NDTV Khabar

Janmashtami 2017: इस बार व्रत के दौरान साबूदाने से बनें ये पांच व्यंजन जरूर ट्राई करें

जन्माष्टमी का त्योहार नजदीक है और सभी श्रीकृष्ण के भक्तों ने अपने हिसाब से इस पर्व की तैयारी भी शुरू कर दी है. इस बार जन्माष्टमी का त्योहार 14 और 15 अगस्त को मनाया जाएगा।

69 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
Janmashtami 2017: इस बार व्रत के दौरान साबूदाने से बनें ये पांच व्यंजन जरूर ट्राई करें

खास बातें

  1. इस बार जन्माष्टमी का त्योहार 14 और 15 अगस्त को मनाया जाएगा.
  2. जन्माष्टमी के दिन मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिलती है.
  3. श्रीकृष्ण के भक्त इस पावन पर्व पर पूरे विधि-विधान के साथ उपवास रखते है.
जन्माष्टमी का त्योहार नजदीक है और सभी श्रीकृष्ण के भक्तों ने अपने हिसाब से इस पर्व की तैयारी भी शुरू कर दी है. इस बार जन्माष्टमी का त्योहार 14 और 15 अगस्त को मनाया जाएगा। जन्माष्टमी को भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में माना जाता है, हिन्दू कैलेंकर के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि श्रीकृष्ण का जन्म श्रावण मास के आठवें दिन यानि अष्टमी पर मध्यरात्रि में हुआ था. पूरे भारत में कृष्ण जन्माष्टमी का उत्सव बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। जन्माष्टमी के दिन मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिलती है. जन्माष्टमी के अवसर पर ज्यादातर लोग नंद गोपाल (लड्डू गोपाल) का दूध, शहद और पानी से अभिषेक कर उन्हें नए वस्त्र पहनाते हैं.

भगवान श्रीकृष्ण के भक्त इस पावन पर्व पर पूरे विधि-विधान के साथ उपवास रखते है. जन्माष्टमी से एक दिन पहले वह सिर्फ एक बार ही खाना खाते हैं. जन्माष्टमी के दिन भक्त पूरे दिन का व्रत रखने का संकल्प लेते हैं और अगले दिन यानि जब अष्टमी तिथि खत्म होती है तब अपना व्रत तोड़ते हैं. उपवास वाले दिन भक्त अन्न का सेवन नहीं करते हैं इसकी जगह वे फल, दूध और पानी का सेवन करते हैं, जिसे फलाहार कहा जाता है. कुछ लोग भगवान को खुश करने के लिए निर्जला उपवास भी रखते हैं. निर्जला उपवास करने वाले भक्त पूरा दिन अन्न और पानी का सेवन नहीं करते. भगवान को भोग लगाने के बाद ही वे अपना व्रत तोड़ते हैं.

जन्माष्टमी पर भगवान श्रीकृष्ण को 56 तरह के खाद्य पदार्थ भोग में चढ़ाए जाते हैं, जिसे छप्पन भोग कहा जाता है। भगवान को भोग लगने के बाद छप्पन भोग को सभी लोगों में बांटा जाता है यह प्रसाद ग्रहण करने बाद श्रीकृष्ण के भक्त अपना उपवास तोड़ते हैं. माना जाता है छप्पन भोग में श्रीकृष्ण के पंसदीदा व्यंजन होते हैं जिसमें अनाज, फल, ड्राई फ्रूट्स, मिठाई, पेय पदार्थ, नमकीन और आचार की श्रेणी में आने वाले आठ प्रकार की चीजें होती हैं.
 
krishna

जन्माष्टमी का व्रत रखने वालों को इस दिन अन्न या मसालेदार और नमकीन खाना खाने की अनुमति नहीं होती है. इसकी जगह वे लोग दिन में बिना प्याज, लहसुन और हल्दी के बनी हुई उबले आलू की सब्जी खा सकते हैं. इसके अलावा कई लोग साबूदाने की खिचड़ी और कट्टू और सिंघाड़े के आटे की पूरी भी खाते हैं. इतना ही नहीं आलू की टिक्टी, आलू पकौड़ा, कच्चे केले का वड़ा, सिंघाड़े के आटे का पकौड़ा, शकरकंदी की चाट, आलू चाट बिना मासले के ऐसे कुछ स्नैक्स हैं जिन्हें उपवास के दौरान खाया जा सकता हैं. हालांकि व्रत में दूध और चीनी का सेवन करने की अनुमति होती है इसलिए कई लोग दूध से बने व्यंजन जैसे साबूदाने की खीर और लौकी का हलवा भी खा लेते हैं.

इन दिनों साबूदाने से बने ऐसे कई व्यंजन बहुत ही लोकप्रिय हैं. इस बार जो लोग व्रत रखने का विचार कर रहे हैं और उनके मन में यह ख्याल आ रहा है कि वह अपना सारा दिन बिना खाने के कैसे निकालेंगे तो उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं हैं. यहां हम आपको साबूदाने से बने ऐसे ही कुछ व्यंजनों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनको आप व्रत के दौरान खा सकते हैं.

इस जन्माष्टमी साबुन दाने से बनें इन व्यंजनों को ट्राई कर सकते हैं.

साबूदाना खिचड़ी: साबूदाना में भरपूर मात्रा में स्टार्च और कार्बोहाइड्रेड होता है, जिससे व्रत के दौरान  खाने से आपको आवश्यक ऊर्जा मिलती है. साबूदाना खिचड़ी खाने में बहुत ही हल्की होती है, यह साबूदाना, मूंगफली, हरी मिर्च, सेंधा नमक और घी से बनाई जाती है. नीरू गुप्ता की रेसिपी 10 मिनट में साबूदाना खिचड़ी बनाने में आपकी मदद कर सकती है.
sabudanakhichdi

साबूदाना पापड़: व्रत के दौरान साबूदाना पापड़ को काफी पंसद किया जाता है, इस कुरकुरे पापड़ से आप अपनी भूख को शांत कर सकते हैं.
 

साबूदाना खीर: इस स्वादिष्ट डेसर्ट को लोग त्योहार के मौके पर बनाते हैं. साबूदाने के साथ इलाचली और केसर का एक अलग ही स्वाद आता है. नीरू गुप्ता द्वारा बनाई गई साबूदाना खीर की रेसिपी को देखकर आप भी इस बार जन्माष्टमी पर इसे ट्राई कर सकते हैं.
 
sabudanakheer

साबूदाना वड़ा: आलू और साबूदाना को मिलाकर बनाएं गए पकौड़े बेहद ही स्वादिष्ट होते हैं जिन्हें आप इस बार जन्माष्टमी के मौके पर बना सकते हैं.

साबूदाना टिक्की: साबूदाना टिक्की बनाने में बेहद ही आसान है. आलू को मैश कर लें और इसमें भींगा हुआ साबूदाना डालें, थोड़ी हरी मिर्च, सेंधा नमक और मसाले डालें. अपने हाथ से टिक्की की शेप दें और इन्हें फ्राई कर लें। इसे पुदीने की चटनी के साथ सर्व करें.
 
tikki


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement