Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Gaganyaan जाने वाले Astronauts को खाने में मिलेगा न्यूट्रीशन बार, बादाम और गरी... जानें पूरा मेन्‍यू

गगनयान (ISRO's Gaganyaan) में जाने वाले अंतरिक्ष यात्रियों के लिए डिफेंस फूड रिसर्च लैबोरेटरी (डीएफआरएल) ने विशेष प्रकार के पौष्टिक भारतीय व्यंजन तैयार किए हैं, जिससे वे सेहतमंद रहेंगे और उन्हें ऊर्जा भी मिलेगी. गगनयान (Gaganyaan) एक मानवयुक्त अंतरिक्षयान है. इस अंतरिक्ष कैप्सूल को तीन यात्रियों को ले जाने के लिए तैयार किया गया है. डिफेंस एक्सपो में डीएफआरएल ने पौष्टिक व्यंजनों (Food For Astronauts) की कई किस्में प्रदर्शित की हैं.

Gaganyaan जाने वाले Astronauts को खाने में मिलेगा न्यूट्रीशन बार, बादाम और गरी... जानें पूरा मेन्‍यू

गगनयान (ISRO's Gaganyaan) में जाने वाले अंतरिक्ष यात्रियों के लिए विशेष पौष्टिक भारतीय व्यंजन तैयार किए हैं.

गगनयान (ISRO's Gaganyaan) में जाने वाले अंतरिक्ष यात्रियों के लिए डिफेंस फूड रिसर्च लैबोरेटरी (डीएफआरएल) ने विशेष प्रकार के पौष्टिक भारतीय व्यंजन तैयार किए हैं, जिससे वे सेहतमंद रहेंगे और उन्हें ऊर्जा भी मिलेगी. गगनयान (Gaganyaan) एक मानवयुक्त अंतरिक्षयान है. इस अंतरिक्ष कैप्सूल को तीन यात्रियों को ले जाने के लिए तैयार किया गया है. डिफेंस एक्सपो में डीएफआरएल ने पौष्टिक व्यंजनों (Food For Astronauts) की कई किस्में प्रदर्शित की हैं. इन किस्मों को गगनयान में अंतरिक्ष (Gaganyan Latest News) यात्रियों में साथ भेजा जाना है, ताकि वे सेहतमंद रहें और उन्हें ऊर्जा मिलती रहे. हिंदुस्तानी अंतरिक्ष यात्रियों (Indian Astronauts) के लिए ऐसा खाना तैयार किया गया है, जो उन्हें अनोखा स्वाद देगा. उन्हें भोजन के साथ टेस्ट मेकर मसाले के पैकेट भी दिए जाएंगे. गगनयान मिशन (Gaganyaan Mission) में अंतरिक्ष यात्रियों को 60 किलोग्राम सूखा राशन और 100 लीटर पानी भी दिया जाएगा. मिशन के दौरान यात्रियों को खाने के लिए भोजन यहीं से भेजा जाएगा.

Banana For Diabetes: क्या डायबिटीज में पका हुआ केला खाना चाहिए? पके हुए केले का कैसे करें इस्तेमाल, जानें फायदे और नुकसान


क्या खाते हैं अंतरिक्ष में यात्री और क्‍या मिलेगा गगनयान में जाने वाले यात्रियों को खास 

इन तैयार व्यंजनों को अब जांच के लिए इसरो (ISRO's Gaganyan) भेजा जाना है. यह खाना विशेष डिस्पोजल पैकेजिंग मैटेरियल में पैक किया गया है, ताकि यह भोजन दूषित न हो. अंतरिक्ष यात्रियों को पैकेट फूड के अलावा न्यूट्रीशन बार, बादाम, गरी, आदि भी दिए जाएंगे, ताकि ब्रेक के दौरान वे इसे स्नैक के तौर पर खा सकें.

Lotus Root: कमल ककड़ी पेट की बीमारियां दूर करने, इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ देती है कई हैरान करने वाले फायदे, शुगर की बीमारी में भी कमाल है यह सुपरफूड!

