गया है कि वह लंबे समय तक बायपोलर डिसऑर्डर जैसी बीमारी से पीड़‍ित रही हैं. इस मानसिक रोग के चलते वह इतनी ज्‍यादा नकारात्‍मक महसूस करने लगी थीं कि उन्‍होंने आत्‍महत्‍या करने की कोशिश की थी. इस साल की सुपरहिट फिल्‍म 'पिंक' में अमिताभ बच्‍चन भी इसी बीमारी के शिकार थे.

 
shama sikander

दरअसल बायपोलर डिसऑर्डर एक मानसिक बीमारी है, जिसमे मन लगातार कई हफ्तों तक, महीनों तक या तो बहुत उदास या फिर अत्यधिक खुश रहता है. इसके नाम से ही साफ होता है कि यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्‍यक्ति सामान्‍य स्थिति में रहने के बजाए बहुत ज्‍यादा खुश या बहुत ज्‍यादा उदास रहता है.  उदासी के समय में मन में काफी नकारात्मक विचार आते हैं साथ ही कई बार मन में ऊंचे-ऊंचे विचार आते हैं. आंकड़ों की मानें तो यह बीमारी लगभग 100 में से एक व्यक्ति को जीवन में कभी ना कभी होती है.  इस बीमारी की शुरुआत अक्सर 14 साल से 19 साल के बीच होती है. इस बीमारी से पुरुष तथा महिलाएं दोनों ही समान रूप से प्रभावित होते हैं. यह बीमारी 40 साल के बाद बहुत कम ही शुरु होती है.
Newsbeep

'मैं थी बायपोलर डिसऑर्डर से ग्रसित, मैंने आत्‍महत्‍या की कोशिश की थी' : शमा सिकंदर

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस बीमारी का प्रमुख कारण क्‍या है या वह कौनसी वजह हैं यह अभी साफ नहीं हुआ है. वैज्ञानिकों का मनना है कि कई बार अत्‍यधिक मानसिक तनाव इस बीमारी के शुरू होने का एक कारण हो सकता है. इसके लक्षणों की बात करें तो इसमें मरीज के मन में बहुत ज्‍यादा उदासी, किसी भी काम में मन न लगना, चिड़चिड़ापन, घरबराहट, भविष्‍य के बारे में निराशा जैसे लक्षण दिखाई देते हैं.