Shardiya Navratri 2020 4th Day: नवरात्रि के चौथे दिन करें मां कुष्ठमांडा की आराधना, प्रसाद में लगाएं ये विशेष भोग, यहां जानें पूजा विधि, मंत्र और रेसिपी

Shardiya Navratri 2020 4th Day: मां कुष्ठमांडा ने अपने उदर से ब्रह्मांड को उत्पन्न किया था. माना जाता है जो भक्त मां के इस रूप की आराधना करते हैं, उनपर कभी किसी प्रकार का कष्ट नहीं आता.

Shardiya Navratri 2020 4th Day: नवरात्रि के चौथे दिन करें मां कुष्ठमांडा की आराधना, प्रसाद में लगाएं ये विशेष भोग, यहां जानें पूजा विधि, मंत्र और रेसिपी

मान्यता है कि मां कुष्मांडा संसार को अनेक कष्टों और संकटों से मुक्ति दिलाती हैं.

खास बातें

  • मान्यता है कि मां कुष्मांडा अनेक कष्टों और संकटों से मुक्ति दिलाती हैं.
  • माना जाता है कि मां कूष्‍मांडा को दही और हलवा अति प्रिय है
  • नवरात्रि के चौथे दिन मां कुष्मांडा की पूजा की जाती है.

Shardiya Navratri 2020 4th Day: नवरात्रि के चौथे दिन मां कुष्मांडा की पूजा की जाती है. अपनी मंद, हल्की हंसी के द्वारा मां कुष्ठमांडा ने अपने उदर से ब्रह्मांड को उत्पन्न किया था. माना जाता है जो भक्त मां के इस रूप की आराधना करते हैं, उनपर कभी किसी प्रकार का कष्ट नहीं आता. कुष्मांडा देवी को अष्टभुजा भी कहा जाता है. इनकी आठ भुजाएं हैं. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मां कुष्मांडा की पूजा करने से आयु, यश, बल और स्वास्थ्य में वृद्धि होती है. मां कुष्मांडा की विधि विधान से पूजा करने से मनोवांछित फल प्राप्त होते हैं. मान्यता है कि मां कुष्मांडा संसार को अनेक कष्टों और संकटों से मुक्ति दिलाती हैं.

मां कूष्‍मांडा को भोग में लगाएं ये खास रेसिपीः

माना जाता है कि मां कूष्‍मांडा को दही और हलवा अति प्रिय है जो भक्त मां की इन चीजों के साथ आराधना करते हैं इनपर मां सदा अपनी कृपा बनाए रखती है. मां कूष्‍मांडा का आशीर्वाद पाने के लिए आप इन खास रेसिपी का लगाएं भोग. रेसिपी के लिए यहां क्लिक करें.

Navratri 2020: नवरात्रि में इस बार ट्राई करें यह व्रत स्पेशल साबुदाना बोंडा- Recipe Video inside

halwa 625 singharaसिंघाड़े का हलवा स्वाद में बहुत ही टेस्टी होता है. 

मां कूष्माण्डा मंत्रः

या देवी सर्वभू‍तेषु मां कूष्‍मांडा रूपेण संस्थिता.
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

मां कूष्‍मांडा पूजा विधिः

नवरात्रि के चौथे दिन सुबह स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं. इसके बाद मां कूष्मांडा का स्मरण करके उनको धूप, गंध, अक्षत्, लाल पुष्प, सफेद कुम्हड़ा, फल, सूखे मेवे और सौभाग्य का सामान अर्पित करें. अब मां कूष्मांडा को हलवा और दही का भोग लगाएं. फिर उसे प्रसाद स्वरूप ग्रहण कर सकते हैं. पूजा के अंत में मां कूष्मांडा की आरती करें.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.   

 फूड की और खबरों के लिए जुड़े रहें.

जानें नवरात्रि के तीसरे दिन का महत्व, देवी चंद्रघंटा को किसका लगाएं भोग

Newsbeep

Benefits Of Makhana: स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है मखाना खाना, जानें ये 5 शानदार लाभ!

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Health Benefits Of Asafoetida: स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है हींग का इस्तेमाल, जानें ये 5 आश्चर्यचकित करने वाले लाभ