अंतरिक्ष में खाना कैसे खाते हैं

डीएफआरएल के वैज्ञानिक ओ.पी. चौहान ने बताया, "हमारी प्रयोगशाला में तैयार ये खास भोजन लगभग एक साल तक खाने लायक रहते हैं. इसकी पैकिंग और बनाने में विशेष तकनीक का इस्तेमाल किया गया है. चटनी के लिए विशेष प्रकार के पाउडर बनाए गए हैं. जरूरत के हिसाब से ही उन्हें खाना मिलेगा. सॉफ्टी कटोरी और चम्मच भी बनाए गए हैं, जिन्हें भोजन के बाद चबाकर खाया जा सकता है. हम लोग प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं करते."

World Cancer Day 2020: जानलेवा हो सकता है पेट का कैंसर, जानें पेट के कैंसर के लक्षण, कारण, इन चीजों को खाने से खतरा होगा कम!


कैसे तैयार होगा अंतरिक्ष के लिए खाना

डिफेंस एक्सपो में ये व्यंजन बड़ी सावधानी से चुने गए. इन व्यंजनों में ब्रेड को नहीं चुना गया है. ब्रेड अंतरिक्ष में बिखर सकती है. इसके अलावा यात्रियों को कैलोरी कितनी देनी है, इसका भी ध्यान रखा गया है. इन व्यंजनों में एग रोल, वेज रोल, मूंग दाल का हलवा, समेत दर्जन से भी ज्यादा व्यंजनों को शामिल किया गया है. इसके अलावा एक फूड हीटर भेजा जाएगा, जो अंतरिक्ष यात्रियों को गर्म रखेगा.

Bhumi Pednekar ने खोला अपनी फिटनेस का राज, कहा मैंने कभी डाइटीशियन से नहीं ली राय...

पानी और जूस के लिए खास इंतजाम

डीएफआरल ने इन यात्रियों के लिए विशेष कंटेनर बनाए हैं, जिसका इस्तेमाल पानी और जूस रखने के लिए कर पाएंगे. अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण शून्य होती है, इस लिहाज से सारी व्यवस्था की गई है.

भारत 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर भारतीयों को अंतरिक्ष में भेजकर एक नया रिकार्ड बनाने जा रहा है. वर्ष 2022 के मुख्य मिशन से पहले भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो मानव रहित टेस्ट मिशन भेजने जा रही है, जिसकी शुरुआत इस साल के अंत में होने की संभावना है. भारत एक रोबोट को अंतरिक्ष में भेजने की तैयारी कर रहा है. इसके मुख्य मिशन में भारत तीन अंतरिक्ष यात्रियों को अपने गगनयान मिशन में भेजने वाला है. इसके लिए भारतीय वायुसेना के चार फाइटर पायलट को एस्ट्रोनॉट की ट्रेनिंग देने के लिए चुना गया है. वे फिलहाल रूस में ट्रेनिंग ले रहे हैं.

गौरतलब है कि डीएफआरएल की प्रयोगशाला में बने खाद्य पदार्थ कठिन परिस्थितियों में रहने वाले जवानों को पहले से परोसा जा रहा है. आर्मी, नेवी, एयरफोर्स के अलावा अन्य पैरामिल्रिटी फोर्स में जहां मुश्किल हालत होते हैं, वहां इसकी सप्लाई हो रही है. (इनपुट-आईएएनएस)

और खबरों के लिए क्लिक करें

Kiara Advani ने शेयर किया फेवरेट ब्रेकफास्ट मील, जो उन्हें रखता है दिनभर एनर्जेटिक!

ब्लड शुगर की बीमारी में भूलकर भी न खाएं ये चीजें, जानें शुगर लेवल कंट्रोल करने के लिए क्या खाएं क्या नहीं!

कॉफी में ये 2 चीजें मिलाकर सुबह करें सेवन, तेजी से कम होगा वजन, घटेगी पेट की चर्बी, तेजी से वजन घटाने का है नेचुरल उपाय!