NDTV Khabar

Anti-Ageing Herbs: ये 3 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां कम करेंगी बढ़ती उम्र का असर...

Ayurvedic Herbs May Help Slow Down Ageing: सफेद बाद (Grey hair) और चेहरे पर झुर्रियां (wrinkled skin) बढ़ती उम्र के दो सबसे बड़े लक्षण हैं. आयुर्वेद (Ayurveda) में ऐसी बहुत सी चीजें और नुस्खे हैं जो उम्र के साथ होते बदलावों को कम करते हैं या उनका प्रभाव कम करते हैं. अगर आप चाहते हैं कि बढ़ती उम्र में होने वाले बदलाव कम हों (Slow down ageing without any side-effects) तो क्यों न आयुर्वेद का सहारा लिया जाए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Anti-Ageing Herbs: ये 3 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां कम करेंगी बढ़ती उम्र का असर...

Ayurvedic Herbs May Help Slow Down Ageing: सफेद बाद (Grey hair) और चेहरे पर झुर्रियां (wrinkled skin) बढ़ती उम्र के दो सबसे बड़े लक्षण हैं. जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं वैसे-वैसे डीजनरेशन सेल्स (Degenerating Cells) की क्रिया में बदलाव होते हैं जोकि ऐजिंग के तौर पर जानी जाती है. हालांकि बढ़ती उम्र में होने वाले बदलावों को अनदेखा नहीं किया जा सकता न ही इन्हें पूरी तरह बदला या रोका जा (Ageing is inevitable) सकता. उम्र के साथ आने वाले बदलावों को आपको अपनाना ही होता है. लेकिन हां, आप अगर चाहें तो इन्हें कुछ समय तक टाल सकते हैं और इनके प्रभावों को भी कम कर सकते हैं. इसके लिए आपको बहुत ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं है. आयुर्वेद (Ayurveda) में ऐसी बहुत सी चीजें और नुस्खे हैं जो उम्र के साथ होते बदलावों को कम करते हैं या उनका प्रभाव कम करते हैं. अगर आप चाहते हैं कि बढ़ती उम्र में होने वाले बदलाव कम हों (Slow down ageing without any side-effects) तो क्यों न आयुर्वेद का सहारा लिया जाए. आयुर्वेदिक नुस्खे (Ayurvedic Natural Home Remedies) बढ़ती उम्र आपको युवा बनाए रखने में मदद करेंगे. आयुर्वेद (Ayurvedic Remedies) में ऐसी कुछ जड़ी-बूटियां (Ayurvedic herbs) हैं जो सेल्स को रिजनरेट कर आपको युवा बनाए रखती है. तो चलिए हम आपको बताते हैं ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के बारे में जो कम करेंगी बढ़ती उम्र के प्रभावों को... 

 


 

3 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां जो कम करेंगी बढ़ती उम्र का प्रभाव - Here are 3 Ayurvedic herbs that may help down the pace of ageing:

 

बढ़ती उम्र के प्रभावों को दूर करेगी ब्राह्मी (Brahmi)

ब्राह्मी या बाकोपा मोनिएरी (Bacapa monnieri) का एक औषधीय पौधा है. इसे कई नामों से जाना जाता है. जैसे सफेद चमनी, सौम्‍यलता, वर्ण, नीरब्राम्‍ही, घोल, जल ब्राह्मी, जल नेवरी. आयुर्वेद में इस औषधीय पौधे को कई रोगों के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है. नाड़ी दोष, कब्‍ज, गठिया, रक्‍त शुद्धि के साथ ही साथ दिल के रोगों में भी इसका जमकर इस्तेमाल किया जाता है. इसके साथ ही साथ ब्राह्मी बढ़ती उम्र के प्रभावों को कम करने में भी मददगार है. आयुर्वेदिक विशेषज्ञ डॉक्टर अखिलेश शर्मा के अनुसार, ''यह औषधिया बूटी दिमाग की प्रक्रिया को सही और मजबूत करने में बहुत फायदेमंद है. यह आपकी ऊर्जा को बढ़ाने, याददाश्त को मजबूत करने और शॉर्ट टर्म मेमोरी के लिए अच्छा होता है.

 

 

एंटी एजिंग के तौर पर हल्दी का इस्तेमाल - Turmeric Against Skin Ageing


हल्दी के कई फायदे हैं. यह आपकी पूरी सेहत के लिए फायदेमंद हैं. हल्दी के गुणकारी फायदों से ज्यादातर लोग वाकिफ हैं. हल्दी को एक औषधि के तौर पर गिना जाता है. स्किन के लिए हल्दी एक नेचुरल फेस पैक का काम करती है. इससे चेहरे पर एक खास चमक आती है. शायद यही वजह है कि शादी से पहले दूल्हा और दुल्हन की स्किन पर हल्दी का लेप लगाया जाता है. लेकिन हल्दी से अपने घर पर ही गोल्ड फेशियल तैयार किया जा सकता है. इससे आपकी स्किन पर निखार आएगा और आपको नेचुरल ब्यूटी का एहसास होगा. 


 

 

turmeric

Anti Ageing Tips: हल्दी के गुणकारी फायदों से ज्यादातर लोग वाकिफ हैं.

 

एंटी एजिंग के तौर पर जिनसिंग का इस्तेमाल - Ginseng Against Skin Ageing

जिनसेंग काफी फायदेमंद साबि‍त होता है. इसके सेवन से डायबिटीज को कंट्रोल करने में मदद मिलती है. हालांकि यह जड़ी बूटी पुरुषों के लिए कई शीघ्रपतन जैसी समस्याओं को दूर करने के लि‍ए काफी प्रचलित है. असल में जिनसेंग एक बूटी है. बहुत ही पुराने समय से इसका इस्तेमाल पारंपरिक चीनी (Chinese) चिकित्सा में होता आ रहा है. जिनसेंग में कई औषधीय गुण हैं. जि‍नके चलते अब यह पश्चिमी देशों में भी लोकप्र‍िय हो गई है. यह टेस्‍टोस्‍टेरोन (testosterone) को बढ़ावा देता है. जिनसेंग की चाय जिनसेंग की जड़ों से तैयार की जा सकती है. कई शोध इस बात को साबित कर चुके हैं कि जिनसेंग ब्लड शुगर कम करने में मददगार है. इसलि‍ए यह डायबि‍टीज को कंट्रोल करने में मददगार है. यह एजिंग के प्रभावों को भी कम करता है.

नोट: अपने आहार में किसी भी तरह का बदलाव करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें. डॉक्टर से सलाह के अनुसार ही आहार में बदलाव करें.

और खबरों के लिए क्लिक करें.

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement