NDTV Khabar

Chandra Grahan 2019: चंद्र ग्रहण 16-17 जुलाई को, जानें सूतक और चंद्र ग्रहण से जुड़ी ये बातें

16 जुलाई-17 जुलाई 2019 की मध्य में शुरू होने वाला चंद्र ग्रहण मंगलवार को रात 1 बजकर 32 मिनट से शुरू होगा और सुबह 4.30 तक रहेगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Chandra Grahan 2019: चंद्र ग्रहण 16-17 जुलाई को, जानें सूतक और चंद्र ग्रहण से जुड़ी ये बातें

Lunar eclipse 2019: 16 जुलाई को चंदग्रहण एक बजकर बत्तीस मिनट पर शुरु होकर सुबह 4:30 तक रहेगा.

Chandra Grahan 2019: साल 2019 में लगने वाले चंद्रग्रहण में से एक 16 जुलाई को लग रहा है. चंद्रग्रहण 2019 यानी जुलाई 2019 चंद्र ग्रहण का टाइम क्या होगा, सूतक कब लगेगा और इससे जुड़ी मान्यताओं के बारे में हम आपको बताते हैं. सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण का चित्र या दृश्य देखना हर किसी के लिए कोतुहल का विषय होता है. इस साल जुलाई माह में लगाने वाला चंद्रग्रहण 16 जुलाई को लग रहा है. यह चंद्रग्रहण 16/17 जुलाई की रात में 01:32 बजे से शुरू होकर 4:31 बजे तक रहेगा. अब आप सोच रहे होंगे कि चंद्रग्रहण 2019 में 16 जुलाई को लगने वाले इस ग्रहण का मध्य काल कब होगा, तो यह 3:08 बजे होगा. 16 जुलाई को गुरु पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण पड़ रहा है. 16 जुलाई को पड़ने वाले इस चंद्रग्रहण के चलते बदरीनाथ, केदारनाथ और गंगोत्री-यमुनोत्री धाम के कपाट शाम चार बजे बाद से बंद हो जाएंगे. ये दौबारा 17 जुलाई की सुबह खुलेंगे. साल 2019 का पहला चंद्र ग्रहण 21 जनवरी को लगा था. यह एक पूर्ण चंद्र ग्रहण था. इसे सुपर ब्लड मून का नाम दिया गया, क्योंकि इस दिन ग्रहण के दौरान चंद्रमा का रंग लाल हो जाता है. बताया जाता है कि इस अवधि के दौरान चंद्रमा धरती के काफी नजदीक होता है. इसके बाद पूर्ण चंद्र ग्रहण 29 मई 2021 में लगेगा.

Weight Loss: मॉनसून में कई किलो कम होगा वजन अगर खाएंगे जामुन

चंद्रग्रहण 2019: ग्रहण लगने का समय, सूतक और मान्यताएं

चंद्र ग्रहण 2019: सूतक का समय


शास्त्रों के अनुसार चंद्रग्रहण का सूतक नौ घंटे पहले लगता है. वहीं सूर्यग्रहण का सूतक 12 घंटे पहले लगता है. इस नियम के अनुसार - 

चंद्र ग्रहण 2019 में सूतक शुरू होने का समय - 16 जुलाई को 4 बजकर 25 मिनट से सूतक शुरु होगा. 
चंद्र ग्रहण 2019 में सूतक समाप्त होने का समय - सूतक खत्म होने का समय रहेगा 17 जुलाई सुबह 4:40 मिनट.

Monsoon Care: इस बरसात में पेट को आराम देने के लिए ट्राई करें खिचड़ी

कितने घंटे का होगा चंद्रग्रहण

चंदग्रहण 16 जुलाई को 1:32 मिनट पर शुरु होगा और सुबह 4:30 तक रहेगा. इस प्रकार ग्रहण का समय दो घंटे अठावन मिनट यानी तकरीबन तीन घंटे रहेगा.

कैसे करें 'सूर्य नमस्कार' से वर्कआउट, तस्वीरों में देखें योगासन के स्टेप

कैसे होता है चंद्रग्रहण

पूर्ण चंद्र ग्रहण तब लगता है, जब सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है और अपने उपग्रह चंद्रमा को अपनी छाया से ढक लेती है. चंद्रमा इस स्थिति में पृथ्वी की ओट में पूरी तरह छिप जाता है और उस पर सूर्य की रोशनी नहीं पड़ पाती है और पृथ्वी की प्रच्छाया उस पर पड़ने लगती है, जिससे उसका दिखना बंद हो जाता है. इसी खगोलीय घटना को चंद्रग्रहण कहा जाता है.

Sawan 2019: क्या है पंचामृत का महत्व, जानें इसे घर पर बनाने की विधि

चंद्रग्रहण से जुड़ी मान्यताएं 

1. माना जाता है कि चंद्रग्रहण के बाद किसी भी काम को करने से पहले नहा लेना चाहिए. 

2. ग्रहण के बाद घर की साफ-सफाई की भी मान्यता है. इसमें मंदिर की सफाई खास महत्व रखती है.

3. हिंदू मान्यता के अनुसार चंद्रग्रहण (Chandra Grahan) के दौरान भोजन नहीं करना चाहिए. लोगों में यह मिथ है या कहें कि मान्यमा है कि इस दौरान खाना खाने वाला इंसान करने वाला नर्क में जाता है.

4. मान्यता है कि ग्रहण के दौरान अगर पानी पीने की जरूरत है तो उसमें या तो तिल डाल लें या फिर कुश, दूब या तुलसी के पत्ते जरूर डाल लें.

5. ज्यादातर हिंदू घरों में ग्रहण प्रारंभ होने से पहले खाने के सामान, पानी और अन्य भोज्य पदार्थों में दूब या तुलसी की पत्तियां डाल दी जाती हैं. माना जाता है कि ऐसा करने से खाना अशुद्ध नहीं होता.

6. कहते हैं कि चन्द्र ग्रहण में तीन प्रहर पूर्व आहार नहीं लेना चाहिए

7. माना जाता है कि ग्रहण के बाद मूर्तियों और खुद को नहलाने के बाद पूरे घर में धूप-बत्ती कर शुद्धीकरण किया जाना चाहिए.

8. घर में या बाहर मौजूद तुलसी के पौधे को भी गंगाजल डालकर स्वच्छ करना चाहिए. 

भिंडी खाने के हैं शौकीन तो ट्राई करें भिंडी दो प्याजा की यह स्वादिष्ट रेसिपी

ग्रहण के दौरान व ग्रहण के बाद खाने से जुड़ी मान्यताएं

- इस दौरान हल्का सात्विक भोजन ले सकते हैं. जो पचने में आसान हो और पेट के लिए भी हल्के हों. इस दौरान खाने में आप मेवे ले सकते हैं. यह कम मात्रा में खाने पर भी शरीर को पूरी एनर्जी देंगे. 

- क्या ग्रहण के दौरान पानी पी सकते हैं? : इस दौरान पानी पीने से भी बचना चाहिए. क्योंकि न होने के चलते बैक्टिरीया एक्टिव होते हैं. अगर आप बीमार हैं या आप गर्भवती हैं तो आप हल्का गर्म पानी पी सकते हैं. इसमें 8-10 बूंदे तुलसी का जूस या पत्ते ड़ाल कर उबाल सकते हैं. इसके साथ ही अगर आप सादा पानी नहीं पीना चाहते तो नारियल का पानी पी सकते हैं. सबसे बेहतर यह होगा कि आप ग्रहण से पहले ही अच्छी मात्रा में पानी पी लें.

- ग्रहण के दौरान क्या न खाएं : मान्यता के अनुसार इस दौरान नॉन-वेज आहार बिलकुल नहीं लेना चाहिए. इस दौरान एल्कॉहोल, खमीर और हाई प्रोटीन फूड भी नहीं लेना चाहिए. यह पचाने में बहुत ही मुश्किल होता है.

टिप्पणियां

- ग्रहण के बाद क्या करें: ग्रहण के बाद आप अपनी सामान्य डाइट पर आ सकते हैं. इसके बाद फल खाना अच्छा साबित होगा. यह इसलिए अच्छा होता है क्योंकि फलों में काफी मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करेंगे और एनर्जी बूस्ट होगी.

और खबरों के लिए क्लिक करें



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement